पड़ोसन दीदी के साथ हॉट चुदाई की कहानी, भाग- 1

पड़ोसन दीदी के साथ हॉट चुदाई की कहानी, भाग- 1

ऑनलाइन सेक्स स्टोरी में पढ़िए कि एक युवा लड़का क्या करता है जब उसके मन में सेक्स को लेकर जिज्ञासा होती है, सेक्स करने की लालसा होती है।

सभी लड़कों और लड़कियों को नमस्कार।

मेरा नाम शुभम है और मेरी उम्र 22 साल है, इसलिए मेरी सेक्स स्टोरी भी नई सोच के साथ नई पीढ़ी के विषय पर होगी।

आज मैं जो कहानी लिखने जा रहा हूँ वह बहुत पहले शुरू हुई थी, जब मैं स्कूल में था। मुझे उस समय सेक्स के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी।

उस वक्त मेरे पास सिर्फ एक Android फोन था, वह भी सस्ता, जिसमें फोटो भी ठीक से क्लिक नहीं हो पाते थे। उसमें भी मैं ज्यादातर गेम खेलता था और गाने सुनता था क्योंकि उस वक्त तक मैंने कहीं भी पोर्न या सेक्स स्टोरी शब्द भी नहीं सुना था।

मेरे सारे दोस्त भी बहुत सभ्य और पढ़े लिखे थे और सब अपनी मस्ती में रहते थे। हमें सेक्स आदि के बारे में कुछ नहीं पता था।

फिर एक रात ऐसा हुआ कि मैंने गूगल खोल रखा था और मैं बिस्तर पर लेटा हुआ था।
मेरी बहन मेरे साथ सो रही थी।

मैंने अचानक सोचा कि क्यों न ऑनलाइन सेक्स को गूगल में सर्च किया जाए, देखते हैं क्या आता है?
मैंने तुरंत सेक्स लिखकर सर्च किया तो बहुत सारी बातें सामने आईं। मेरे सामने कई साइट्स आ गई थीं।

मैंने कुछ खोला और देखा,
अधिकतर यह था कि लड़कियां बिकनी में और तरह-तरह के सेक्सी पोज में थीं।
लड़के और लड़की की एक दूसरे से चिपकी हुई कामुक तस्वीरें थीं।
इतनी उम्र में पहली बार किसी को बिस्तर पर अर्धनग्न देखकर लगा जैसे कोई खजाना मिल गया हो।

हालांकि आजकल 19-20 साल के युवाओं के लिए सेक्स करना भी कोई बड़ी बात नहीं है।
लेकिन मेरी सेक्स स्टोरी पढ़कर उन्हें भी पता होना चाहिए कि पहले चूल्हे में आग जलाना यानी चूत में लंड डालना कितना मुश्किल होता था.

उस पूरी रात 3 बजे तक मैं वही खोजता रहा।
मैंने बहुत तरीकों से लिखकर खोजा। जैसे कि
teacher student ki chudai
piyasi bhabhi ki chudai
‘सेक्स फोटो और वीडियो’
‘लड़की के प्राइवेट पार्ट की तस्वीर’
Punjabi Sex Stories

लेकिन मुझे वह नहीं मिल रहा था जो मैं देखना चाहता था।
उस समय नेट पैक भी 5 रुपये के कूपन के साथ आता था, हम उसे रिचार्ज करते थे और यह भी नहीं पता था कि स्टोरेज या रैम क्या है।

फिर मैं उस रात सो गया क्योंकि मुझे सुबह स्कूल जाना था।

अगली रात मैंने फिर से उसी की खोज शुरू कर दी
उस रात मैंने शुरुआत में ही सेक्स वीडियो लिखकर एंट्री की।

अभी मेरी खोज चल ही रही थी कि जब एक घंटा बीत गया तो कुछ पता नहीं चला
फिर स्क्रॉल करते हुए अचानक एक चमत्कार हुआ, मेरी आंखों के सामने एक लड़की नंगी पानी में लेटी हुई थी, दोनों टांगें बाथ टब में फैली हुई थीं और उसके बड़े-बड़े बूब्स ऐसे लग रहे थे, जैसे आसमान में दो सूरज एक साथ आ गए हों.

यह देखते ही मैंने तुरंत फोटो सेक्स पर क्लिक कर ली और उस तस्वीर को सेव कर लिया। ज़ूम इन करने के बाद वह अपनी आँखें फाड़-फाड़ कर सब कुछ देखने लगा।
वाह क्या सीन है। दूध देखकर ऐसा लग रहा था जैसे यह लड़की अभी फोन से निकलकर मुझे दूध पिलाने आएगी।

करीब 15 से 20 मिनट तक उसे निहारने के बाद मैंने सोचा कि यहां तो इतना कुछ है, आगे खोजूंगा तो पूरी दुनिया मिल जाएगी।
मैंने उस तस्वीर पर लिखे शीर्षक के लिए ऑनलाइन खोज की।

बस फिर क्या था, तेरा भाई निकल गया।

उस समय तो मुझे हस्तमैथुन करना भी नहीं आता था, लेकिन मुझे लंड खड़ा करना आता था।
मैं बस साइट को देखता रहा और धीरे-धीरे मुझे सब कुछ मिलने लगा।
नंगी लड़कियों के फोटो, वो भी बहुतायत में…और सेक्स के वीडियो भी मिलते थे.

मैं बहुत खुश था कि क्या कहूं।
मैंने उस 2जी युग के दौरान 3जीपी में वीडियो डाउनलोड करना शुरू कर दिया था।

एक वीडियो 4 एमबी का होगा, वह भी 3 मिनट का। इसे डाउनलोड करने में आराम से 10 से 15 मिनट लग जाते थे।
तब तक मैं इंतजार करता, पेज डिलीट भी नहीं करता… बस डाउनलोड की स्पीड देखता।

फिर जैसे ही डाउनलोड होता मैं तुरंत बिना आवाज के देखना शुरू कर देता… क्योंकि फोन तो था पर हैडफोन नहीं था।

ये काफी देर तक चलता रहा और इसी बीच मैंने इंट्यूशन पर सेक्स स्टोरीज पढ़ना शुरू कर दिया।

सेक्स स्टोरी के खजाने के बारे में मुझे उसके एक साल बाद पता चला।
जैसे ही मुझे पता चला, तब तुम समझ लेना कि मैं कई रातों से सोया नहीं। वह सुबह 4 बजे, कभी-कभी सुबह 5 बजे तक कहानियां पढ़ते थे।

जब मम्मी या पापा उठते हैं, तो मैं उठकर अपने फोन को देखता हूं, ताकि उन्हें पता न चले, इसलिए मैं सो जाता था।

अगर आप जानना चाहते हैं कि मैंने फिस्टिंग कैसे सीखी तो कमेंट करके बताएं कि इसकी कहानी बहुत ही रोमांचक है।
अगर मैं इसमें जाऊं तो यह कहानी लंबी हो जाएगी।

और जैसे हर बार सारा वीर्य चूत में नहीं निकलता है, एक छोटी लड़की को भी खिला देना चाहिए, उसी तरह सारा मज़ा एक कहानी में नहीं डाला जा सकता… क्योंकि अगर आप 5 या 7 लंड एक साथ चूत में डालते हैं ,वेश्या बन जाएगी ना। तो अगर आप जानना चाहते हैं तो कमेंट करें मैं दूसरी कहानी में बताऊंगा।

फिर जब तक मैं 12वीं क्लास में पहुचा, मैं सेक्स एजुकेशन में मास्टर बन चूका था।
मुझे बस एक ऐसी लड़की चाहिए थी जिसके साथ मैं सेक्स का लुत्फ़ उठा सकूँ।

स्कूल में भी एक-दो लड़कियां लाइन देती थीं और एक मुझे प्रपोज भी करती थी, लेकिन भाई को क्लास की टॉप गर्ल का एटीट्यूड पसंद आ जाता था।
लेकिन हर कोई उनका पीछा कर रहा था, लेकिन मैं उनसे जुड़ा हुआ था।

ये सब हुआ मेरे निकम्मे दोस्तों की वजह से, तुझे देख वो हँस रही थी।
यह कहकर मुझे उसके पीछे बिठा दिया गया।

ये इस वजह से हुआ कि जिसने मुझे प्रपोज किया था वो भी हाथ से निकल गयी और जिस भाभी को मैंने प्रपोज किया वो पहले ही किसी और की जागीर निकली।
कम से कम इतना तो समझ लो कि तुम्हारे भाई पर संकट आ गया।

स्कूल खत्म होते-होते कुल मिलाकर फलसफा यह निकला कि आम गिनने के चक्कर में गुठली भी हाथ नहीं आती थी।
अब क्या करें… घर के आसपास भी कोई लड़की नहीं रहती थी। और भी थे… लेकिन वो मुझसे उम्र में बड़ी थी इसलिए मैं सीधे उसके पास नहीं जा सकता था या उसे किसी भी तरह से ये नहीं कह सकता था कि दीदी, मुझे आपके साथ सेक्स करना है.

फिर कहाँ थी हिम्मत? किसी को बोल दिया होता तो इज्जत ही नहीं होती…और घर वाले ही तोडफ़ोड़ करते वो ड्रामा कुछ और होता.

अब मुझे कॉलेज में प्रवेश मिल गया।
तारीख आते ही मुझे कॉलेज शुरू करना था।

एक दिन उसी तारीख के इंतजार में घर पर अकेली थी।

मैं हॉल में टीवी ऑन करके अपने कमरे में व्यस्त था। सारे कपड़े उतार कर वह तकिए के साथ मस्ती कर रहा था क्योंकि तब वही एक सहारा था।

तभी मुझे लगा कि कोई आया है तो मैंने तुरंत अपने कपड़े पहने और तेजी से भागा।

मैंने बाहर देखा तो मेरे घर से सड़क के दूसरी तरफ एक लड़की थी। मैं उसे शहनाज़ बुलाता था, वह आ गई।
वह बहुत मस्त लग रही थी, सबके साथ बहुत दोस्ताना व्यवहार करती थी। यह कैजुअल स्टाइल था और सबसे अच्छी बात यह है कि वह शर्मीली नहीं थी, यानी वह बहुत कम शर्मीली थी।

जब आई तो जींस और टी-शर्ट पहनकर आई।
उनका वही ड्रेसिंग स्टाइल था। मुझे उसके होंठ सबसे ज्यादा पसंद आए।

मैंने कहा- क्या हुआ?
शहनाज़ दी- कुछ नहीं, सृष्टि कहां है?

वह मेरी बहन सृष्टि की दोस्त थी, इसलिए उससे पूछ रही थी।
मैं- वह अपने माता-पिता के साथ बाजार गई है।

शहनाज़ दी- अच्छा तो तुम घर पर अकेली हो?
मैं- हां, क्यों? क्या तुम्हें मेरी बहन से कोई काम था या तुम्हें कुछ चाहिए?

शहनाज़ दी- हां, वो फूल वाले पौधे चाहिए थे, लेकिन सृष्टि नहीं है तो रहने दो।
मैं- हां, मैं भी फूलों के बारे में नहीं जानता।

शहनाज़ दी- अच्छा, वैसे तुम क्या कर रहे थे?
जब टीवी चल ही रहा था तो मैंने कहा- मैं टीवी देख रहा था।

शहनाज़ दी- क्या चल रहा है, मैं भी साथ में देखती हूं, वैसे भी मैं घर पर बोर हो रही थी, इसलिए यहां आ गई, लेकिन यहां भी बात नहीं बनी।
मैं- ठीक है आओ फिर साथ में देखते हैं।

शहनाज़ दी ने चलते चलते कहा- अकेले बोर नहीं होते?
मैं- हां, लेकिन मुझे क्या करना चाहिए?

शहनाज़ दी- वो भी है, पर चलो आज हम दोनों साथ हैं ना… खूब मस्ती करेंगे।
घर के अंदर आकर हम दोनों सोफे पर बैठ गए।
मैंने उससे चाय या पानी के लिए भी नहीं कहा, मैं कितना बेवकूफ था।

हम दोनों टीवी देखने लगे।
वह मुझसे 3 साल बड़ी थीं, इसलिए मैं उन्हें दीदी कहकर बुलाता था।

शहनाज़ दी तब 23 साल की थीं और मैं 18 साल का।
उस समय तक दोपहर हो चुकी थी। करीब 12:30 बज रहे थे। मैं चुपचाप उसके पास बैठ गया।

तभी शहनाज़ ने कहा- अरे, मुझे इस मूवी में मजा नहीं आ रहा है। मुझे रिमोट दो, मैं एक अच्छी फिल्म लगाऊंगा।
मैंने उसे रिमोट दिया तो वह चैनल बदलने लगी।

सारे चैनल देखने के बाद एक क्राइम और रोमांस फिल्म आ रही थी,
उसने कहा- देखते हैं, मजा आएगा।

हम दोनों उसे देखने लगे।

वारदात को अंजाम देकर एक लड़का-लड़की शव को कहीं ले जा रहे थे। वे शव को दफना कर आ रहे थे तभी वहां बारिश होने लगी।
जिसकी हत्या की थी वह लड़की को परेशान कर रहा था, इसलिए उसने ऐसा किया था।
अब दोनों उसे मारकर खुश थे।

बारिश शुरू होते ही दोनों एक दूसरे के गले लग गए और किस करने लगे.
उनके गले लगते ही मेरे अरमान बढ़ने लगे कि आज अचानक शहनाज़ दीदी मेरे साथ चलचित्र देखने लगी हैं। वो भी ऐसे ही हॉट हो रही होगी.

मुझे उस समय विश्वास नहीं हुआ क्योंकि सब कुछ पहली बार था।
वो सारे किसिंग सीन और सब कुछ खत्म होने के बाद भी शहनाज़ वहीं बैठी रही। मैं भी साथ में चुपचाप बैठा रहा।

उस वक्त मेरे दिल की धड़कन जोर-जोर से धड़कने लगी कि अब जब शहनाज़ दी मुझसे कुछ कहे और मैं उस पर टूट पड़ूं।
तभी शहनाज़ दी ने मेरी तरफ देखा और बोली- क्या हुआ शुभम? आपको शर्म तो नहीं आ रही है ना?
दी ने हंसते हुए पूछा था।

मैं- नहीं ऐसा कुछ नहीं है!
शहनाज़ दी- अच्छा, फिर सच-सच बताओ, जब मैं आया थी तो तुम क्या कर रहे थे?

मैं- अरे मैं टीवी देख रहा था!
हालाँकि मैं सब कुछ बताना चाहता था कि मैं कई सालों से चूत के लिए तड़प रहा हूँ, लेकिन जब तक मुझे उसका इशारा नहीं मिला तब तक मैं बेबस था।

शहनाज़ दी- अच्छा ये तो बात है, फिर जब आप बाहर खड़े थे तो बाद में दौड़े-दौड़े आए, फिर पायजामे में क्या चल रहा था…और इतना बड़ा नीचे क्या था? सच सच बताओ वरना मैं तुम्हारी माँ को सब कुछ बता दूंगी।

मैंने डरते हुए कहा – नहीं बहन, मैं तुम्हें सब कुछ बता दूंगा, लेकिन तुम किसी से कुछ नहीं कहोगे, वादा करो!
शहनाज़ दी- हां बाबा ठीक है, अभी बोलो?

मैं- नहीं दीदी, मैं अपने कमरे में पोर्न देख रहा था…और तकिये से सेक्स कर रहा था.
मेरे इतना बोलते ही शहनाज़ दी जोर से हंस पड़ीं और बोलीं- तकिये से सेक्स कौन करता है? हा हा हा हा।

मैंने तुरंत कहा- करता हूं। कोई न मिले तो क्या करूँ… अब तुमसे तो नहीं हो सकता न?
मैं भावुक हो गया।

शहनाज़ दी- अरे यार रो मत, मेरी बात सुन!
मैं- क्या, तुमने बच्चे को रुलाया न?

शहनाज़ दी- अच्छा जी, कौन बच्चा है यहां?
मैं हूं

शहनाज़ दी- अच्छा बच्चा है और सेक्स भी करना है… वो भी मेरे साथ?
मैं- मैंने कब कहा कि मुझे तुमसे क्या लेना-देना है?

शहनाज़ दी- अभी तो तुमने कहा कि तुम्हारे साथ…
मैंने थोड़ा सा कहा कि मैं इसे करना चाहता हूं, मैं इसे आपके साथ नहीं कर सकता, है ना?

शहनाज़ दी- अच्छा मतलब अगर मैं हाँ कहूँ तो करोगे?
मैं- सपने मत दिखाओ प्लीज!

शहनाज़ दी- अरे हद होती है हाथ पकड़ कर तो देखो।
इतना कहकर उसने तुरंत अपनी पहनी हुई टी-शर्ट उतार दी और मेरा हाथ पकड़कर अपने दूध पर रख दिया।

ऑनलाइन सेक्स खोज कहानी का अगला भाग: पड़ोसन दीदी के साथ हॉट चुदाई की कहानी, भाग- 2

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds