कोचिंग रिसेप्शनिस्ट को पटाकर सुनसान सड़क पर कार में चोदा

कोचिंग रिसेप्शनिस्ट को पटाकर सुनसान सड़क पर कार में चोदा

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कोचिंग रिसेप्शनिस्ट को पटाकर सुनसान सड़क पर कार में चोदा”। यह कहानी रोशंक की है वो आपको आगे की कहानी बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

कार में चोदा स्टोरी में पढ़ें कि मैंने पड़ोस की एक ऑफिस रिसेप्शनिस्ट लड़की को पटाया और उसे सेक्स के लिए तैयार किया और फिर सुनसान सड़क पर कार में उसकी चुदाई की.

प्रिय पाठकों, मैं मनीष हूं. मेरी उम्र 32 साल है और मैं इंदौर का रहने वाला हूँ.
बचपन से ही खेलों में रुचि होने के कारण मुझे व्यायाम करने का बहुत शौक है इसलिए मेरा शरीर भी काफी मजबूत है।
मैंने भी खूब पढ़ाई की है. उसी के चलते फिलहाल मैं एक कंपनी में मैनेजर हूं.

ये तीन साल पहले हुआ था. मई 2020 में लॉकडाउन के दौरान मेरे साथ एक खूबसूरत घटना घटी, उसे मैं आपके सामने पेश कर रहा हूं।

उस वक्त मैं काम के सिलसिले में दूसरे शहर में था.

मेरे घर के पास ही एक कोचिंग सेंटर था, जहां मेरी अच्छी जान-पहचान थी.

उस कोचिंग के रिसेप्शन पर एक लड़की बैठी रहती थी, जिसका नाम रितिका था.
मैं रितिका से नॉर्मली बात करता था. (कार में चोदा)

अक्सर, जब कोई ऑनलाइन कुछ ऑर्डर करता था, तो उसे ऑफिस टाइम के दौरान कोचिंग रिसेप्शन पर ही डिलीवर करवाता था।

रितिका से बात करते समय थोड़ी हंसी-मजाक होती थी, लेकिन उस दौरान भी मैं उससे नॉर्मल बात करता था।

वो लड़की दिखने में तो साधारण थी लेकिन उसका फिगर कमाल का था, ये मुझे उसे चोदने के बाद ही समझ आया.
उसका 34-30-36 का फिगर बहुत मेन्टेन था.

शुरू में मेरे मन में उसके लिए सेक्स के बारे में कोई विचार नहीं था.

लॉकडाउन के दौरान हम मोबाइल से ज्यादा बातें करने लगे क्योंकि खाली समय था.
हम सारा दिन बातें करते, लूडो खेलते।

धीरे-धीरे हमारी बातचीत मजाक से बढ़कर सेक्स टॉक तक पहुंच गई।
उससे बात करते हुए पता चला कि वो शराब भी पीती है.

जब इस बात का खुलासा हुआ तो हमने कई बार पार्टी करने और कुछ अच्छा खाने की बात की.

एक दिन मैसेज करते समय हम खाने के बारे में बात कर रहे थे.

मैंने पूछा- क्या खाओगे?
वो बोली- मेरा तुम्हें खा जाने का मन कर रहा है.

मैंने भी कहा- ठीक है, खा लो. लेकिन मुझे कहा से खाना शुरू करोगी?
यह पूछने पर उसने सीधे मैसेज में लिखा- आपके लंड से!

कसम से मेरा सात इंच लम्बा लंड खड़ा हो गया था और झटके मारने लगा था.
मैंने भी कह दिया कि लंड खाने के लिए चूत खोलनी पड़ेगी.
उसने हाँ कहा।

इसके बाद सेक्स की बातें होने लगीं.
घंटों तक सेक्स की बातें होने लगीं.
उससे सेक्स के बारे में बात करते हुए हस्तमैथुन करने लगा।

इसलिए मैंने सोचा कि जितनी जल्दी हो सके रितिका को चोदने का कार्यक्रम तय कर लिया जाए.
लेकिन लॉकडाउन के कारण कई दिनों तक मौका नहीं मिला.

एक दिन हमने लॉन्ग ड्राइव पर जाने और कार में मौज-मस्ती करने का फैसला किया।
हमारी योजना तुरंत तय हो गई. (कार में चोदा)

माहौल बनाने के लिए हमने शराब, सिगरेट और कुछ खाने के लिए रख लिया.

शाम करीब 7.30 बजे, मैंने उसे घर से उठाया और कार एक शांत इलाके की ओर ले गया।
कोरोना के कारण सभी सड़कें ज्यादातर खाली रहीं और अंधेरा होने के बाद कम ही लोग नजर आ रहे थे.

कुछ देर ऐसे ही घूमने के बाद हम लोग शराब पीने लगे.
हम दोनों अलग-अलग गिलास से पीने लगे और बातें भी करते रहे.

जब मुझे थोड़ा नशा सा होने लगा तो मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसकी जाँघ पर रख दिया और धीरे-धीरे हिलाने लगा।

वो काफी देर तक हॉट रहीं.
हाथ रखते ही आंखों में शराब के साथ सेक्स का नशा भी दिखने लगा.

मैंने सिगरेट सुलगाई तो वो भी मेरे बगल में सिगरेट पीने लगी.
जब वह सिगरेट पी रही थी और धुआं उड़ा रही थी तो मैं उसके स्वभाव को समझ गया कि यह खिलाड़ी है।

उसने लोअर और टी-शर्ट पहन रखी थी. जैसे-जैसे मैं अपने हाथ उसकी जाँघों से लेकर उसके पेट और उसकी टी-शर्ट के ऊपर से उसके Big Boobs तक ले गया, वह और अधिक गर्म होने लगी।
मुझे भी बहुत मजा आ रहा था.

मेरा एक हाथ कार की स्टीयरिंग पर था और दूसरा उसके स्तनों पर।

साथ ही, अब हम एक ही गिलास से थोड़ी-थोड़ी मात्रा में शराब भी पी रहे थे।
वो ही मुझे पीला रही थी.
मेरा लंड भी जीन्स में फूलने लगा था.

नोट: अगर आप सिंगल हैं और अपनी हवस पूरी करना चाहते हैं, तो चिंता न करें, Kamla Nagar Escorts आपका इंतजार कर रही हैं।

कुछ देर बाद मैंने उसकी टी-शर्ट के अंदर हाथ डाल दिया और उसके मम्मों को दबाने लगा.
उसके बड़े बड़े स्तन मेरे हाथों में नहीं समा रहे थे.

मैं अब खुद पर काबू नहीं रख पा रहा था इसलिए मैंने कार साइड में रोकी और उस पर टूट पड़ा.

उसके बाल पकड़ कर उसके होंठ चूसे और चूमने लगा.
वो भी मेरे साथ किस करने में लगी हुई थी.

काफी देर तक किस करने के बाद मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया.

उसकी वासना भी बढ़ती जा रही थी और वो जोर जोर से आहें भर रही थी.
उसकी गर्दन को चूमते हुए मैंने अपना हाथ उसकी टी-शर्ट के अंदर डाल दिया और उसके स्तनों को खूब जोर से दबाया और उसकी ब्रा के अंदर हाथ डाल दिया। (कार में चोदा)

उसके निपल्स सख्त हो गये थे और ऐसा लग रहा था मानो हाथ में चुभ रहे हों।
वो गनगना उठी और खुद ही टी-शर्ट ऊपर उठा दी.

मैंने उसके स्तनों के बीच अपना मुँह डाल कर उन्हें खूब चूसा और चाटा और ब्रा के अन्दर हाथ डाल कर उसके निपल्स को मसलने लगा।
ऐसा लग रहा था मानो दोनों आग में जल रहे हों.

किस करते करते मैंने अपना एक हाथ अपनी पीठ के पीछे डाला और ब्रा का हुक खोल दिया. उसके बड़े-बड़े स्तन बाहर छलक पड़े।
लड़की गोरी थी. उसके शरीर… बड़े स्तन और भूरे रंग के निपल्स को देखकर, मैंने धैर्य खो दिया और उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया।

उसके स्तनों और निपल्स को अपने मुँह में लिया और उन्हें हर संभव तरीके से चूसा।
उनसे दूध निकालना ही बाकी रह गया था।

रितिका भी जोर जोर से आहें भर रही थी और सिसकारियां ले रही थी- आह्ह … और जोर से चूसो.
उसका एक हाथ मेरे सिर पर था और दूसरा मेरे लिंग पर.

बीच-बीच में मैं अपने मुँह में शराब भर लेता और कभी उसे पिला देता, कभी उसकी चुचियाँ चूस लेता।

दोनों सेक्स और शराब के कारण पागल हो चुके थे.
इसी बीच पीछे से रोशनी आती दिखी. (कार में चोदा)

उसने अपनी ब्रा उतार कर नीचे रख दी और अपनी टी-शर्ट नीचे खींच दी.
मैंने भी कार स्टार्ट की और पीछे देखा तो एक बाइक आ रही थी.

हम एक-दूसरे को चूमते-चाटते धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगे।
बाइक वाले के आगे जाने के बाद मैंने उसका हाथ अपने लिंग पर रख दिया और वह उसे ऊपर से ही मसलने लगी.

मैंने जींस का बटन और चेन खोली और अपना अंडरवियर नीचे खींच लिया.
जैसे ही उसके नाज़ुक हाथ ने लंड को छुआ, कसम से बहुत मज़ा आया.

कुछ देर सहलाने के बाद उसने लिंग को अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया और धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करने लगी।
उसके हाथ में लिंग और भी अधिक फूलने लगा. वो भी और जोश में आ गयी और मजे से लंड हिलाने लगी.

कभी अपना हाथ नीचे ले जाकर नितंबों को सहलाती, तो कभी उसके लिंग को मसलती.
फिर उसने मेरे गोटे अपने हाथ में रख लिए और मजे से बोली- ये क्या है, इसमें से क्या निकलता है?

मैंने हंस कर कहा- इससे बीज पैदा होता है.. जिससे आपका पेट फूल जाएगा।
वह हंसने लगी।

मैंने पूछा- चूसोगी?
पहले तो उसने मना कर दिया, लेकिन काफी समझाने के बाद वह मान गयी.

मैंने बैठ कर अपनी जीन्स और अंडरवियर को टांगों तक नीचे खींच लिया. मेरा लंड खड़ा होकर उसके हाथ से रगड़ रहा था.

फिर कुछ सोच कर वो नीचे झुकी और लंड को चूमने लगी.
कुछ देर तक वह लिंग के अग्रभाग पर अपने होंठ फिराती रही और जीभ से चाटती रही।

फिर उसने सुपारे को मुँह में डाल लिया और चूसने लगी.

थोड़ी देर तक लिंग चूसने के बाद वो उठी और अपने हाथ से लिंग को मसलने लगी.

कुछ देर चूमने-चाटने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल दिया और उसके शरीर पर फिराने लगा; बाद में उसकी जाँघों और Tight Chut पर हाथ ले जाकर उसे सताता रहा।

जब उसे चोदने की इच्छा होने लगी तो उसने अपना हाथ उसकी लोअर की इलास्टिक के अंदर डाल कर सीधा उसकी चूत पर रख दिया. (कार में चोदा)

आह, उसकी गर्म, धधकती हुई चूत का स्पर्श मुझे और भी गर्म करने लगा.
उसकी चूत के होठों से रिस रहे पानी से गीले हो गये थे।

मैंने क्लिटोरिस को अपनी उंगली से सहलाया और उंगली को गीली चूत में सरका दिया।
अब रितिका पागल होने लगी, उसके मुँह से अजीब-अजीब आवाजें निकलने लगीं।

कुछ देर बाद वो बोलने लगी- चलो पीछे चलते हैं.

थोड़ा आगे जाने के बाद मैंने एक सुनसान सड़क पर कार पार्क की और कुछ देर इधर-उधर देखने के बाद हम पिछली सीट पर चले गये।
वह सीट पर लेट गयी.

मैंने ऊपर चढ़कर उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसके रसीले स्तनों को चूसने लगा।
साथ ही अपना लंड उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

वो जोर-जोर से कराहने लगी और विनती करने लगी- अब Chut Chudai कर दो।
मैंने उसका लोअर और पैंटी उसकी गांड के नीचे सरका दी और उसके ऊपर चढ़ गया.

उससे अपने लंड की मालिश करवाई, उस पर कंडोम लगाया और चूत पर सेट किया.
पूरी चूत गीली हो गयी थी और लंड का सुपारा चूत के छेद पर था.

मैंने धीरे से धक्का लगाया तो सुपारा चुत का छेद खोलता हुआ अन्दर घुस गया.
वह कराहने लगी.

मैंने भी इसका भरपूर आनंद लिया. (कार में चोदा)
मैंने धीरे-धीरे उसके स्तनों को चूसते हुए अपना पूरा लिंग अन्दर सरका दिया।

कुछ देर रुकने के बाद मैंने अपनी कमर हिलानी शुरू कर दी और वो भी नीचे से अपनी Moti Gand हिलाने लगी.
मैं एक ही धक्के में पूरा लंड बाहर निकाल कर अन्दर डाल देता.

अब उसकी चूत में और ज्यादा लंड घुस गया था.
वो जोर जोर से चिल्लाने लगी- आह… और तेज चोदो मुझे… और तेज चोदो.

मैं भी बहुत दिनों से इंतज़ार कर रहा था.
मैंने उसके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा, एक पैर को सीट से नीचे खींच लिया, उसके स्तनों को पकड़ लिया और उसे जोर-जोर से चोदने लगा।

अब मेरा पूरा लिंग उसकी बच्चेदानी को छू रहा था और आनन्द के कारण नसें फूलने लगी थीं।
लिंग का सिर और भी अधिक फूलने लगा था।

वो आह्ह आह्ह करने लगी.
हम दोनों सेक्स और शराब के कारण पागल होने लगे थे.

मैं उसे ऐसे ही रुक-रुक कर दस मिनट तक चोदता रहा और फिर उसे घोड़ी बना दिया।
वो भी घूम गयी और घोड़ी बन गयी.
पीछे से उसकी उभरी हुई गांड देखने में मजा आ गया.

मैंने उसकी गांड पर भी कई बार थप्पड़ मारे लेकिन उसे दर्द हो रहा था.

फिर मैंने उसकी गांड को सहलाया और पीछे से उसकी चूत में एक उंगली डाल दी.
बढ़ी हुई झांटो के कारण चूत चाटने की इच्छा नहीं हो रही थी। (कार में चोदा)

वो अपनी गांड हिला हिला कर उंगली करवा रही थी.
मैंने उंगली निकाल कर पीछे से उसके मम्मे पकड़ लिए, लंड सैट किया और एक ही धक्के में अन्दर डाल दिया.
वो फिर से कराहने लगी.

मैं उसकी कमर पकड़ कर जोर जोर से धक्के लगाने लगा.
हर धक्के के साथ थप्प थप्प की आवाजें आ रही थीं. कार भी जोर-जोर से हिल रही थी।

उसकी चूत इतनी गीली हो गई थी कि पानी उसकी जांघों पर बह रहा था.

उसकी कमर छोड़कर उसके बाल पकड़ लिए और हर धक्के के साथ उस पर ऐसे चढ़ गया जैसे कोई घोड़ा घोड़ी को चोद रहा हो।
कुछ देर बाद उसे पसीना आने लगा और कहने लगी कि और जोर से करो.. मैं झड़ने वाली हूँ।
मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा.

मेरा लंड भी बुरी तरह से सूज गया था, नसें तन रही थीं और जोर-जोर से उसकी चूत से रगड़ खा रही थीं।

वो जोर से चिल्लाई और झड़ने लगी और सारा पानी मेरे लंड पर छोड़ दिया.

जैसे ही उसकी चूत झड़ने लगी तो वो टाइट हो गई और ऐसा लगा जैसे उसने लंड को अपनी चूत से चूसना शुरू कर दिया हो.

अब मैं अपने आप पर और अधिक नियंत्रण नहीं कर सका और मैंने खुद को और जोर से धक्का दिया और उसके ऊपर गिर गया।
पूरा लिंग झटके मारने लगा और उसके अन्दर वीर्य की धाराएँ छोड़ने लगा।
कंडोम की वजह से कोई चिंता नहीं थी.

कुछ देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद मैं उठ कर सीट पर बैठ गया.
वो भी उठ कर अपने कपड़े ठीक करने लगी. (कार में चोदा)

कार में चोदा के बाद दोनों ने कपड़े पहने और वापस आगे की सीट पर आ गये.

हम दोनों सिगरेट पीते हुए बातें करने लगे.

मैंने पूछा- कैसा लगा? (कार में चोदा)
वो बोली- मजा आ गया, तुम्हारा लंड बहुत बढ़िया है.

कुछ देर बात करने के बाद मैंने उसे उसके घर छोड़ा और अपने घर वापस आ गया।
उसके बाद भी हम कई बार मिले और कई बार मैंने उसे सुनसान जगह पर ले जाकर कई बार चोदा.

यह मेरी सेक्स कहानी है और मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी कार में चोदा कहानी पसंद आएगी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds