मामी की कमसिन बेटी की जबरदस्त चुदाई – कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी

मामी की कमसिन बेटी की जबरदस्त चुदाई – कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मामी की कमसिन बेटी की जबरदस्त चुदाई – कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी”। यह कहानी कार्तिक की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने मामा के घर पर रहता था. जब उसकी जवान बेटी ने मुझे सेक्स के लिए उकसाया तो मैंने उसकी सीलपैक चूत खोल दी.

नमस्कार दोस्तों,
मैं कार्तिक 23 साल का हूं.
मेरे शरीर की लंबाई 5.6 इंच है. मेरे लंड का साइज 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है.

मैं बरेली का रहने वाला हूँ और अभी इंटर की तैयारी कर रहा हूँ।

आज मैं आपको अपनी 69 पोजीशन कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी के बारे में बताना चाहता हूं कि कैसे मैंने अपने ही मामा की बेटी को चोदा.

मैं आप सभी को बता दूँ कि मेरे मामा की लड़की का नाम इशिका है। उसके शरीर का आकार 34-28-36 है।

यह घटना उन दिनों की है जब मैं अपने मामा के घर पर रहकर पढ़ाई कर रहा था.
हालाँकि इशिका के बारे में मेरे मन में कोई गलत विचार नहीं थे और हम अच्छे दोस्त थे।

हमारी बातें तो कुछ खास नहीं थीं लेकिन जब भी समय मिलता, हम बातें करते थे. इशिका भी 12वीं में थी और हम दोनों का एक महीने बाद यूपी बोर्ड का एग्जाम था. मैं हर दिन देर रात तक पढ़ाई करता था। (कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी)

एक दिन मामी ने कहा- कार्तिक बेटा, तुम इशिका को पढ़ा दो, अगर तुम्हें कोई दिक्कत न हो तो।
मैंने भी मामी को हाँ कह दी.

अगले दिन से जब भी मैं पढ़ रहा होता तो Ishika भी मेरे कमरे में आ जाती।

ऐसे ही एक दिन हम पढ़ रहे थे तभी इशिका बात करने लगी.
पढ़ाई के साथ-साथ हम हंसी-मजाक भी करने लगे।

ठंड के दिन चल रहे थे.
उस दिन घर पर कुछ रिश्तेदार आए हुए थे.
शायद वे आज रुकने वाले थे.

मैं अपने स्कूल से वापस आया और हाथ-मुंह धोकर कपड़े बदल लिये।

तभी मामी मेरे कमरे में आईं और बोलीं- कार्तिक, खाना बन गया है, तुम खा सकते हो, बाकी सबने खाना खा लिया है.

मैंने खाना खाया और ट्यूशन के लिए निकल गया.
जब मैं वापस आया तो देखा कि जो रिश्तेदार आये थे वे अभी भी घर पर ही थे।

मैंने मामी से पूछा- क्या ये लोग रात को रुकने वाले हैं?
मामी बोलीं- शायद हां.

शाम होने तक इशिका भी कोचिंग सेंटर से लौट आई थी.
रात के करीब 9 बजे थे और हम सबने साथ में खाना खाया.

फिर मैं पढ़ने के लिए अपने कमरे में चला गया.
तभी मामी आईं और बोलीं- कार्तिक, आज तुम और इशिका एक कमरे में सो जाओ.

मैंने भी हाँ में सर हिलाया.

मैं आप सभी को बता दूँ कि मेरे मामा के 2 लड़के और 1 लड़की है। बड़े लड़के का नाम विशाल और छोटे लड़के का नाम नमन है. (कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी)

नमन की उम्र करीब 14 साल होगी. अभी तक मैं और नमन ही एक कमरे में सोते थे.
लेकिन आज मामी ने इशिका को भी सोने के लिए कहा था.

हम दोनों पढ़ रहे थे, रात के करीब 11.20 बज रहे थे.

मैंने कहा- इशिका, अगर तुम्हें नींद आ रही है तो सो जाओ.
वो बोली- हाँ आ रही है लेकिन इस बिस्तर पर तीन लोग कैसे सो सकते हैं?

मैंने कहा- तुम सही कह रही हो. चलो ऐसा करते हैं कि मैं ज़मीन पर सो जाऊँगा और तुम दोनों बिस्तर पर सो जाओ।

मैंने अपना बिस्तर उठाया और फर्श पर लगा दिया और वहीं लेट गया.
न जाने कब मेरी आंख लग गयी.

रात को करीब 1 बजे मुझे ठंड लगी तो मैंने करवट ली तो मुझे लगा कि मेरे बिस्तर पर कोई लेटा हुआ है.
लेकिन मुझे इतनी नींद आ रही थी कि मुझे लगा कि यह मेरा भ्रम है।

कुछ देर बाद मैंने आंखें बंद कर लीं और सो गया.
तभी मुझे ऐसा लगा जैसे किसी ने मेरी छाती पर अपना हाथ रख दिया हो.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने से अलग कर दिया.
थोड़ी देर बाद उसका हाथ मेरी कमर पर था.

इस बार मैंने उसका हाथ हटाया और एक तरफ कर दिया.
वह कोई और नहीं बल्कि इशिका थी.

मैं वापस सोने लगा.

उसने करवट बदली और मेरी ओर मुंह कर लिया.
और इस बार उसका हाथ मेरे लंड पर रख दिया गया.

अब मुझे भी नींद नहीं आ रही थी तो मैं आँखें बंद करके लेटा रहा.

मेरी दिल की धड़कन तेज़ हो गई थी, मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पा रहा था।
अब मेरे लंड में भी आग लग गयी थी. अब तो मुझे बस चूत चाहिए थी.

मैंने थोड़ी हिम्मत करके अपना हाथ उसके Big Boobs पर रख दिया और धीरे-धीरे हल्के हाथों से उसके बूब्स को दबाने लगा। जब उसकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मेरी हिम्मत और बढ़ गयी. उसने टॉप और लोअर पहना हुआ था.

मैंने उसके लोअर में हाथ डाल दिया. मैं उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा. कुछ देर बाद अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। (कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी)

अचानक उसने आंखें खोल दीं और मेरी तो गांड फट गयी.
अगर उसने घर पर किसी को बता दिया तो क्या होगा, मेरी बहुत बेइज्जती होगी.

मैंने अपना हाथ उसकी चूत से हटा लिया और बगल में लेट गया.
कुछ देर बाद उसने अपना हाथ मेरी कमर पर रख दिया.

अब मैं समझ गया कि उसके दिल में भी कुछ है.
मैंने फिर से हिम्मत जुटाई और उसके बूब्स दबाने लगा.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.
कभी मैं उसके ऊपर वाले होंठों को चूसता, तो कभी वो मेरे होंठों को चूसती.

हम ऐसे ही एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे.

मैंने अपना हाथ उसके लोअर के अंदर डाल दिया और उसकी चूत को मसलने लगा.
मैं कभी उसके होंठों को काटता तो कभी उसके बूब्स को चूसता.

चूसने से उसके दोनों निपल्स बहुत सख्त हो गये थे.

ये सब काफी देर तक चलता रहा और फिर हम 69 की पोजीशन में आ गये. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, मैं भी उसका खुलकर साथ दे रहा था। (कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी)

मैंने उसका लोअर खींच कर अलग कर दिया और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत चाटने लगा.

मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी और अब उसकी गुलाबी Tight Chut पूरी नंगी थी. मैं भूखे भेड़िये की तरह उसकी गुलाबी चूत पर टूट पड़ा और कभी जीभ से तो कभी उंगली से उसे चोदने लगा.

हम दोनों एक नई दुनिया में प्रवेश कर चुके थे और ऐसा लग रहा था जैसे इस आनंद का कोई अंत नहीं है।
मैं इस पल को पूरी तरह से जीना चाहता था।’

थोड़ी देर में इशिका झड़ने वाली थी और वो कराहने लगी.
मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और चूमने लगा।

उसकी आवाज मेरे होठों में ही दबकर रह गई.
लेकिन इस बीच मैंने उसके स्तन दबाना जारी रखा.

वो फिर से गरम हो गयी थी.
उसने मेरी आँखों में देखा जैसे कह रही हो बाबू अब मत तरसाओ, अब अपना लंड मेरी चूत में डाल कर Chut Chudai कर दो।

मैं उसे और नहीं तड़पाना चाहता था इसलिए मैंने फिर से उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया।

वह सांप की तरह छटपटाने लगी.
उसने मेरे लंड को अपने होंठों पर रख लिया और चूसने लगी.

दोस्तो, मैं आपको क्या बताऊँ, मुझे इतना अच्छा लग रहा था कि अब मैं भी अपने आप पर काबू नहीं रख पा रहा था।

समय की नज़ाकत को समझते हुए मैंने बिना समय बर्बाद किये उसका टॉप भी उतार दिया। मैंने अपना लोअर खींच कर उतार दिया. (कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी)

मैंने रजाई को एक तरफ सरका दिया, उसकी कमर के नीचे एक तकिया रख दिया और उसके दोनों पैरों को फैला दिया।

वह उसकी टांगों के बीच आया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसके दोनों स्तनों को दबाने लगा।

वह खुश हो गयी और उसने अपनी आँखें बंद कर लीं।
मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर सेट किया और धीरे-धीरे ऊपर से उसकी गुलाबी फूली हुई चूत के अंदर रगड़ने लगा।

वो और भी ज्यादा तड़पने लगी और मैंने अपना लंड एक ही झटके में उसकी गुलाबी, फूली हुई चूत में डाल दिया.

अचानक उसे दर्द हुआ और उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे.
मैं वैसे ही उसकी चूत में अपना लंड डालता रहा.

मैं उसके होंठों को चूमता रहा.
मेरे लंड का कुछ हिस्सा अभी करीब दो इंच ही अन्दर गया था कि उसकी चूत से लगातार खून बहने लगा.
ये सब देख कर वो डर गयी.

मैंने उससे कहा- ऐसा पहली बार हो रहा है इसलिए खून निकला. बाद में दर्द नहीं होगा.
उन्होंने कहा- हमें ये सब नहीं करना था.

फिर मैंने उसे समझाया.

जब दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैंने अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी.

मैंने एक और जोरदार झटका मारा, इस बार आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में घुस गया और उसकी चीख निकल गई.
फिर मैंने अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी.

धीरे-धीरे उसका दर्द कम होता गया, अब वो भी मेरा साथ देने लगी।

उस रात हम दोनों ने मजे से सेक्स किया.
वर्जिन इंडियन कजिन सेक्स के बाद हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर सो गये.

उसके बाद हमने कई बार सेक्स का मजा लिया.
मैंने इशिका की Moti Gand भी चोदी.

मैंने उसकी गांड कैसे मारी और इशिका को इसके लिए कैसे मनाया, यह सब आप मेरी अगली कहानी में पढ़ेंगे।

मेरे प्यारे दोस्तो, आपको मेरी सेक्सी कहानी पढ़कर मजा आया होगा.
मुझे बताएं कि आपको कजिन सिस्टर फ़क स्टोरी कैसी लगी?

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds