दोस्त की बीवी लंड की प्यासी

दोस्त की बीवी लंड की प्यासी

आज मैं आपको अपनी कहानी बताने जा रहा हूं जो कि दोस्त की बीवी लंड की प्यासी थी। ऐसी और अधिक भारतीय सेक्स कहानियों को हिंदी और अंग्रेजी में पढ़ने के लिए वाइल्ड wildfantasystory.com पर जाएं।

मेरा नाम शैलेश है, बात उस समय की है जब मैं 19 साल का था। मेरे पदोष में एक लड़के की शादी हुई थी उसका नाम राजन था । नितेश का कद और वजन ज्यादा नहीं था लेकिन उसी की पत्नी बिलकुल उससे अलग थी, मस्त फिगर, ऐसा लगता है जैसे मानो ब्लाउज को फड़कर बहार निकल जाएगा। लंबी चौडी, मस्त फिगर। देवर भाभी नॉनवेज चुटकुले मेरे दोस्त की बीवी का नाम Kangana Arora है। जो मेरे लंड़ की प्यासी है।

नितेश उन दिनों दिल्ली में नौकरी करता था शादी के कुछ दिन बाद ही दिल्ली चला गया। नितेश के घर में सिर्फ उसकी बूढ़ी मां और उसकी हॉट पत्नी अकेले रहती थी। हम नितेश के घर अक्सर गया करते थे और और घंटो उसकी पत्नी से बात करते थे पर मेरे मन में कभी भी कोई ख्याल नहीं आ रहा था बस मैं भाभी बोलता था और गुप्तप का ही आनंद लेता था।

एक दिन मैं कॉलेज से आया और थोड़े ही डर में नितेश के घर चला गया वहां जाने के बाद पता चला की नितेश के मां अपने मयके गई हुई है लेकिन हमें कोई फर्क नहीं पड़ा। मैं वैसे ही बात चीट कर के वापस आ रहा था लेकिन नितेश की पत्नी एक दम दरवाजे के चुखत पे ही बैठी हुई थी।

जैसे ही मैं काम से बाहर निकलने लगा, भाभी ने मेरा लंड छू लिया और हुस्न लगी, मैंने बोला ये गलत बात है, जैसे मैंने ये बोला ये गलत बात है वो “उठ कर खड़ी हो गई और क्या कहा” गलत” और वो तो मेरे लंड को पक्का ली और जोर से हुस्न लगी।

इसे भी पढ़े – बहन को चुदने की बड़ी प्यास लगी
मैं तो कुछ डर के लिए तो सहम गया उसके बाद तो क्या बताउ दोस्तो जब वो मेरा लैंड पकड़ी हुई थी वो थोड़ा झुकी हुई थी, उसका सादी उसके कांधे से गिरा हुआ था। उसके ब्लोज से उसके मस्त चूच गोल गोल दिख रहा था, मेरे तो होशो हवा खोटा चला गया।

मैं झटके के उनसे अलग हो गया और उनको पीछे से कास के पकड लिया वो भगने की कोशीश करने लगी और कहने लगी हुस्ते ऐसे ऐसे मत करो ऐसा मत करो, मैं दार से छोड दिया क्यों की आज तक मैंने और आज एक दम से चूच दबने का ही मौका मिल गया था।

जैसे ही मैंने उन्को छोड़ा उन्होन कहा छोडने किसने कहा और भगने लगी, मैंने झट से दौड़कर उनको पक्का लिया और पीछे से उनके चूच को दबने लगा और कांधे को पीछे से भी गाल को चुना लगा।

अब तो मेरे लैंड सत्वे आसमान पे था मेरे रोम रोम सिहर रहा था मैं पागल हुए जा रहा था। इतने में मैं कहा “इससे कुछ नहीं होगा क्या आप हम कुत्ते चोदने के लिए” उन्होन तुरंत ही जबाव दिया हा। और हम दोनो ने रात की चुदाई को ठीक कर लिया।

मैं तो रात होने का इंतजार करने लगा मैं जल्दी ही खाना खा के अपने बिस्तर पर चला गया और इंतजार करना लगा की सब लोग इतने जाए। जब रात को करीब 10 बजे होंगे मेरे गांव में इस समय तक सारे लोग सो जाते हैं। मैं धीरे से उठा और चौर तराफ देखा कोई है तो नहीं।

फिर मैं उनके घर के तरफ गया उनका घर मेरे घर के सामने ही था, देखा उनका दरवाजा बंद था मैं फिर खिड़की से झंक के देखा तो एक धिमी धिमी लाइट किया दीपक जल रहा था और वो चारपाई पे सोया था। “दोस्त की बीवी लंड की प्यासी

इसे भी पढ़े –दोस्त की छोटी बहन को चोदा अपने घर लेजाके

मैं 3-4 पत्थर के छोटे छोटे टुकड़े उठे और खिड़की से ऊपर फेकने लगा आखिरी पत्थर से वो एक दम से जग गई और मुझे देखी। फिर वो उठा कर धीरे से दरवाजा खोली तो देखा के उनके आंगन में पढ़ो की एक चाची सोई हुई थी।

मैंने पुछा ये कौन है तो उन धीरे से बोलि की बगल में ये बुद्धी रहती है मां जी ने में ये सोने के लिया कहा, फिर मैं चुपके से दबे पौं उनके कर्म में चला गया। कामरे में जाते ही वो दरवाजा बंद कर दी और मुझे चुन लेगा और कस के पक्का ली।

उनका सादी उनके कांधे से गिर चुका था और हम चुमे जा रहा था और मैं भी पगलो की तरह कभी इधर कभी उधार चूम रहा था और उनको बहो में दबा रहा था। फिर वो अपना ब्लाउज का हुक खोल दी मैंने पीछे से उनका ब्रा खोल दिया, ओह्ह्ह्ह्ह् क्याआआआआ बटाउ। “दोस्त की बीवी लंड की प्यासी

दोस्त पहली बार किसी चूच को देखा था। पागल हो रहा था सांस तेजी से बढ़ रहा था मैंने उनके चूच के पके हुए लगा वो तो पागल होने लगी। OHHHHHHH AAAAAAAH OHHHHHHH, KYAAAA KARHE HO PAAAGAL HOO KAYAAAA MAR GAYI MAI AAAA MAAAAA MAT KARO ASAAA PLEASSSS STOP PLS STOP 

फिर वो जमीं पे ही देर गई क्यों की चारपाई पे डर था की कही वो आवाज ना करने लगे और बहार बाली चाची जग जाए। वो जमीं पे देर से गई और मैं हमें होतो को तो कभी चूच को कभी पेट को चुम्ने लगा। वो बस उउउउउउह आआआआह करे रही थी माई तो मनो जन्नत में था।

फिर मैंने उनका रेड कलर का पैंटी पहनी हुई थी वो मैंने खोल दिया क्या शेप था यार, पूरा बदन ऐसा लग रहा था मानो संग मार मार का हो। फिर क्या था मैंने भी अपना लुंड निकला कर घुसने के कोशिश करने लगा पर पता नहीं चल रहा था किधर जाएगा क्यों की आज तक मैंने बुरा (छोड़) नहीं देखा। “दोस्त की बीवी लंड की प्यासी

इसे भी पढ़े –एक वर्जिन लड़के साथ डोमिनेटिंग भाभी

फिर वो मेरे लुंड को खुद ही पकाड़ पे अपने चुत के पास ले गई और मैंने एक ढका दिया और लुंड मेरा पूरा उनके छू में चला गया, उसके छोट की गरमी मैं आज भी महसूश करता हूं पूरा गरम मैं के तहत क्या और क्या था बहार जोर से और वो भी अपने कमर को उठा उठा के ढाका दे रही थाई मैं खूबसूरत छोटा उनको और करीब 45 मिनट तक करने के बाद दोनो खालश हो गए।

थोड़े डर तक तो हम दोनो ऐसे ही एक दसरे को पकाड़ के पद रहे फिर उठकर दोनो ने कपड़े पहनने, उनका आखिरी शब्द यही था आज याहि सो जाओ लेकिन ये संभव नहीं था मैं वहा से वापास आ गया। फिर उसके बाद मैं नौकरी के लिए दिल्ली आ गया और बस अब तो याद ही है जब भी जाता हूं तो अब ना तो मेरे सामने आने नहीं ना मैं कुछ बोल पाता हूं। बस ख़्वाब में मुँह कर देता हूँ उस दिन को याद करके।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds