साली को सेट करके उसकी प्यास बुझाई – चोदू जीजा साली XXX भाग 1

साली को सेट करके उसकी प्यास बुझाई – चोदू जीजा साली XXX भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “साली को सेट करके उसकी प्यास बुझाई – चोदू जीजा साली XXX भाग 1”। यह कहानी अंशुल की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

चोदू जीजा साली कहानी में पढ़ें कि मैं लॉकडाउन के दौरान अपने ससुराल में फंस गया. वहां मेरी एक साली भी है. एक दिन मैंने चुपके से अपनी साली के कमरे में झाँक कर देखा…

दोस्तो, मेरा नाम अंशुल है. मेरी शादी को अभी तीन साल ही हुए हैं.

मेरी नई-नई शादी हुई है, इसलिए अपनी पत्नी को खुश करने के लिए और अपने बिजनेस के काम के लिए मुझे अक्सर अपने ससुराल वाले शहर में जाना पड़ता है।

मेरा ससुराल मेरे घर से बहुत दूर है और मुझे रात भर ट्रेन से यात्रा करनी पड़ती है।

मेरे ससुराल में सास-ससुर के अलावा मेरी एक साली है, जिसका नाम प्रीति है। वह करीब 24 साल की है. प्रीति भी मेरी पत्नी की तरह दिखने में खूबसूरत है. (चोदू जीजा साली)

लेकिन प्रीति मुझसे थोड़ी दूरी बनाकर रखती है इसलिए मैं भी उससे दूरी बनाकर रखता हूं.
वैसे तो वह बहुत मस्त है, लेकिन अपने बिजी शेड्यूल के कारण मैंने कभी उस पर ध्यान नहीं दिया.
जबकि वह बहुत ही मादक नवयुवक है.

हालाँकि मैं निश्चित रूप से एक चोदू हूँ। मैं अपनी पत्नी को पोर्न फिल्मों की तरह खूब चोदता हूँ।
शुरू-शुरू में मेरी पत्नी सेक्स के समय थोड़ी नखरे करती थी, लेकिन अब वह भी अच्छे से चुदाई करवा लेती है।
हम दोनों अपने बेडरूम में नंगे ही रहते हैं.

हां, कभी-कभी घर का कोई बड़ा व्यक्ति बुलाता है तो परेशानी होती है। ऐसे में पहले मुझे निकलना पड़ता है और बाद में मेरी पत्नी कपड़े पहन कर आती है.

हुआ यूं कि बिजनेस के काम से एक बार फिर मुझे चार-पांच दिन के लिए ससुराल में रुकना पड़ा.

मैं सुबह अपने काम पर निकल जाता और शाम को ससुराल लौट आता.
मेरे सास-ससुर मेरा बहुत ख्याल रखते थे.

लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण मुझे रुकना पड़ा.
अचानक लॉकडाउन की स्थिति बन गई तो मुझे समझ नहीं आया कि ये मामला इतने लंबे समय तक चलेगा.

प्रधानमंत्री ने ऐलान कर दिया था कि जो जहां हैं, वहीं रहेंगे.
अब मैं ना तो अपने घर आ सकता था और ना ही अपने बिजनेस के लिए कुछ कर सकता था.

उधर, मेरी पत्नी ने भी फोन पर कहा था कि जब आना होगा, आ जाना. तब तक आप मेरे माता-पिता का ख्याल रखें. मेरी भी मजबूरी थी कि मुझे रुकना पड़ा. (चोदू जीजा साली)

खैर…यहाँ रुकने में एक फायदा था।

लॉकडाउन को करीब 10 दिन बीत चुके थे. दिन भर बातें करने और खाने के अलावा कुछ नहीं था। अगर बोर हो जाओ तो अपने कमरे में जाकर सो जाओ. ये तो रोज़मर्रा का काम हो गया था. इस ससुराल में मैं अपनी पत्नी के कमरे में ही रहता था.

मेरी बीवी और साली के कमरे अलग-अलग थे, लेकिन एक-दूसरे के कमरे में जाने के लिए अन्दर से एक दरवाज़ा था और रोशनदान के बारे में तो आप जानते ही हैं।

इस दौरान मेरी साली मुझसे बहुत खुल गई थी और हम दोनों दिन भर कोई न कोई खेल खेलते, एक दूसरे से लड़ते-झगड़ते और मजाक करते रहते थे।

एक-दो बार छीना-झपटी के दौरान मेरा हाथ उसके खूबसूरत Big Boobs को छू गया था, जिसका उसने कोई विरोध नहीं किया. मैं समझ गया था कि अगर मौका मिला तो मैं इसे अपने लंड के नीचे जरूर लूंगा.

उस दिन दोपहर का समय था. मुझे प्रीति के कमरे से कुछ आवाज़ आ रही थी, ऐसा लग रहा था मानो प्रीति किसी से बात कर रही हो।

मैंने कीहोल से झाँक कर देखा तो मुझे ज्यादा कुछ समझ नहीं आया तो मैंने दरवाज़े के पास स्टूल रखा और रोशनदान से प्रीति के कमरे में झाँकने लगा।

वो शायद लैपटॉप सामने रख कर अपने बॉयफ्रेंड से बात कर रही थी.

अब मुझे Preeti की आवाज़ कुछ साफ़ सुनाई देने लगी।

वो कह रही थी- अरे मादरचोद, मेरी भी चूत तड़प रही है. लेकिन मैं कुछ नहीं कर सकती.
उधर से कुछ आवाज आई.

जिस पर प्रीति बोली- नहीं, मैं सिर्फ रात को तुम्हारे लिए नंगी होंगी, अभी कोई भी आ सकता है.

लेकिन शायद उसका बॉयफ्रेंड ज्यादा ही जिद कर रहा था, इसलिए प्रीति ने कहा- ठीक है.. मैं अभी तुम्हारे लिए जितना कर सकती हूँ करूंगी.. उससे शांत हो जाओ.. बाकी सब रात को करूंगी।

इतना कह कर वो बिस्तर से उठी और अपने कमरे के अटैच्ड बाथरूम में चली गयी. वह वहां से पानी का खाली मग लेकर आई। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था. (चोदू जीजा साली)

वो मग हिलाते हुए बोली- देखो.. मैं ये तुम्हारे लिए ही कर रही हूँ.

यह कहते हुए उसने अपना पायजामा और पैंटी पूरी तरह उतार दी और एक पैर बिस्तर पर टिकाकर मग को अपनी चूत के पास ले गई।

शायद वो उस मग में पेशाब कर रही थी. मेरी आँखें चौंधिया गईं।
मूतने के बाद उसने खुद ही अपना मूत पी लिया और मग एक तरफ रखते हुए बोली- देख अमन, अब मुठ मार कर सो जा कमीने… हम रात को और भी मजे करेंगे।

इतना कह कर उसने अपने नीचे के कपड़े पहने और लैपटॉप बंद करके बिस्तर पर लेट गयी.

मैं तो अपने होश खो बैठा था… सीन देखने के बाद मेरी आंखें फटी की फटी रह गई।

इधर मेरे लंड को भी दस दिन से कोई चूत नहीं मिली थी.
लेकिन मुझे लगा कि अब मेरे लिए एक Tight Chut का इंतजाम हो गया है.

अब मैं रात होने का इंतजार कर रहा था, लेकिन उसके कमरे में जाने के लिए हम दोनों के कमरे का दरवाजा खुला होना जरूरी था. मैंने दरवाजे की कुण्डी खोल दी. संयोग से दरवाजा बस मेरी तरफ से बंद था. (चोदू जीजा साली)

मैंने धीरे से दरवाज़ा खोला और चुपचाप उसके पास आ गया। उसका पिछला हिस्सा मेरी तरफ था. वह एक पैर मोड़कर गहरी नींद में सो रही थी.

प्रीति की Moti Gand की शेप बहुत अच्छा था. मैंने उसके ऊपर झुक कर देखा तो वो सोते हुए बहुत अच्छी लग रही थी.

उसे देख कर लग ही नहीं रहा था कि ये कितनी बड़ी रांड है. मैंने उसके चूतड़ को सहलाया, वह थोड़ी सी कराह उठी और फिर अपने चूतड़ को खुजलाया और सो गई।

इस वक्त मेरा मन कर रहा था कि मैं प्रीति को चोद दूँ, लेकिन मैं रुक गया।
हो सकता है कि प्रीति नींद में चिल्लाएं और गेम बिगड़ जाए.

फिर मैंने अपने लंड को थपथपाया और उससे कहा- चलो यार, तुम इतने दिनों से चूत के लिए तरस रहे हो, कुछ देर और अपने आप को रोक लो। रात में आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

मैं बुझे मन से अपने कमरे में आकर सो गया.

शाम को एक बार फिर जुटे. हम सब आपस में बातें करते रहे और घर का काम निपटाते हुए प्रीति और माताजी भी बातें कर रही थीं, लेकिन मेरी नज़र प्रीति के स्तनों और उसके नितंबों पर टिकी थी जो पेंडुलम की तरह ऊपर-नीचे हो रहे थे।

मेरे लंड में खुजली सी होने लगी थी.
रात होते-होते 10 बज गये। खाना खाने के बाद मैं सीधा अपने कमरे में चला गया.

मैं जानता था कि अभी उसे सारा काम पूरा करने में काफी समय लगेगा. तो मैं अपने कमरे में आया और अपने कपड़े उतार कर सीधा अंडरवियर और बनियान में आ गया। (चोदू जीजा साली)

मैंने अपने कमरे की लाइट बंद कर दी और प्रीति के कमरे में आ गया।
वहां छुपने की कोई जगह नहीं थी. लेकिन मैंने उसके बिस्तर के नीचे आशा की एक झलक देखी, जहाँ इतनी जगह थी कि मैं आसानी से उसके नीचे छुप सकता था।

खैर… मैं बिस्तर के नीचे छुप गया।

करीब 10-15 मिनट के बाद प्रीति कमरे के अंदर आई, अपने कमरे के दरवाजे और खिड़कियाँ बंद कर दीं, पर्दे ठीक से बंद कर दिए और लैपटॉप चालू कर दिया।

कुछ देर बाद ‘हाय..’ की आवाज आई। ये आवाज उसके बॉयफ्रेंड अमन की थी. जवाब में प्रीति ने भी ‘हाय..’ कहा.

तभी आवाज आई- हाय डार्लंड… तुम कितनी हॉट लग रही हो.
प्रीति- कहने लगी हरामी!

अमन- नहीं नहीं यार, मैं सही बात कह रहा हूं.
प्रीति बोली- ठीक है, अब मैं कपड़े उतारने से बच गयी.

अमन- अरे नहीं यार, ऐसा अत्याचार मत करो … नहीं तो मैं अपना लंड अपनी ही गांड में ले लूंगा .
प्रीति- ओह तो ये बात है… ठीक है तो एक काम करो, तुम अपना लंड अपनी गांड में डालो, मैं भी देखना चाहती हूँ कि तुम अपना लंड मेरी गांड में कैसे डालते हो।

अमन- अरे यार, मैं मजाक कर रहा हूँ और तुम सीरियस हो गयी.

तभी प्रीति के हंसने की आवाज आई और उसका कुर्ता जमीन पर गिर गया।
मैं सामने ज़मीन पर पड़ा हुआ उसका कुर्ता देखने लगा।

प्रीति- देख…अब ठीक है.
अमन- मत तरसाओ, तुम्हारे गोल-गोल स्तन, फूली हुई चूत और उभरी हुई गांड को देखने के लिए मैंने पूरा दिन गुजार दिया है.

इधर मैंने उसका गिरा हुआ कुर्ता खींचा और प्रीति के बदन की खुशबू सूंघने लगा। इसी बीच उसकी ब्रा जमीन पर गिर गयी, मैंने झट से उसे उठाया और सूंघने लगा.

इसी तरह वो जो भी उतारती, मैं उसे सूंघने के लिए उठा लेता.

लेकिन अब हालात मेरे लिए असहनीय होते जा रहे थे.
जवान सेक्सी लड़की मेरे सामने थी और मैं बिस्तर के नीचे लेटा हुआ अपना लंड हिला रहा था.

मैं बिस्तर से बाहर आया और ठीक उसके सामने खड़ा हो गया। उस समय प्रीति ने अपना एक पैर बिस्तर पर रखा हुआ था और अपनी उंगली को अपनी चूत की फांकों के बीच घुमा रही थी। (चोदू जीजा साली)

मुझे इस तरह देख कर वो बिल्कुल भी नहीं डरी, बल्कि मेरी तरफ देखते हुए अपनी चूत पर हाथ फेरते हुए बोली- मुझे पता है.. तुम बहुत बड़े चोदू हो।

फिर अमन बोला- क्या करूं डार्लंड, तुम्हारी चूत देख कर मेरा लंड फनफनाने लगता है.

मैंने भी अपने लंड की तरफ इशारा किया. प्रीति ने एक फ़्लाइंग किस मेरी ओर फेंका और जैसे ही मैंने उसका किस अपनी मुट्ठी में पकड़ा, उसने मुझे इशारा किया कि वो किस लंड पर लगा लो।

फिर उसने अपनी उंगली अपनी चूत की फांकों के बीच फिराई और उंगली को मुँह में लेकर चाटने लगी.

तभी अमन बोला- जान, जब तुम अपनी चूत ऐसे चाटती हो तो कसम से काश मैं वहां होता और तुम्हारी चूत को टुकड़े-टुकड़े करके खा जाता.

प्रीति उसी नशीले अंदाज में बोली- तुमने अभी तक अपना लंड नहीं दिखाया.
अमन बोला- अरे हां यार, मैं तो भूल गया.

इधर मैंने भी प्रीति का इशारा समझ कर एक-एक करके अपने कपड़े उतार दिये।

जैसे ही प्रीति ने मेरा खड़ा लंड देखा, उसने अपने होंठ गोल किये और मेरे लंड को चाटने के अंदाज़ में अपनी जीभ अपने होंठों पर फिराने लगी।

अब उसके लिए अमन के साथ लाइव शो करना मुश्किल हो गया था.. इसलिए उसने अमन की तरफ देखे बिना कहा- अमन डार्लंड, लैपटॉप की बैटरी लो हो रही है.. और मुझे अब नींद आ रही है। अब तुम मेरे सपनों में आओ और मुझे हर दिन की तरह चोदो। (चोदू जीजा साली)

इससे पहले कि अमन कुछ कहता…प्रीति ने लैपटॉप के साथ-साथ मोबाइल भी बंद कर दिया।
शायद वह जानती थी कि अमन उस के मोबाइल पर फोन कर उसे परेशान करेगा.

अब वो इठलाती हुई मेरे पास आई और मुझसे चिपकते हुए बोली- जीजू, मेरी जान… आज पूरी रात आप अपनी इस साली की Chut Chudai करके बेदम कर दो।

इतना कह कर प्रीति मेरे एक निप्पल पर अपनी जीभ फिराने लगी.
वो निपल्स को चाटने के साथ-साथ उन्हें काटने भी लगी और मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में लेकर अपनी चूत से रगड़ने भी लगी.

उसने मुझे हल्का सा धक्का देकर बिस्तर पर गिरा दिया और मेरी टांगों के बीच बैठकर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. मैं रोमांचित था।

मुझे उम्मीद नहीं थी कि सब कुछ इतना आसान हो जाएगा।

मैंने कहा- तुम कब से मेरे लंड पर नज़र रख रही थी?
वो बोली- जीजाजी, मैं तो आज दोपहर को ही आपके लंड से चुदने के लिए तैयार थी. लेकिन आपकी गांड फट गयी थी इसलिए गेम नहीं खेला जा सका.

मैं हँसा।

मैं अपनी चोदू जीजा साली कहानी का पूरा मजा सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगा. और हाँ कहानी कैसी लगी कमेंट में बताना ना भूले

कहानी का अगला भाग: चोदू जीजा साली XXX

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds