दोस्त ने जमकर चोदा और मेरी चूत में अपना सारा मॉल निकाल दिया

दोस्त ने जमकर चोदा और मेरी चूत में अपना सारा मॉल निकाल दिया

नमस्ते मेरा नाम आशिका है आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मुझे मेरे “दोस्त ने जमकर चोदा और मेरी चूत में अपना सारा मॉल निकाल दिया”

मैं एक गृहिणी हूँ; मैं बत्तीस वर्ष की हूं। मेरे स्तनों का आकार 32 है और मेरे कूल्हों का आकार 36 है। मैं एक भरे हुए शरीर वाली महिला हूं। मैं अपने बारे में इससे ज्यादा कुछ नहीं बता सकती.

हमेशा घर पर रहने के कारण मैं घर पर बोर हो जाती थी. इसलिए कभी-कभी मैं अपना समय घर पर टीवी देखकर या फोन पर बिताती थी। मैं अपने फोन पर फेसबुक, इंस्टाग्राम आदि चीजों से अपना मनोरंजन करती थी।

मैंने फेसबुक पर एक दोस्त बनाया जिसका नाम रोहन था। तो हुआ ये कि जिस दिन मैंने उससे पहली बार बात की तो उसकी बातें बहुत अच्छी थीं.

उन्होंने मुझसे भाभी कह कर ही बात कि और कोई गलत कमेंट या ऐसा कुछ नहीं किया. हमने काफी देर तक बातें कीं. उनकी बातों से मुझे लगा कि वह एक सज्जन और परिपक्व व्यक्ति हैं.

उसने मुझसे कहा कि भाभी अगर आपको कभी भी मेरी जरूरत हो तो आप मुझे बता सकती हो, मैं हमेशा आपके लिए हाजिर हूँ।

मैं वास्तव में उसकी बातों का आनंद ले रही थी कि एक लड़की या महिला हमेशा क्या चाहती है। कि उसका पार्टनर ऐसा इंसान हो जो हमेशा उसका ख्याल रखे और उसकी खुशी के लिए कुछ भी कर सके

और वही अपनापन मुझे उसकी बातों में नजर आ रहा था. हम और भी कई चीज़ों पर बात करने लगे. मैंने उसे अपना कॉन्टैक्ट नंबर भी दिया था.

हमने काफी देर तक फोन पर बात भी की. मुझे उससे एक लगाव सा हो गया था. ऐसा ही होता है, शुरू में मुझे उस पर भरोसा नहीं था लेकिन बाद में मुझे लगा कि वह बहुत अच्छा लड़का है

और मैं उससे खुलकर बात कर सकती हूं। वह कभी भी मेरा फायदा नहीं उठाएगा. फिर एक दिन ऐसे ही बातों-बातों में उसने मुझसे पूछा- भाभी आप मुझसे कब मिल रही हो? मैंने भी हंस कर कहा- जब आप कहें.

उसने मुझसे कहा- बताओ भाभी, मैं कब आऊं? मैंने उससे कहा- जैसे ही मैं घर पर अकेली रहूँगी. मैं तुम्हें बताऊंगी, तुम आजाना. वो बोला- ठीक है भाभी, जैसा आप कहें.

एक बार मेरे घर पर कोई नहीं था तो मैंने उसे अपने घर बुलाया। उस दिन मैंने उसे पहले ही बता दिया था कि उस दिन मेरे घर पर कोई नहीं होगा. उस दिन आने के लिए तैयार रहो.

जब हमारा आमना-सामना हुआ तो वो मुझे देखता ही रह गया. उसने मुझसे बहुत अच्छे से कहा- भाभी, आप बहुत खूबसूरत हो.

मैंने भी उसकी तरफ मुस्कुरा कर जवाब दिया- अच्छा, ऐसा है क्या… मुझे लगता था कि मैं बिल्कुल भी खूबसूरत नहीं हूँ. लेकिन उसने मुझसे कहा- नहीं, तुम बहुत खूबसूरत हो.

मैंने उस दिन लाल साड़ी और काला ब्लाउज पहना हुआ था. उसके लिए तो मानो मैं कोई फरिश्ती थी. फिर मैंने उसके लिए चाय बनाई. हमने साथ बैठकर चाय पी।

चाय पीने के बाद वो मेरे पास आकर बैठ गया. मुझे भी उस पर पूरा भरोसा था, मैंने उसे मना नहीं किया. फिर उसने धीरे से मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे हाथ को दबाने लगी.

मैंने बस अपनी आँखें बंद कर लीं। फिर उसने मेरे कान में कहा- भाभी, आप मुझ पर पूरा भरोसा कर सकती हो. क्योंकि मुझे उस पर विश्वास था; मैं उससे प्यार करने के लिए तैयार थी।

फिर उसने धीरे से मेरी साड़ी मेरे कंधे से उतार दी. मेरे नंगे कंधे और मेरा ब्लाउज और मेरा गोरा बदन उसके सामने थे। फिर वो मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ फिराने लगा।

उसने मेरे गाल पर चूमा. फिर उसने मेरे गालों को चूमा और मेरे होंठों पर आकर मेरे होंठों को चूसने लगा. मैंने खुद को उससे छुड़ाने की कोशिश की लेकिन उसने मुझे बहुत कसकर पकड़ लिया.

फिर मैंने भी ज्यादा मना नहीं किया और कुछ देर बाद उसका साथ देने लगी. उसने मुझे खड़ा किया और मेरी साड़ी मेरे बदन से अलग कर दी. फिर उसने धीरे-धीरे एक-एक करके मेरे कपड़े उतारना शुरू कर दिया।

कुछ ही देर में उसने मुझे पूरा नंगा कर दिया. और ये सब प्यार में चल रहा था. बीच-बीच में वह मुझसे प्यार करता और फिर मेरे कपड़े उतार देता।

फिर उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरे पूरे शरीर को चूसने लगा. वो मेरे बड़े बड़े मम्मे मुँह में लेकर चूस रहा था। मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैं उसके बालों में अपनी उंगलियाँ फिरा रही थी।

चूमते-चूमते वो नीचे मेरी चूत तक आ गया और मेरी चूत को मुँह में लेकर चूसने लगा। मुझे चूत चटवाने में बहुत मजा आता है.

और वह उसे पूरा खाने के लिए तैयार था। मैं भी अपनी गांड उठा उठा कर उसका साथ देने लगी. वो मेरी चूत में अपनी जीभ पूरी अन्दर तक डाल कर चूस रहा था.

पता नहीं उससे मुझे क्या हो गया था, मैं इतनी उत्तेजित हो गई कि मैंने उसे अपने ऊपर से हटाया और बिस्तर पर लेटा दिया और उसका लिंग अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।

काफी देर तक लंड चूसने के बाद मैं लेट गयी और वो मेरे ऊपर आ गया. और उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

आज मैं अपने एक अनजान दोस्त के साथ सेक्स कर रही थी, मैंने अपना शरीर उसे सौंप दिया था। हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए थे, खूब चूमा-चाटी कर रहे थे।

वो मेरे पूरे बदन को चाट रहा था. वो कभी मेरे बूब्ज़ चूस रहा था तो कभी दबा रहा था। और बीच बीच में वो मेरे होठों को चूम रहा था.

फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत चोदने लगा और बहुत तेज धक्के लगाने लगा. मुझे बहुत आनंद मिल रहा था, आज जिस तरह का सेक्स मैंने सोचा था वो मेरे साथ हो रहा था।

और बीच-बीच में वो मेरे कूल्हों पर हल्के से थप्पड़ भी मार देता था. वो मेरी कमर को भी चूम लेता था. फिर उसने धक्को की स्पीड इतनी बढ़ा दी कि मुझे दर्द होने लगा तो धक्के शुरू होते ही मैं पेट के बल लेट गयी.

लेकिन उसने मुझे नहीं छोड़ा, वो मेरे पूरे शरीर को भर कर ऐसे ही चोदने लगा. अब मुझे मजा आ रहा था. फिर उसने मेरी गर्दन पकड़ कर मेरा चेहरा अपने मुँह की तरफ कर लिया और मेरे होंठों को चूसने लगा.

कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैं फिर से सीधी हो गई और वो फिर से मेरी चूत में धक्के लगाने लगा. हमने फिर से सेक्स करना शुरू कर दिया.

उसका लंड मेरी चूत में पूरा अंदर तक जा रहा था. मैंने भी मजे के मारे अपनी टाँगें पूरी उठा कर उसकी कमर पर रख दीं। मुझे मजा आने वाला था तो मैंने उससे कहा- रोहन, मैं झड़ने वाली हूं.

वो बोला- कोई नहीं भाभी, मैं भी झड़ने वाला हूं. तो मैंने उससे कहा- नहीं, अन्दर मत डालना. आपने कंडोम भी नहीं पहना है. उसने मुझसे कहा- तो क्या हुआ भाभी, दवाई ले लेना.

लेकिन प्लीज मुझे अन्दर करने दो, मैं बाहर नहीं करना चाहता. मेरा मजा ख़राब हो जायेगा. मैंने उससे कहा- ठीक है, ऐसा करो!

वो फिर से मेरे बदन को चूमने चाटने लगा और मेरी चूत में धक्के लगाने लगा. मैं झड़ने ही वाली थी, मेरा शरीर अकड़ने लगा। मैंने उसे पूरी तरह से अपनी बांहों में भर लिया जैसे कि मैं जीवन भर उससे ऐसे ही चिपका रहना चाहती हूं।

और मैं उसके लिंग से स्खलित हो गई लेकिन उसका अभी तक स्खलन नहीं हुआ था। तो वो और जोर जोर से धक्के लगाने लगा.

मुझे इस तरह खुद से चिपक कर तड़फते हुए और झड़ते हुए देख कर वो भी झड़ गया और अपना सारा वीर्य मेरी चूत में छोड़ दिया.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds