दोस्त की बीवी को चोदा जब दोस्त घर पर नहीं था

दोस्त की बीवी को चोदा जब दोस्त घर पर नहीं था

दोस्तो, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपने “दोस्त की बीवी को चोदा जब दोस्त घर पर नहीं था”

मैं मुंबई से हूँ। वैसे मैं शादीशुदा हूं और मेरी शादीशुदा जिंदगी भी बहुत अच्छी है. मेरी खूबसूरत पत्नी के साथ मेरे दो बेटे भी हैं।

आज मैं यहाँ कहानी लिख रहा हूँ जिसमें कैसे मेरे दोस्त की पत्नी ने मुझे चोदने के लिए उकसाया। और जो नहीं होना चाहिए था वो हो गया. क्योंकि शरीर की इंद्रियों पर किसी का कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

दोस्तों ये बात करीब डेढ़ महीने पहले की है. मेरा दोस्त, जिसका नाम रोहन है, एक होटल में मैनेजर है और मेरे घर से करीब आधा किलोमीटर दूर किराये के मकान में रहता है.

चूँकि वह मेरा दोस्त था इसलिए मैं कभी-कभी उसकी आर्थिक मदद भी कर देता था। इसी लेन-देन के बहाने मेरा उसके घर आना-जाना था।

उसकी बीवी आशिका… आह… कसम से क्या लड़की थी वो… बस एक बार देख लो, बार-बार देखते रहो। आशिका बहुत जवान लग रही थी.

उसका शरीर बहुत अच्छा था। उसकी भूरी आँखें झील की तरह गहरी थीं… फिगर साइज़ 34-32-36। उसके उठे हुए मम्मे, पतली कमर और कसी हुई गांड.

जब वो अपनी गांड उघाड़ कर चलती थी तो अच्छे से अच्छे मर्दों का लंड खड़ा हो जाता था. कमाल की बात यह है कि इतनी मस्त मॉल होने के बावजूद मैंने कभी आशिका को बुरी नजर से नहीं देखा.

क्योंकि मुझे लगा था कि आशिका मेरे दोस्त की पत्नी है.. लेकिन वो मेरे बारे में क्या सोचती है, इसका मुझे अंदाज़ा नहीं था।

हालाँकि रोहन की शादी को 3 साल हो गए थे, लेकिन उनकी कोई संतान नहीं थी। मैं जब भी उससे इस बारे में पूछता था तो वह हर बार हंसकर टाल देता था.

एक दिन सुबह मैं उसके घर गया और दरवाजे की घंटी बजाई। मुझे रोहन के साथ महत्वपूर्ण काम करना था। उसकी पत्नी ने दरवाज़ा खोला और मैंने आशिका को देखा, उसने सफ़ेद रंग का गाउन पहना हुआ था।

उसमें से उसकी ब्लैक स्टेप और ब्लैक पेंटी साफ दिखाई दे रही थी. उस दिन उसे पहली बार देखकर मेरे मन में हलचल मच गई. शायद वो भी समझ गयी थी कि मेरा ध्यान कहाँ है.

वो बोली- हाँ भैया, बताओ… आप इतनी सुबह कैसे आ गए? उसकी आवाज़ से जैसे मैं जागा, मैं बोला- रोहन घर पर है! वो बोली- हां, यही है, सो रहा है.

उसने मुझे अन्दर बुलाया और बैठाया, एक गिलास पानी दिया और चाय बनाने को कहा और अन्दर रसोई में चली गयी। उसके 34 साइज के मम्मे देख कर ही मेरी हालत खराब हो गयी थी.

किसी तरह मैंने खुद पर कंट्रोल किया, लेकिन मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था, जो ऊपर से साफ दिख रहा था. इतने में आशिका चाय ले कर आ गयी.

उसने मुझे चाय दी और खुद मेरे सामने बैठ कर चाय पीने लगी. हालाँकि मैं चाय पी रहा था लेकिन मेरी नज़र बार-बार उसके स्तनों पर जा रही थी।

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वो मुझे उकसा रही है या उसके मन में कुछ और है. मैंने आशिका से रोहन को बुलाने के लिए कहा तो उसने कहा- तुम मुझे काम बताओ, मैं उसे बता दूंगी.

तब मैंने कहा- रोहन ने कुछ समय पहले मुझसे पैसे लिए थे तो मुझे पैसों की जरूरत थी इसलिए मैं लेने आया हूँ। आशिका बोली- ठीक है.. मैं उन्हें बता दूंगी. आप शाम को आकर अपने पैसे ले जाना.

इतना बोलकर वो मुस्कुराने लगी और फिर मैं भी अपने घर वापस आ गया. घर आकर मैंने सबसे पहले आशिका की चुदाई को याद करके मुठ मारी, तब जाकर मेरे शरीर को कुछ शांति मिली.

मुझे दिन में रोहन मिला. शायद वह कहीं बाहर जा रहा था. इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता, वह आया और बोला- शाम को घर जाकर पैसे ले लेना.

मैं आशिका को देकर आ गया. मैं दो दिन के लिए शहर से बाहर जा रहा हूँ. अगर कोई दिक्कत हो तो ध्यान रखना।

मैंने कहा- ठीक है. अब मैं सोचने लगा कि शायद आज शाम को मुझे आशिका की चूत चोदने का मौका मिलेगा.

किसी तरह मैंने पूरा दिन बिताया और शाम को रोहन के घर पहुंच गया. मैंने दरवाजे की घंटी बजाई. जैसे ही आशिका ने दरवाज़ा खोला तो मैं तो उसे देखता ही रह गया.

उन्होंने ब्लैक कलर की साड़ी पहनी हुई थी. मैं कसम खाता हूँ कि वो बहुत अच्छी लग रही थी। उसने मुझे अन्दर बुलाया और ड्राइंग रूम में सोफे पर बिठाया और खुद मेरे सामने बैठ गयी. मैं बस आशिका को देख रहा था.

आशिका बोली- क्या हुआ भाई? जैसे ही मैं गहरी नींद से जागा. मैंने कहा- कुछ नहीं लेकिन आज तुम बहुत सुंदर लग रही हो।

वो मुस्कुराई और बोली- वो तुम्हें पैसे देने के लिए कह कर गए हैं कि तुम पैसे लेने आओगे. मैंने कहा- हां, जरूरत थी तो रोहन को बता दिया.

मैं आशिका से बात तो कर रहा था लेकिन मेरी नजर बार-बार उसके स्तनों पर जा रही थी। मेरा मन कर रहा था कि उसे पकड़ कर कुचल दूँ, लेकिन मैं क्या कर सकता था?

उधर नीचे मेरा लिंग अपना पूरा आकार ले चुका था। आशिका भी सब कुछ देखकर भी अनजान बन रही थी. वो बोली- क्या घूर कर देख रहे हो?

न जाने किस आवेग में मैंने उसके स्तनों की ओर इशारा करते हुए कहा- मैं इन्हें देख रहा हूं. आशिका ने अपना पल्लू हटाया और अपने मम्मे ऊपर उठाकर बोली- इनमें ऐसी क्या खास बात है?

उसने मुस्कुराते हुए ये बात कही. उसकी इस हरकत से मैं समझ गया कि बंदी चुदाई के लिए तैयार है. मैंने कहा- अगर आप इजाजत दें तो बता दूं. वो मुस्कुराई और हाँ में सिर हिलाया।

मैं उसके पास जाकर बैठ गया और आशिका की तरफ देखने लगा और धीरे-धीरे अपने होंठ उसके होंठों की तरफ बढ़ाने लगा।

आशिका ने अपनी आँखें बंद कर लीं, मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगा और एक हाथ उसकी पीठ पर फिराने लगा।

कुछ देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी और हम एक-दूसरे के होंठों को जोर-जोर से चूसने लगे। मैं उसकी पीठ को सहलाते हुए उसकी गर्दन के बायीं ओर चूमने लगा।

वो अपने मुँह से हल्की-हल्की कराहें निकालने लगी. धीरे-धीरे मैं अपना एक हाथ नीचे उसके स्तनों पर ले गया और ब्लाउज के ऊपर से उन्हें दबाने लगा।

क्या मुलायम स्तन थे उसके. फिर मैंने उसकी साड़ी को उसके शरीर से अलग कर दिया और फिर से उसके स्तनों को दबाता रहा और चूमता रहा और वह अपने मुँह से ‘ऊह हहह आह आह स्स्स्स्स्स्स्स्स्स..’ की आवाजें निकालती रही.

मैं आशिका के बदन को अपने हाथों से सहला रहा था और उसे पागलों की तरह चूम भी रहा था. वो मदहोश होने लगी थी.

धीरे-धीरे मैंने आशिका का पेटीकोट ऊपर उठाया और उसकी जाँघों को सहलाते हुए उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा।

उसने ख़ुशी के मारे मेरे लिंग को कस कर भींच लिया। मेरे मुँह से कराह निकल गयी. फिर मैंने उसका ब्लाउज और ब्रा दोनों उतार दिये.

उसके स्तनों को देखकर मेरी वासना और भड़क उठी और मैं अपने दोनों हाथों से उसके स्तनों को प्यार से मसलने और दबाने लगा। आशिका मजे के मारे ‘आह आह आह आह..’ करने लगी.

वो बोली- ओह भाई … और जोर से दबाओ. मैं उन्हें प्यार से दबाने लगा. वो भी बड़े प्यार से मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड को दबाने लगी.

फिर मैंने आशिका के होंठों को फिर से चूमना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से उसके पेटीकोट की डोरी खींच कर उसे खोल दिया और उतार दिया. अब मैं उसके सामने उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से ही दबा-दबा रहा था।

मैंने अपनी शर्ट और बनियान दोनों उतार दी. मैंने आशिका को फिर से चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसके स्तनों को सहला रहा था।

इसके बाद मैं थोड़ा नीचे आया और अपने होंठ उसके स्तनों के सामने ले आया। मैं उसके एक स्तन के निप्पल को अपनी जीभ से सहलाने लगा और उसे अपने होंठों के बीच दबाने, खींचने और छोड़ने लगा। वह खुश हो गई।

इधर मैं दूसरे की जोर जोर से मालिश करने लगा. फिर उसने दूसरे स्तन को अपने मुँह में ले लिया और अपनी जीभ से उसके स्तन को सहलाने लगा।

ऐसा करने से वो उत्तेजित होने लगी और बड़े प्यार से मुझे अपने स्तन पिलाने लगी. मैंने उसके निपल्स को मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगा.

मैं काफी देर तक उसके दूध चूसता रहा. वो मेरे सिर को सहलाते हुए ‘स्स्सीइइइइ स्स्स्सी…’ करने लगी और मेरे लिंग को जोर-जोर से दबाने लगी।

फिर आशिका ने मेरा मुँह वहां से हटा दिया और मेरे होंठों को चूसने लगी. उसके हाथों में इतनी ताकत थी कि मैं चाह कर भी अपना चेहरा नहीं हटा पा रहा था.

फिर उसने एक ही बार में मेरी पैंट और मेरा अंडरवियर उतार दिया और मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और ऐसे चूसने लगी जैसे बहुत दिनों से भूखी हो.

खैर आशिका बड़े मजे से मेरा लंड चूस रही थी. वह लिंग के सिर को अपने पतले होठों के बीच खींच कर चूस रही थी।

वह अपनी जीभ से मेरे लिंग के सिर को चूस रही थी और उसे पूरा मुँह में ले रही थी जैसे कि वह लिंग नहीं बल्कि नरम आइसक्रीम चूस रही हो।

मैं उसके इस बर्ताव को ज्यादा देर तक बर्दाश्त नहीं कर सका और मेरे लंड ने सारा लावा उसके मुँह में उड़ेल दिया. आशिका ने एक एक बूंद चूस ली, लेकिन इसके बावजूद वो मेरा लंड चूसती रही.

कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. फिर मैंने आशिका को सोफे पर बैठाया और उसके मम्मों को दबाने और चूसने लगा. कुछ देर बाद उसके मम्मों को चूसते हुए मैंने आशिका की पैंटी उतार दी और उसकी चूत को सहलाने लगा.

फिर जैसे ही मैंने उसकी चूत के क्लिटोरिस को अपनी जीभ से सहलाया, तो वो बस ‘उउइइइ आह आह आह आह स्स्सिइ..’ करने लगी. मैं उसकी चूत को चाटने लगा.

उसकी चूत से लगातार नमकीन स्वादिष्ट पानी निकल रहा था जिसे मैं चूसते हुए चाट रहा था. तभी आशिका ने मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा दिया और अपनी गांड हिलाने लगी.

वो तेजी से अपनी चूत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी. मैं भी पूरी तरह से चूत चूसने में लगा रहा. उसने उसकी चूत की दोनों फांकों को पूरा अपने मुँह में दबा लिया और उन्हें चूसने लगा.

आशिका बोली- अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो … मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. मैंने बिना समय बर्बाद किये उसे थोड़ा आगे की ओर खींचा और उसकी दोनों टाँगें अपने कंधों पर रख लीं।

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर टिकाकर एक ही बार में पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में उतार दिया. उसकी एक मीठी सी आह निकली और उसने पूरा लंड चूस लिया.

मैं अपना लंड उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। वो भी मेरी कमर पकड़ कर मुझे अपनी चूत की तरफ खींच रही थी.

वो मस्ती में बोल रही थी- आह चोदो मुझे और तेजी से चोदो… फाड़ दो मेरी चूत और… सस्स्स्स्स्स्स्स आह आह आह उह उह आह..

मैं भी उसे गालियां देकर चोदता रहा. लंड अपनी पूरी रफ़्तार से आशिका की चूत बजा रहा था. आशिका बोली- मैं तुम्हारे लंड के दर्शन करना चाहती हूँ. फिर मैं रुक गया.

उसने मुझे सोफ़े पर बिठाया और अपनी चूत को लंड पर सेट करके सोफ़े को पकड़ कर बैठ गई और ऊपर-नीचे होने लगी। वो बोली- आह आह भाई… रोहन ने मुझे कभी ऐसे नहीं चोदा… आह आह आह!

मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और उसके स्तनों को चूसने लगा. इस तरह आशिका सससीईई सससीईई करते हुए लंड पर और ज़ोर से कूदने लगी.

कुछ देर बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया और पच पच पच.. की आवाजें आने लगीं. उसकी स्पीड कम हो गई थी तो मैं नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर उसे चोदने लगा.

मैं भी पूरी स्पीड से चोदने में लगा हुआ था. तभी मैं भी झड़ने वाला था. मैंने कहा- चलो अंदर का भ्रम दूर कर दूं. वो बोली- हाँ भैया, मुझे बाहर निकालो, मुझे अपने बच्चे की माँ बना दो।

शादी को 2 साल से ज्यादा हो गए हैं. बहुत कुछ सुनना पड़ेगा. फिर मैंने अपने लंड का सारा लावा उसकी चूत में भर दिया. हम दोनों ने एक दूसरे को कस कर अपनी बांहों में पकड़ लिया.

जब वह थोड़ी सामान्य हुई तो अलग होकर बाथरूम में जाकर खुद को ठीक किया और रसोई से मेरे लिए चाय लेकर आई। चाय पीने के बाद हम दोनों ने एक राउंड और लिया. इस बार मैंने उसे घोड़ी बनाकर खड़ा करके चोदा।

उसके बाद जब भी रोहन बाहर जाता तो मैं आशिका की चूत को अपने लंड की सैर कराता. कुछ दिनों के बाद उसने मुझे बताया कि वह गर्भवती है। वो भी खुश थी और मैं भी.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds