कॉलेज फ्रेंड के साथ चुदाई करके उसके बूब्स पर माल झाड़ दिया

कॉलेज फ्रेंड के साथ चुदाई करके उसके बूब्स पर माल झाड़ दिया

हेलो दोस्तों, मैं राहुल आज आप सभी के लिए एक बिल्कुल नई और कॉलेज फ्रेंड के साथ चुदाई की कहानी लेकर आया हूँ। यह घटना उन दिनों की है जब हम लोग कॉलेज में पढ़ते थे. हमारे गाँव में कोई कॉलेज नहीं था इसलिए हम शहर में एक कमरे में रहते थे।

और मुझे अपने परिवार वालों के डर से पूरी तरह मुक्ति मिल गयी. मुझे रोकने वाला कोई नहीं था और मेरी क्लास की लगभग सभी लड़कियों से दोस्ती थी, लेकिन सोनिया, जिसे हम सोनिया कहते थे, मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी, वह भी गाँव से थी और शहर के एक गर्ल्स हॉस्टल में रहती थी। सोनिया बेहद खूबसूरत थी, उसकी हाइट करीब 5 फीट 6 इंच और फिगर साइज 34-26-30 था.

वह अक्सर जींस और टी-शर्ट पहनती थी, जिससे उसके उभार साफ़ नजर आते थे और किसी को भी मदहोश करने के लिए काफी थे। उसने सभी लड़कों को पागल कर दिया,

बहुत से लोगों ने उसके नाम पर हस्तमैथुन किया होगा, लेकिन मैं उनमें से नहीं था। सोनिया और मैं बहुत अच्छे दोस्त थे और ना तो मैंने सोनिया के बारे में कुछ गलत सोचा था और ना ही सोनिया ने.

हम अक्सर एक साथ घूमते थे और सोनिया कॉलेज में हमारे समूह के साथ थी। उसकी लड़कियों से बहुत कम दोस्ती थी, कई बार सोनिया मेरे कमरे में आकर हमारे साथ पढ़ाई करती थी। कभी-कभी हम दोनों घूमने के लिए शहर से बाहर चले जाते थे.

फिर एक दिन मैंने सोनिया से कहा कि थोड़ी दूरी पर एक देवी मंदिर और एक पिकनिक स्पॉट है, चलो वहाँ चलते हैं, तो वह मान गयी. फिर मैं करीब 12 बजे सोनिया के हॉस्टल पहुंच गया.

फिर वो अपने वार्डन से छुट्टी लेकर चली गयी और बोली कि हम रात तक आएँगे. फिर हम मेरी बाइक पर निकले और उस दिन सोनिया ने जीन्स और टी-शर्ट पहनी हुई थी, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थी. अब वो मेरे पीछे दोनों तरफ पैर करके बैठी थी, आज भी उसके बड़े-बड़े स्तन मेरी पीठ से टकरा रहे थे, लेकिन मेरे लिए ये सामान्य बात थी.

अब मेरी बाइक बहुत तेज चल रही थी. अब उसने मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया. फिर हमने बीच में ही लंच किया और करीब 3 बजे वहां पहुंच गये. वह मन्दिर एक पहाड़ी पर था। फिर हम शीर्ष तक पहुँचने के लिए लगभग 1500 सीढ़ियाँ चढ़े। अब रविवार होने के कारण वहां बहुत भीड़ थी. फिर जब हम दर्शन करके नीचे पहुंचे तो 7 बज चुके थे. फिर कुछ देर घूमने के बाद हमने लंच किया और वापस जाने के लिए निकल गये. अब 8 बज चुके थे.

फिर सोनिया ने हॉस्टल में फ़ोन करके बताया कि वो थोड़ी देर से आएगी. फिर जब हम लौटने लगे तो हल्की बारिश शुरू हो गई और फिर तेज़ हो गई. अब हम कुछ देर के लिए रुके.

फिर बारिश कम होने पर हम लोग चलने लगे और कुछ दूरी पर पहुंचने के बाद बारिश फिर से तेज हो गई, लेकिन हम नहीं रुके क्योंकि सड़क सुनसान थी, वो पूरा जंगली इलाका था. अब सोनिया को भी डर लग रहा था. अब वो मेरे बिल्कुल करीब बैठी थी. अब उसके स्तन मेरी पीठ के सामने थे, लेकिन इस समय मैं केवल घर वापस पहुँचने और के बारे में सोच रहा था

कहाँ रह गया। तभी कुछ दूर जाने के बाद मेरी बाइक पंक्चर हो गई. अब दूर-दूर तक कोई नजर नहीं आ रहा था और सोनिया का डर के मारे बुरा हाल था. फिर मैंने कहा कि में हूँ ना, तुम क्यों डरती हो? फिर हम मदद पाने के लिए कुछ दूर तक चले और बाइक को घसीटते हुए ले गए, लेकिन न तो कोई गाड़ी दिखी और न ही कोई आदमी।

फिर कुछ दूर चलने के बाद मुझे कुछ रोशनी दिखी तो मुझे लगा कि कोई गांव है. फिर जब हम वहां पहुंचे तो वहां एक छोटा सा गांव था, लेकिन वो बिल्कुल सुनसान था. फिर हमने बाइक सड़क पर छोड़ दी और गांव के अंदर चले गये. अब घर के बाहर कुछ लोग बैठे थे.

फिर जब हमने उन्हें अपनी समस्या बताई तो उन्होंने कहा कि सर, यहां कोई पंचर बनाने वाला नहीं है, एक पास के गांव से आता है, लेकिन वह भी चला गया है. फिर मैंने पूछा कि अगला गाँव कितनी दूर है? फिर उसने कहा कि बहुत दूर है, बारिश अभी भी हल्की-हल्की हो रही है. अब हम दोनों पूरी तरह भीग चुके थे.

तब गांव वालों ने कहा कि साहब आप रात को ऐसे मत जाएं, आगे का इलाका बहुत खराब है, जंगली जानवर भी घूमते हैं और रास्ता भी अच्छा नहीं है. फिर मैंने पूछा कि क्या जाने का कोई रास्ता है। फिर उसने कहा कि कुछ नहीं है और फिर मैंने उसे रुकने के लिए कहा. फिर उसने कहा कि कुछ दूरी पर एक छोटा सा जंगल का विश्राम गृह है.

फिर मैंने सोनिया से पूछा तो वो बोली कि में आगे नहीं जाउंगी, चाहे मुझे पूरी रात जागना पड़े? तो फिर मैंने कहा कि चलो रेस्ट हाउस देख लेते हैं.

फिर मैंने बाइक वहीं लॉक की और गांव वालों के बताए रास्ते पर चला गया, रेस्ट हाउस पास में ही था, वहां चौकीदार था. फिर हमने उससे कहा कि क्या हुआ था? फिर उसने कहा सर यहां तो एक ही कमरा है.

फिर मैंने रूम देखा तो वहां एक ही सिंगल बेडरूम था, लेकिन वो बिल्कुल साफ सुथरा था. फिर मैंने सोनिया की तरफ देखा. फिर वो बोली कि ठीक है आज हम यहीं रुकेंगे. फिर उसने कहा कि ठीक है. फिर मैंने पूछा कि क्या कोई तौलिया है तो उसने कहा कि एक ही होगा सर. फिर मैंने सोनिया को अंदर जाकर अपने कपड़े सुखाने को कहा, तो वो अंदर चली गयी.

अब मैं बाहर था. फिर मैंने चौकीदार से पूछा कि क्या मुझे कुछ खाने को मिलेगा. फिर उसने कहा, सर, मैं कोशिश करूंगा. फिर मैंने उसे पैसे दे दिए और वो चला गया. अब मैं बाहर अकेला था. फिर करीब 10 मिनट के बाद सोनिया ने दरवाज़ा खोला.

अब उसने बेडशीट पूरी तरह से लपेट ली थी. फिर वो बोली कि तुम भी अपने कपड़े उतारो. तो फिर मैंने कहा कि में क्या पहनूंगा? तो फिर वो बोली कि टावल लपेट लो.

अब सोनिया ने पंखा चलाया और कपड़े सूखने दिये. अब जींस मोटी होने की वजह से उसके पूरे बदन से पानी टपक रहा था. फिर मैं बाथरूम में गया तो वहां सोनिया की ब्रा और पैंटी पूरी गीली थी, उसने शर्म के कारण उन्हें बाहर नहीं निकाला था.

फिर मैंने भी अपने कपड़े उतारे, तौलिया लपेटा और बाहर आ गया. अब सोनिया को थोड़ा शर्म आ रही थी तो मैं बाहर चला गया। फिर सोनिया ने पूछा कि क्या हुआ? फिर मैंने कहा कि आपकी तबियत ठीक नहीं है? तो तब उसने कहा कि कोई बात नहीं, तुम अंदर आ जाओ, बाहर बहुत ठंड है. फिर कुछ देर बाद चौकीदार आ गया.

अब वह कुछ मिश्रण और दाल के पैकेट लेकर आया था। फिर हमने थोड़ा सा खाया और फिर चौकीदार बोला कि सर में अब अपने क्वार्टर में सोने जा रहा हूँ, अगर आपको किसी चीज़ की ज़रूरत हो तो मुझे जगा देना और फिर वो चला गया. अब ठंडी हवा के कारण मैंने खिड़की और दरवाज़ा बंद कर लिया था. अब हम दोनों कमरे में अकेले थे.

फिर मैंने सोनिया से कहा कि तुम बिस्तर पर सो जाओ और में नीचे सो जाता हूँ. फिर मैंने कम्बल बिछाया, लाइट बंद की और नाईट लैंप चालू किया और सोने की कोशिश करने लगा. अब सोनिया बिस्तर पर लेटी हुई थी.

अब मुझे नींद नहीं आ रही थी और करवटें बदल रही थी. अब सोनिया भी ये सब देख रही थी. फिर वो बोली कि तुम ज़मीन पर नहीं सोओगे, में नीचे सो जाउंगी. फिर मैंने कहा नहीं. तभी सोनिया ने कहा कि मुझे ठंड लग रही है.

फिर मैंने कहा कम्बल दे दूंगा. फिर वो बोली कि कैसे सोओगे? और फिर वो बोली कि तुम भी बेड पर आ जाओ, हम दोनों कम्बल ओढ़ लेंगे. अब मैं डर गया था. फिर वो बोली कि यार कुछ नहीं होता.

अब ये तो करना ही था, वो बिस्तर थोड़ा बड़ा था इसलिए कोई दिक्कत नहीं हुई. अब मैं भी बिस्तर पर था और अब हम दोनों एक ही कम्बल से ढके हुए थे। अब मेरे शरीर पर तौलिये के अलावा कुछ भी नहीं था और सोनिया बेडशीट में थी. अब हम दोनों सोने की कोशिश करने लगे.

फिर कुछ देर बाद सोनिया बोली कि राहुल मुझे नींद नहीं आ रही है. हम बातें करके टाइम पास करते हैं. फिर मैंने उसे सोने के लिए कहा, लेकिन वो नहीं मानी. अब मैं पीठ के बल लेटी हुई थी और उसने साइड से अपना चेहरा मेरी तरफ कर लिया और हम बातें करने लगे. अब मेरा तौलिया खुला हुआ था. अब कभी-कभी उसके पैर मेरे पैरों से छू जाते तो मैं उसे इधर-उधर कर देता।

अब मैंने भी उसकी तरफ करवट बदल ली. अब मेरा तौलिया पूरा खुल गया था. तभी अचानक मेरा पैर उसके पैर से छू गया. अब उसकी टांगें भी नंगी हो गयी थीं. अब बेडशीट अस्त-व्यस्त थी. फिर मैंने खुद पर कंट्रोल किया, लेकिन उसका स्पर्श पाकर मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया.

अब मैं पीठ के बल लेटा हुआ था. तो तब वो बोली कि क्या हुआ? आप बार-बार पाला बदल रहे हैं. तो तब मैंने कहा कि कुछ नहीं, अभी मेरी तबीयत ठीक नहीं है. तभी अचानक सोनिया ने कहा कि तुम इतना क्यों डर रहे हो? तो फिर मैंने कहा कि इससे अच्छा है कि सो जाओ.

फिर उसने कहा कि उसे नींद नहीं आ रही है और फिर उसने कहा कि मेरी तरफ मुँह करके सो जाओ. फिर मैंने फिर करवट बदली. अब हम इतने करीब थे कि हमारी साँसें एक दूसरे से मिल रही थीं, उसकी गर्म साँसें मुझे मदहोश कर रही थीं। अब उसका भराव मेरे लिंग तक पहुँच रहा था और धीरे-धीरे उसमें तनाव भी आ रहा था।

तब सोनिया ने कहा कि तुम्हारा दिमाग कहीं और है, तुम बात नहीं कर रहे हो, बस हां या ना में जवाब दे रहे हो. अब मेरी स्थिति ख़राब हो रही थी, क्योंकि सोनिया के गुलाबी होंठ मेरी आँखों के सामने थे और ठंड के कारण कांप रहे थे।

फिर पता नहीं क्या हुआ? मैंने अपने होंठ सोनिया के होंठों पर रख दिये. तभी सोनिया घबरा गयी और बोली कि क्या हुआ? तो तब मैंने कहा कि कुछ नहीं यार, मुझे माफ़ कर दो। अब मैं सोनिया से नजरें नहीं मिला पा रहा था और उसकी तरफ पीठ करके सो गया. फिर कौन जाने सोनिया को क्या हुआ? उसने मुझे गले लगा लिया.

दोस्तों आज की कॉलेज फ्रेंड के साथ चुदाई की कहानी बस यहीं तक आगे की कहानी अगले भाग में तब तक के लिए हमारी वेबसाइट के साथ बने रहे और दबाकर मुठ मारिए और अपनी कामवासन शांत करें और हमारी कहानी पढ़ते रहे अगला पाठ बहुत जल्दी तब तक के लिए अलविदा। 

कॉलेज फ्रेंड के साथ चुदाई करके उसके बूब्स पर माल झाड़ दिया : कॉलेज फ्रेंड के साथ बुर चुदाई भाग-2

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds