ढोंगी बाबा सेक्स स्टोरी- हमारे गांव का ढोंगी बाबा जो था बहुत बड़ा चोदू

ढोंगी बाबा सेक्स स्टोरी- हमारे गांव का ढोंगी बाबा जो था बहुत बड़ा चोदू

इस ढोंगी बाबा सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि एक गांव में एक बाबा अपने तरीके से इलाज करता था। इलाज की आड़ में उसने बच्चियों और बहुओं के साथ क्या किया?

आज मैं एक नई कहानी लिख रहा हूँ।

यह ढोंगी बाबा सेक्स स्टोरी करीब 15 साल पहले की है। उस समय चिकित्सा की इतनी सुविधा नहीं थी। गाँव में एक-दो डॉक्टर ही थे; वह ज्यादा पढ़ा-लिखा भी नहीं है।
कोई विचित्र रोग होता तो उस रोग का नाम दिया जाता था जैसे ऊपरी हवा, झाट, भूत का साया।

लोग इलाज के लिए साधु महाराज के पास जाते थे क्योंकि वह गुरुकुल में दवा के बारे में भी पढ़ते थे और कई मानसिक और शारीरिक बीमारियों का इलाज करते थे।
उस साधु महाराज को बाबा का नाम दे दिया।

अब सब बाबा एक जैसे नहीं थे; कुछ पाखंडी भी हुआ करते थे। जो इन साधु संतों की तरह कपड़े पहन कर ही पैसा कमा लेते थे और अपनी कामवासना की आग को बुझा देते थे।

गाँव से थोड़ी दूर एक झोपड़ी में एक बाबा रहते थे।
वह गांव में आटा, दूध, माखन भीख मांगकर गुजारा करता था।
गाँव में एक-दो लोगों को कोई न कोई बीमारी थी और बाबा ने उन्हें ठीक कर दिया।
तो सभी उसे भूत-प्रेत का आदर देने लगे और उसे मंदिर ले आए।

मंदिर के पीछे एक पुराने मकान में उनके ठहरने की व्यवस्था की गई।
अब गांव के कई मरीज बाबा के पास जाने लगे हैं।

बाबा कोई का इलाज करा देते। कुछ ठीक होते… कुछ नहीं… लेकिन बाबा ने किसी को दोष नहीं दिया।
गांव की रहने वाली 20 वर्षीय युवक रचिता उर्फ रज्जो काफी दिनों से बीमार चल रही थी।

उसे डॉक्टर को दिखाया लेकिन वह ठीक नहीं हुई।
तो किसी ने रज्जो की माँ से कहा कि एक बार बाबा को मंदिर का दर्शन करा दो!
कि कहीं किसी भूत का साया ना हो।

तो वह लज्जित होकर बाबा के पास गई।

बाबा मंदिर की सफाई में लगे थे। जब बाबा ने उसे मंदिर के पीछे जाकर प्रतीक्षा करने को कहा तो वह बाबा के घर आ गई।

कुछ देर बाद बाबा भी आ गए।
उसने पूछा- माँ क्या परेशानी है?
तो माई ने सारा किस्सा कह सुनाया।

बाबा ने उसे थोड़ा समझाया और रज्जो से बातें करने लगे।
कुछ पूछने पर उसने राख की गठरी बनाकर उसे दे दी।
फिर कहा- माँ, एक-दो दिन इसी समय ले आओ।
तो मां ने उसे हां कर दी।

Delhi Escort Services

अब रचिता अगले दिन भी बाबा के पास गई।
उसने उससे फिर बात की।

दो-चार चलते रहे।

फिर एक दिन बाबा ने रचिता को सामने बिठाया और उसकी माँ को दूर रखी खाट पर बैठने को कहा।
तो रचिता की माँ कुछ दूर रखी खाट पर बैठ गयी।

बाबा रज्जो से कहने लगे – बालक भूख लगी है क्या ?
रचिता – हाँ बाबा !

बाबा – घर में कोई चिंता की बात है क्या ?
रचिता- नहीं बाबा, सब ठीक है।

बाबा- क्या तुम शादीशुदा हो?
रचिता- नहीं बाबा, अभी ऐसा नहीं हुआ।

बाबा- ऐसा लगता है?
रचिता – हाँ बाबा !

बाबा के लगातार प्रश्न करने के कारण रचिता कुछ सोच न सकी और बस बातें करती रही।
लेकिन अब इतना कहने के बाद वो थोड़ी शर्मा गई।

बाबा- हाँ, अब जब तुम जवान हो तो तुम्हें ऐसा करने का मन हुआ होगा। क्या आप अभी तक किसी से मिले हैं?
रचिता गर्दन झुकाए बैठी रही;

बाबाः बच्चे, तुम किसी से मिले हो या अभी तक कुँवारी हो?
अब रचिता अपनी माँ की ओर मुड़ी। वह कुछ दूर बैठी थी और उसे देख रही थी लेकिन उसकी आवाज नहीं सुन रही थी।

बाबा- माई हमारी नहीं सुनेगी। बताओ, तुम वर्जिन हो या नहीं?
रचिता ने सिर झुका कर हाँ कह दिया।

तो बाबा ने कहा – तुम्हारी बीमारी का पता चल गया है।
रचिता – अच्छा बाबा।

बाबा- हां, इलाज तो मिल गया है, लेकिन करना बहुत मुश्किल काम है।
रचिता- बाबा, आप जो चाहेंगे मैं करूंगा। बस मुझे बताओ!

बाबा- बेटी इलाज की पहली शर्त है कि तुम ये बात किसी को नहीं बताओगी।
रचिता- ठीक है बाबा, मैं किसी को नहीं बताऊं।

बाबा- तो ध्यान से सुनो! रात को जब आप पेशाब करने के लिए उठें तो अपने हाथ और चेहरे को अच्छे से धो लें और जिस जगह पर आप पेशाब करते हैं उस जगह पर एक मूली या एक गाजर मलें।
रचिता- ठीक है बाबा।

अब रचिता घर आ गई।
वह घर में मूली ढूंढ़ने लगी पर नहीं मिली तो उसने एक मोटी गाजर उठाई और रसोई में छिपा दी।
फिर रात होने का इंतजार करने लगे।

जैसे ही सब सो गए, रचिता ने रसोई से गाजर उठाई और घर के पीछे मूत्रालय में चली गई।
उसने पेशाब किया और फिर गाजर को अपनी चूत पर रगड़ने लगी।

थोड़ी देर बाद उसे मजा आने लगा, फिर वह जोर से रगड़ने लगी।
अगर जरा सी भी गाजर उसकी चूत में घुस जाती तो भी वो उसे रगड़ती रहती।

फिर उसकी चूत से पानी छूट गया और उसे बहुत अच्छा लगा।
इसलिए वह वापस आकर सो गई।

कुछ दिन रात तक वह गाजर मूली को अपनी चूत पर रगड़ती रही। कभी-कभी अंदर डाल देती और पानी निकालती रहती।
अब घर में सब सामान्य दिखने लगे।
यानी वह अब ठीक है।

फिर कुछ दिन बाद रचिता अपनी माँ के साथ बाबा से मिलने गयी।
माँ-बाबा, कमाल कर दिया आपने। यह सब ठीक है।

बाबा- माँ ये तो भगवान की दया है। वह सब कुछ करता है!
माँ-बाबा लो, मैं तुम्हारे लिए खाना लाया हूँ।

बाबा ने वह भोजन रखवा दिया और कहा – माता, अब किसी अच्छे लड़के को देखकर उससे विवाह कर लो !
मां- हां बाबा, हम पहले शादी कर लेते। लेकिन वह बीमार थी। उसका रंग भी पीला पड़ गया था। लेकिन अभी करेंगे।
शादी की बात सुनकर रचिता शरमा गई।

बाबा- माँ, इसे सुबह किसी मंदिर में भेज दो… पूजा करनी पड़ेगी कि अच्छा घर मिल जाए।
मां- अच्छा बाबा, कल से ही आ जाऊंगी।

अगले दिन जब रचिता प्रात:काल ही पूजा करने आई तो बाबा ने उसे देखा और लौटते समय उसे मंदिर में चलने का इशारा किया।
वह चली गई।

बाबा वहां अकेले थे।
बाबा- अब कैसी हो बिटिया?
रचिता – मैं अब ठीक हूँ बाबा !

बाबा-बेटी अब थोड़ा और इलाज करना पड़ेगा।
रचिता- ठीक है बाबा बताओ क्या करना है?
बाबा- ठीक है, अंदर आ जाओ।

अत: रचिता बाबा के साथ अन्दर चली गयी।

बाबा ने उसका हाथ पकड़कर सामान रखने को कहा और स्वयं द्वार बंद कर लिया।

तो बंद दरवाजे को देखकर रचिता डर गई- बाबा आपने दरवाजा क्यों बंद कर लिया।
बाबा- कुछ इलाज अकेले ही करना पड़ता है। मैंने उस दिन भी बताया था।

रचिता अब समझ गई और चुप हो गई।

बाबा- चलो, अब नाडा खोलो।
रचिता ने ज्यादा नहीं सोचा और अपनी सलवार का नाडा खोल दिया।
बाबा ने कहा – वहीं रख दो और वहीं खाट पर लेट जाओ।
रचिता अपनी सलवार उतार कर लेट गई।

बाबा ने अब रचिता की चूत पर हाथ रखा और उसे सहलाने लगे.
तो रचिता को मज़ा आने लगा।

बाबा- कैसी लग रही हो बिटिया?
रचिता – बहुत अच्छा लग रहा है बाबा !

बाबा ने अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी और निकालने लगा.
रचिता सुबकती हुई दोनों टांगें ऊपर उठाकर आनंद ले रही थी।

बाबा- बच्चे, अब तुझे थोड़ा दर्द होगा और फिर तुझे जीवन भर कोई रोग नहीं होगा।
रचिता ने हाँ में सिर हिलाया और आनंद लेती रही।

बाबा ने अपनी धोती खोली, अपना लंड निकाला और रचिता के ऊपर चढ़ गए। उसने अपना लंड रचिता की भीगी हुई चूत में डाला और उसे धक्का दे दिया.
तो उसे ज्यादा दर्द नहीं होता था क्योंकि वह रोज अंदर मूली और गाजर खिलाती थी।

बाबा- दर्द तो नहीं होता बेटी?
रचिता- आह नहीं बाबा आह!

बाबा समझ गए कि उनका काम हो गया और वो चोदने लगे।
रचिता मजे से चुदाई करती रही और उसकी चूत से पानी छूटने लगा.

अब बाबा का लंड गिरने ही वाला था तो उन्होंने उसे निकाल कर खड़े हो गए और पानी को अपने हाथ से हटा लिया.

तभी से बाबा रोज रचिता को चोदता था।
फिर उसने शादी कर ली।

लेकिन बाबा और भी प्रसिद्ध हो गए थे।

रचिता के पड़ोस में एक महिला की शादी को दो साल हो गए थे लेकिन उसके कोई संतान नहीं थी तो उसने रचिता की मां को बताया।
तो उन्होंने बाबा के बारे में पूरी जानकारी दी।

अगले दिन कमला अपने बेटे की बहू रिद्धिमा को लेकर बाबा के पास गई।
बाबा कमला को विश्वास दिलाते हैं कि सर्वशक्तिमान सब कुछ ठीक कर देगा।

और रिद्धिमा को सामने बिठाकर उसके बारे में पूछने लगे- बिटिया कितने साल की है?
रिद्धिमा- बाबा की उम्र 23 साल है।

बाबा- तुम्हारी शादी कब हुई?
रिद्धिमा – दो साल पहले !

बाबा – बच्चा क्यों नहीं हुआ ?
रिद्धिमा- पता नहीं बाबा का है।

बाबा- हाँ, बस पूछ रहा हूँ… क्या हुआ?
रिद्धिमा- मैं नहीं जानती बाबा।

बाबा- सिर्फ तुम जानती हो बेटी… और कोई नहीं बता सकता।
रिद्धिमा- मुझे क्या पता?

बाबा – क्या हुआ ? कुछ होता है या नहीं?
रिद्धिमा समझ गई – हाँ बाबा करते हैं पर बच्चा नहीं होता।

बाबा- कितने दिन में करते हो?
रिद्धिमा – दो चार दिन में हो जाए।

बाबा- ऐसा कितनी बार करते हो?
रिद्धिमा- एक बार कर लेना।

बाबाः कितनी देर चलती है?
रिद्धिमा- पता नहीं बाबा। आप समय देखते हैं! लेकिन इससे क्या फर्क पड़ता है?

बाबा-बेटी इस वजह से बच्चा पैदा नहीं होता।
रिद्धिमा- तो फिर मैं क्या करूँ बाबा?

बाबा- आज जब बच्चा घर जाता है तो ध्यान देना कितनी देर… और बीज अंदर गया क्या?
रिद्धिमा- ठीक है बाबा।

बाबा- सुबह जल्दी उठकर फिर आकर मुझे देखना।
रिद्धिमा- ठीक है बाबा, मैं आती हूँ।

अब रिद्धिमा घर आ गई और रात को जब उसका पति उसे चोदने लगा तो वह पूरा ध्यान लगा रही थी।
लेकिन उसके पति ने अपना लंड अंदर डालकर चोदना शुरू कर दिया और दो मिनट के भीतर ही स्खलित हो गया।

अगले दिन सुबह 4 बजे रिद्धिमा ने कमला को बाबा के पास चलने को कहा तो दोनों साथ में मंदिर आ गईं।

दिन का उजाला ज्यादा नहीं था, इसलिए थोड़ा ही अंधेरा था।
दोनों ने बाबा को प्रणाम किया और बाबा ने उन्हें मंदिर के पीछे जाने को कहा।

अब बाबा भी आ गये, बाबा ने कहा- माता जी आप मन्दिर में दर्शन कर लीजिये। या बहू का आपके सामने ठीक से बात न करने का।
सो कमला वहाँ से चली गई।

बाबा- हाँ बेटी बताओ कल रात क्या हुआ था?
रिद्धिमा- बाबा ने किया लेकिन कुछ देर के लिए ही था।

बाबाः बीज अन्दर चला गया?
रिद्धिमा- हां बाबा।

बाबाः आपका भी बीज निकला क्या?

रिद्धिमा- नहीं बाबा। ऐसा इतनी जल्दी होना चाहिए। मेरा नहीं निकलता है।
बाबा- तो अब समझ में आ गया कि ये माँ क्यों नहीं बनती।
रिद्धिमा चुप रही।

बाबाः दोनों के बीज आपस में मिल जायें तभी बच्चा पैदा होगा।
रिद्धिमा- तो अब मैं क्या करूँ बाबा? जब वह बाहर नहीं आया।

बाबा- तुझे किसी और से करना पड़ेगा जो तेरा बीज भी निकाल देगा।
रिद्धिमा- बाबा ये क्या कह रहे हो? अगर यह किसी और के साथ किया जाता तो कितनी बदनामी होती। मेरे ससुराल वाले मुझे घर से निकाल देंगे। मेरा पूरा जीवन खराब हो जाएगा।

बाबा-बेटी ये बात तो ठीक है। लेकिन आप इस तरह कभी मां नहीं बन पाएंगी।
रिद्धिमा अब सोच रही है।

बाबा- मेरे पास एक उपाय है। तुम भी माँ बन जाओगी और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा।
रिद्धिमा ने हाथ जोड़कर कहा- बाबा, बता तो दो। मैं जीवन भर आपका आभारी रहूंगा।

बाबा- बेटी, मैं तुम्हें अपना बीज दे सकता हूँ।
रिद्धिमा- लेकिन बाबा… मैं यहां अकेली कैसे आऊंगी?

बाबा- मैं तुम्हारी सास को कह दूंगा कि उन्हें एक महीने तक रोज सुबह मंदिर में पूजा करनी होगी।
रिद्धिमा- बाबा, मेरी सास मेरे साथ आएंगी।
बाबा- शुरू में एक-दो दिन आएगा, रोज नहीं आएगा। आप प्रतिदिन पूजा में बहुत देर तक बैठकर नाम जप करते हैं। मेरा विश्वास करो, वह दो दिन भी नहीं आएगी।

रिद्धिमा अब खुश है।

अब रिद्धिमा पूजा करने आने लगी।
दो-चार दिन उसकी सास उसके साथ आई, फिर बोली- तू अकेली चली जा! मैं चिंतित हो गया। पूजा करने में आपको एक घंटा लगेगा।

अब रिद्धिमा जल्दी से मंदिर में आई और पूजा-अर्चना कर बाबा की ओर इशारा किया।
बाबा भी पीछे आ गए।

वह अंदर आकर बैठ गई।
तो बाबा ने उसकी ओर देखते हुए कहा- तेरी सास आज नहीं आईं?
रिद्धिमा- नहीं बाबा!
बाबा- हमने आपको पहले ही बता दिया था!

रिद्धिमा- हाँ बाबा अब जल्दी करो… मुझे जल्दी घर जाना है।
बाबा- जल्दी मत करना बच्चे… जैसे रोज जाते हो उसी समय जाओ।

बाबा ने रिद्धिमा को खाट पर लिटा दिया और उसके होठों को चूसने लगे।
फिर उसके ब्लाउज का हुक खोलकर ब्रा उतारने लगा.

वह रिद्धिमा की नर्म चूची को दबाकर चूसने लगा।
रिद्धिमा मौज कर रही थी।

बाबा ने कहा- बेटी अब यह साड़ी और पेटीकोट भी उतार दो।
अब रिद्धिमा नंगी हो गई और बाबा भी।

बाबा ने रिद्धिमा की चूत में दो उंगलियाँ डालीं और उसे हिलाने लगे.
रिद्धिमा की चूत से पानी निकल आया और वो उस पानी से पूरी तरह भीग गयी.

तो बाबा ने उसे लेटने को कहा और ऊपर चढ़कर अपना लंड अंदर घुसा लिया.
रिद्धिमा जोर से चीख पड़ी।

बाबा ने उसका मुँह बंद कर दिया और कहा – क्या हुआ बेटी ?
रिद्धिमा ने कहा- बाबा को दर्द हो रहा है। रुको!

तो बाबा रुक गए और रिद्धिमा के निप्पल दबाने लगे।
रिद्धिमा ने कहा – बाबा, मेरे घर का सदस्य छोटा है। घोड़े जितना तेरा, पेट तक निकाला है।

बाबा-बेटी तुम्हारे छोटे लिंग के कारण तुम्हारा बीज नहीं निकलता और तुम माँ नहीं बनती। लेकिन अब मैं तुम्हारी मां बनकर रहूंगी।

अब बाबा ने फिर से धीरे धीरे चोदना शुरू किया।
तो रिद्धिमा ने अब अपनी गांड उठाई और धक्का मारने लगी।

बाबा भी जोर जोर से चोदने लगे और रिद्धिमा की चूत में से वीर्य निकाल दिया.
रिद्धिमा का भी जल निकल आया।

अब बाबा कई दिनों तक रोज सुबह रिद्धिमा को चोदता था।

अगले महीने उन्हें मासिक धर्म नहीं आया।
तो वह खुश हो गई और सबको बताया कि वह मां बनने वाली है।

बाबा ने ऐसे अनेक कार्य किए।

अब कई लोग उनके पास इलाज के लिए आते हैं।
वह महिलाओं को नए तरीकों से चोदता है।

एक महिला उसके पास आई तो बाबा ने कहा- कमरे के अंदर जाकर नाडा खोलो।
तो वह हंसती हुई अंदर चली गई और अपनी साड़ी उतार कर पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया।
बाबा ने उसकी अच्छी चुदाई की।

और बाहर सब यही सोच रहे थे कि अंदर इलाज चल रहा है।

फिर जब एक सज्जन महिला बाबा के पास आई तो बाबा ने उससे भी कहा – अंदर जाकर नाडा खोलो।

उस महिला ने शोर मचाया और दूर खड़े अपने पति को बुलाकर नाडा खुलने की बात कही.

तो बाबा को लगा कि आज सब भक्त मिलकर उनका गदहा फोड़ देंगे। आज ही बाबा का इलाज होगा।
लेकिन बाबा कहां फंसने वाले थे?

उसने कहा- बालक, ऐसी गंदी बातें कहकर मेरा अपमान मत करो!
तो वो लोग बोले – बाबा अकेले बैठी थी तो आपने नाडा खोलने को कहा था या नहीं?
बाबा- हां मैंने कहा। लेकिन वह नाडा कमरे के अंदर है। जो भगवान की मन्नत मांगने के लिए बंधा है।

अब सब शांत हो गए और वह महिला बाबा के चरणों में गिरकर क्षमा याचना करने लगी।

अब बाबा ने युक्ति अच्छी निकाली है।
सबको नाडा खोलने को कहता है।

जो औरत नब्ज सुन कर कमरे में जाती, उसकी चूत की गांड में चुदाई करती.
नहीं तो मन्नत वाला नाडा बता देता और बच जाता।

लेकिन किसी समझदार व्यक्ति ने उस बाबा की सेक्स की बात को पकड़ लिया और पुलिस को बुला लिया।

पुलिस द्वारा पकड़े जाने पर पता चला कि वह फरार अपराधी है।
लेकिन बाबा कई सालों से आसपास थे।

मुझे उनकी दिल खोल देने वाली बातें बहुत अच्छी लगीं।
और आपको क्या पसंद आया?

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds