अस्पताल में आये मरीज की बेटी को डॉक्टर ने चोदा

अस्पताल में आये मरीज की बेटी को डॉक्टर ने चोदा

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “अस्पताल में आये मरीज की बेटी को डॉक्टर ने चोदा” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम विकास है। और मैं इस कहानी का नियमित पाठक हूं और आज मैं आपको अपना पहला सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूं।

बात साल 2011 की है, जब मैं मेडिकल की पढ़ाई के लिए उदयपुर के एक कॉलेज में था। मेरे यहां एक मरीज भर्ती हुआ था

उसकी जान बचाने के लिए हमने दिन-रात एक किए और वह भी ठीक हो गया।

शुरुआत में उनके साथ एक रिपोर्टर लड़की भी थी, जो आकर बेवजह झगड़ा करती थी

और उसकी कजिन आशिका जो उस मरीज की बेटी थी, को भी यह बात बिल्कुल पसंद नहीं थी।

जब इलाज शुरू हुआ और मरीज ठीक होने लगा तो उसकी बेटी आशिका को लगा कि उसकी रिपोर्टर बहन ने गलत व्यवहार किया है

तो उसका लगाव मेरे प्रति बढ़ने लगा। अब मैं आपको अपने बारे में बता दूं कि मेरी उम्र 28 साल है और हाइट 5 फीट 11 इंच है, लंड का साइज 8 इंच है।

अब आशिका को मुझसे लगाव होने लगा था, वो प्यार में उसकि आँखो से ही देख सकता था, लेकिन शुरुवात में नहीं करना चाहता था। फिर मैंने उसे अनसुना कर दिया।

फिर अगले दिन वो मेरे लिए अपने हाथ का बनाया हुआ खाना ले आई और हमने साथ में बैठकर खाना खाया

उसके बाद मैं अपने ड्यूटी रूम में चला गया। फिर रात 11 बजे उसका फोन आया कि उन्हें अपने पिता के बारे में बात करनी है।

फिर मैंने कहा कि मैं आकर मिलूंगा, तो उसने कहा कि जगह बताओ, वह खुद आएगी, तो मैंने उसे ड्यूटी रूम में बुलाया।

अब वह आकर मेरे सामने बैठ गई। वह 23 साल की थी और कद 5 फीट 4 इंच था, उनका फिगर 36-30-36 था।

वह बहुत ही हॉट और सेक्सी थी। अब वह आती है और बात करती है। फिर लास्ट में बाहर जाने के लिए खड़ी होती है

और कहती है कि डॉक्टर साहब मेरे भी पेट में दर्द हो रहा है, आप खुद चेक कर लीजिए।

फिर मैंने कहा कि एक और महिला को साथ ले आओ, हम जांच करेंगे.

फिर उसने कहा, हम तुमसे डरते नहीं हैं, तुम जो कुछ भी जांचना चाहते हो, ठीक से करो।

फिर मैंने मना किया, लेकिन वह नहीं मानी और यह कहकर मरीज टेबल पर लेट गई।

अब जब वो लेटी तो मेरे होश उड़ गए, अब उसके कपड़े बहुत टाइट फिट थे और मैं उसके पिंक कलर के टॉप से उसके बूब्स साफ देख सकता था

जैसे बड़े-बड़े कच्चे आम हों और सफेद कलर की लेग्गी में उसकी जांघें साफ दिख रही थीं.

फिर मैं जैसे ही उसके पास गया तो उसने अपना हाथ छूकर बताया कि उसे यहां दिक्कत है

और मेरा हाथ पकड़कर वहीं रख दिया और कहा कि ठीक से चेक कर लो।

फिर मैंने अपने हाथ से जाँचने के लिए उसके पेट को दबाया और देखा कि वह छूने में बहुत नरम था।

फीर धीरे-धीरे वो मेरा हाथ अपनी ब्रा तक ले गयी और फीर बोली कि अब सारा में खुद ही दिखाउंगी क्या?

और कहा कि सारी समस्या यहीं से शुरू हुई और यहीं दबा दो। अब मैं सब कुछ समझ चुका था।

फिर मैंने उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स को महसूस करना शुरू किया, उसके बूब्स क्या थे?

जैसे कोई रबर की गेंद को दबा रहा हो। फिर मैंने उसके दोनों बूब्स दबाए

अब वो पूरी तरह से नशे में थी और सुबक रही थी. अब वह कहने लगी कि तुमने मेरे पिता को जीवन दिया है

और अब तुम मेरी जान ले लो और उसने कहा कि मैं तुमसे प्यार करती हूं। फिर वो खड़ी हुई और मुझसे लिपट गई

अब मैं उसके निप्पलों को महसूस कर सकता था। फिर मैंने उसे किस करना शुरू किया और उसके होठों पर एक लंबा किस किया।

तब मैं ने उसे लिटा दिया, और उसके पीछे लेट गया। फिर मैंने उसके बालों को उसकी पीठ से हटा दिया और वहाँ पर चूमने और लीक करने लगा।

अब वो मदहोश हो रही थी और साथ ही वो उसके बूब्स को भी अपने हाथ से दबा रहा था. फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और अब मैं उसके कानों को चूम रहा था

और अपना एक हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर रख दिया. अब मैं उसकी गर्दन पर किस करने लगा।

अब मैंने उसे गले से पेट तक किस किया। अब मैंने उसका पैर हटा दिया। फिर मैंने उसकी चूत को पहली पेंटी के ऊपर से दबाना शुरू किया

पहले तो मैंने चूत के चारों ओर दबाया और फिर बाद में पूरी चूत को दबाने लगा. अब उसके इशारे से मेरे हाथ गर्म हो गए थे

अब उसने मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और उसे महसूस करने लगी.

फिर जब उसने मेरा अंडरवियर उतार कर देखा तो इतना बड़ा लंड देखकर वो खुश हो गई.

अब उसे थोड़ी चिंता हुई कि अंदर कैसे जाएगा? फिर वो जल्दी से मेरे लंड को चूसने लगा.

अब वो मेरे पूरे लंड को इतनी अच्छी तरह अपने मुँह में ले रही थी कि मैं 10 मिनट के अंदर स्खलित होने के लिए तैयार था.

तभी मैंने अपना लंड उनके मुँह से निकाल लिया. अब वो मेरे अण्डों को भी दबा कर चूस रही थी।

अब मेरी बारी थी। फिर मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसकी चूत को देखने और सूंघने लगा।

फिर मैंने अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिए और वो पागल हो गई, आईईइ आइ हहिईिइ आईईईई आईईईईईईई और अपनी जाँघों में मेरा सिर दबाने लगी।

अब मैं उसकी चूत को अपने दांतों से काट रहा था और अब वो ये सब सह नहीं पा रही थी और लगातार मौन करने लगी

आ ओह आ आ आह बबैय्याही यही जानूउउउउ सर आह ओह प्लीज सर आआह, मैं मर जाऊंगी प्लीज, तुम सच में मेरी जान ले लोगे और और एक बार झड़ गयी.

फिर मैंने उसका पानी पिया और उसने मेरे लंड को पकड़ कर हिलाना शुरू कर दिया.

फिर वो कहने लगी कि ये मेरा है और मैं इसी से चुदूंगी, ये मेरी ही है और टांगें फैलाकर अपनी चूत दिखाने लगी.

उसकी चूत बहुत छोटी थी, उस पर छोटे-छोटे बाल थे. फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत के दरवाज़े पर रख दिया, तो वो बोलीं प्लीज सर, प्लीज अब चोदो.

फिर मैंने जोर लगाना शुरू किया, अभी मेरा लंड अंदर गया ही था कि उसे दर्द होने लगा.

अब मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसे चूमता रहा और और लंड को वहाँ ही रहने दिया.

अब मेरा लंड भी धीरे धीरे उसकी कसी हुई चूत में अपनी जगह बना रहा था.

अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर था, मानो उसकी चूत ने उसे पूरी तरह से घेर लिया हो.

फिर मैं इनसाइड आउट करने लगा तो वो मस्ती करने लगी। अब वो सेक्स का लुत्फ उठा रही थी

और बोली कि आज तुम मेरे पति हो और मुझे वेश्या की तरह चोदो.

फिर मैंने धक्के मारने शुरू कर दिए आह आह उउउउइइइइइइइइइइइइर्इइइइइइइइइइइइ, और मारो, जमकर मारो, चोदो इस चुत को प्लीज।

अब मैंने उसकी टांगें अपने कंधों पर रख लीं और उसे और भी गहरा चोदा।

अब वो 3-4 बार झड़ चुकि थी। अब मदहोशी में उसे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था।

अब चुदाई करते हुए 30 मिनट बीत चुके थे और आज उसकी चूत पूरी खुल चुकी थी.

फीर उसने मुझे अपना पानी उसके मुँह में छोड़ने को बोला और उसने वो सारा पानी पी लिया.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds