चाची को चोदा और सुहागरात मनाई चाचा की गैरमौजूदगी में

चाची को चोदा और सुहागरात मनाई चाचा की गैरमौजूदगी में

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “चाची को चोदा और सुहागरात मनाई चाचा की गैरमौजूदगी में” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

हेलो दोस्तों, मेरा नाम रोहित है, मैं एक स्टूडेंट हूं, मेरी उम्र 20 साल है

मैं दिखने में भी स्मार्ट हूं, और मेरे पेनिस का साइज 8 इंच है।

मैं सेक्स स्टोरीज का नियमित पाठक हूं और आज पहली बार अपने पहले सुहागरात की कहानी सुनाने जा रहा हूं.

ये बात दो साल पहले हुई थी, तब जनवरी का महीना था

मेरे चाचा को व्यापार के काम से कई बार शहर से बाहर जाना पड़ता था

तब उनके घर पर आशिका चाची के अलावा कोई नहीं था

तो उन्होंने पापा से कहा की रात में सोने के लिए मुझे चाची के पास भेज दे ताकि चाची को कोई प्रॉब्लम न हो.।

मेरी चाची दिखने में अच्छी हैं, उनकी गांड बहुत मस्त है, जब भी वो सूट पहनकर मेरे सामने चलती हैं

तो मुझे अभी से चोदने का मन करता है. लेकिन मैंने कभी इस बात को बहुत गंभीरता से नहीं लिया.

रात करीब 10 बजे जब मैं उनके घर पहुंचा तो जाकर देखा तो चाची नाइट गाउन में बेड पर बैठी थीं.

मुझे देख चाची बोलीं- आ गए बेटा, पहले खाना खा लेते हैं।

फिर तुम मेरे पास बिस्तर पर सो जाओ, ड्राइंग रूम में अकेले कैसे सोओगे।

तो मैंने कहा- ठीक है चाची। हम दोनों ने खाना खाया और फिर सोने चले गए

रात में अचानक मेरी आँख खुली और मुझे एहसास हुआ

कि चाची के निप्पल ठीक मेरे चेहरे के सामने थे, मेरा मन मचलने लगा था पर मैंने कण्ट्रोल कर लिया।

मैं उठा और वॉशरूम गया, वापस आकर सो गया।

थोड़ी देर बाद फिर आँख खुली तो लगा कि चाची के होंठ मेरे ठीक सामने हैं.

अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने अपने होंठ चाची के होठों पर रख दिए.

अब मैं उसके होठों को चूस रहा था और वो भी मेरा साथ देने लगी

फिर वो उठी और लाइट ऑन कर दी, मैं डर गया

कि चाची को ये सब बुरा तो नहीं लगा, कही उन्होंने किसी को बता दिया तो क्या होगा.

तभी चाची बोलीं- यह क्या कर रहे थे? मैंने कहा कि- चाची मुझसे गलती हो गई है, प्लीज ये बात किसी को मत बताना.

तभी चाची धीरे-धीरे मेरे पास आईं और मेरे होठों को चूसने लगीं और एक किस करने के बाद कहा

कि मैं किसी को नहीं बताऊंगी, लेकिन बदले में तुम आज रात मेरी प्यास बुझा दो।

मैं समझ गया कि चाची मुझे से चुदना चाहती हैं. मैंने कहा कि चाची आपको चाचा नहीं चोदते क्या

तो वो बोलीं कि आपके चाचा तो महीने में एक बार ही चोदते हैं.

और उसमें भी वे जल्दी झड जाते हैं, तुम आज मुझे थोड़ा प्यार दो।

यह सुनकर मैंने कहा ठीक है चाची आज मैं आपके साथ सुहागरात मनाऊंगा।

तभी वो मुझे किस करने लगी, मैंने उसे रोका और कहा कि तुम पहले कपड़े बदलकर आओ.

फिर उसने कहा, मैं केवल गाउन में हूं, मैं और क्या चेंज कर के आउ।

तो मैंने कहा कि तुम जाओ और ब्रा और पेंटी पहन कर आओ, आज हम अच्छे से सुहागरात मनाएंगे।

यह सुनकर वह हंसने लगी और चली गई। 5 मिनट बाद वो ब्लैक कलर की ब्रा और पैंटी पहन कर कमरे में आई

और व्हाइट कलर की साड़ी पहनी हुई थी, मैं उसे देखकर पागल हो गया

क्या लग रही थी वो उसके बड़े- बड़े चुचे ब्रा फाड़ कर बहार आने के लिए बेताब थे.

मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और उसे चूमने लगा

और चूमते हुए उसने अपना हाथ मेरे अंडरवियर में डाल दिया

और मेरी गांड को छेड़ने लगी। तो बदले में मैंने भी अपना हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और उसकी गांड में उंगली करने लगा.

5 मिनट तक ऐसे ही चलता रहा फिर मुझे ठंड लगने लगी तो मैंने जल्दी से उसकी साड़ी उतारी

और अब हम रजाई में घुस गए और धीरे धीरे हम दोनों ने अपने सारे कपड़े उतार दिए।

मेरा लंड अब तक तंबू बन चुका था और अब मैं उसकी गांड में उंगली करने लगा.

फिर उसने कहा कि अब रहा नहीं जाता, जल्दी से अपना लंड इस चूत में डाल दो.

मैंने उसे लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया

जैसे ही मेरा 8 इंच का लंड उसकी चूत में आधा चला गया वो तड़प उठी

और आवाज़े निकलने लगी आह…. मर गयी…. मर गयी मर जायुंगी, इसे बाहर निकाल.।

मैंने जोश में कुछ भी नहीं सुना और धक्का देना शुरू कर दिया

और धीरे-धीरे उन्हें भी मज़ा आने लगा, आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह… बेटा छोड़ दे

छोड़ दे अपनी चाची को आःह्ह…. आह्ह्ह…. बस बोले जा रही थी वो…

15 मिनट सेक्स के बाद मैंने अपनी चाची से पूछा कि कहां निकालूं, वो बोली अंदर डाल दो

वो पहले ही झड चुकी थी. मैंने चूत के अंदर ही छोड़ दिया

और उनके ऊपर लेट गया, थोड़ी देर में वो उठी और मुझे लेटा कर मेरे ऊपर आ गयी और मेरा लंड चूसने लगी.

शायद चाची चाचा का सिर्फ लंड चुस्ती थी क्यूंकि वो बहुत अच्छे से चूस रही थी.

थोड़ी देर में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. और अब वो खुद ही मेरे लंड पर बैठ गई.

अब मेरा लंड उसकी गांड में था. शायद चाची ने अपनी गांड को बहुत मरवाई होगा

क्योंकि उन्हें गांड में लेने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई.

अब वो बहुत धीरे धीरे ऊपर नीचे होने लगी, बहुत देर तक ऐसा ही चलता रहा

फिर मुझे जोश आ गया और मैंने उसे गोद में उठाकर उल्टा कर दिया.

अब वो घोड़ी जैसी पोज़ीशन में थी और मेरा लंड उसकी गांड में था.

मैं धक्के मारने लगा और चाची आवाजें निकालने लगीं उफ्फ…। उफ्फ… आह…। आह…। मारो… और जोर से चोदो…।

काफी देर गांड मरने के बाद झड़ने वाला था, मैंने लंड निकाल कर सारा का सारा स्पर्म उसकी गांड पर गिरा दिया

और चाची ने अपनी ऊँगली चाट कर साफ कर दिया.

अभी रात के 3 बज रहे थे, चाची और मैं खुद को साफ करने बाथरूम गए

उन्होंने अपने हाथों से मेरे लंड को साफ किया और हम वापस आकर लेट गए.

थोड़ी देर में उठा तो देखा कि मामी सोई हुई थी। मैं रजाई में घुस गया और उसकी चूत को चाटने और काटने लगा।

वह जाग गई और मेरा साथ देने लगी। वो मेरा सर पकड़ कर

अपनी चूत में देने लगी और थोड़ी देर बाद मैं फिर से उसे चोदने लगा.

इसी तरह उस रात हमने कई बार सेक्स किया और उस रात के बाद जब भी मौका मिलता हम सेक्स करते।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds