कॉल गर्ल सेक्स स्टोरी – वेश्या की चुदाई बरसाती रात में

कॉल गर्ल सेक्स स्टोरी – वेश्या की चुदाई बरसाती रात में

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम धनुष है। यह कॉल गर्ल सेक्स स्टोरी बिल्कुल सच है और मेरा निजी अनुभव है। एक्सएक्सएक्स गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि रात के अंधेरे में ऑफिस से आते वक्त एक बड़ी कार से कुछ आवाजें सुनाई दीं। कार में क्या चल रहा था? मैंने क्या किया?

बात 2011 की है। मैं पुणे  पर किराए के कमरे में अकेला रहता था।

मेरा कमरा एक परित्यक्त बंगले का हिस्सा था। वह बंगला मेन रोड से करीब 2 किमी की दूरी पर था। बरसात के दिन थे। रोज की तरह अपना काम निपटा कर रात का खाना, टिफिन और आधा ओल्ड मंच खाकर मैं मुख्य सड़क पर बस स्टॉप पर उतर गया।

रात के करीब साढ़े 11 बजे होंगे। मैं अपने कमरे की ओर चलने लगा। कुछ दूर चलने के बाद सड़क सुनसान हो गई। अब घर भी ज्यादा दूर नहीं था। मैं चल ही रहा था कि आगे सड़क के किनारे एक स्कॉर्पियो कार आकर रुकी।

मैं अपनी धुन में जा रहा था कि तभी उस कार के अंदर से कुछ आवाजें आने लगीं. कुछ समझ में नहीं आया। कार के शीशे काले थे इसलिए अंदर कुछ नजर नहीं आ रहा था। मैं कार के पास जाकर एक आइडिया ले रहा था।

अंदर से एक लड़की के चिल्लाने की आवाज आई-छोड़ो…नहीं…बिल्कुल नहीं…छोड़ो साले…
तभी सड़क के दूसरी तरफ का दरवाजा खुला जिसमें से एक लड़का उतरा और सिगरेट पीते हुए पेशाब करने लगा।

दोनों उस लड़की के कपड़े उतारने की कोशिश कर रहे थे और वो उनका जोर-शोर से विरोध कर रही थी. सभी लड़के शराब के नशे में थे और लड़की के साथ गाली-गलौज करते रहे।

लड़की ने जैसे ही बाहर की आवाज सुनी वह और जोर से चिल्लाने लगी- प्लीज मुझे बचा लो… मुझे छोड़ दो… प्लीज!
तभी एक लड़के ने कहा – चुप रहो भाभी। अगर वो बिजनेस करती है तो नौटंकी क्यों कर रही है?
यह कहकर उसने युवती को थप्पड़ मार दिया।

अब मैं हरकत में आ गया हूं। बाहर खड़े लड़के से कहा-देखो, छोड़ दो, नहीं तो हंगामा कर दूंगा।
लड़का- आ जा साले…वो वेश्या है और तुम कौन हो? क्या उसका कोई पति है?

मैं- अगर तुमने लड़की को नहीं छोड़ा तो मैं हंगामा कर दूंगा और पुलिस को भी बुला लूंगा।
लड़का – जाओ कमीने… हरामखोर का बेटा, जो करना है कर लो! आप नहीं जानते कि हम कौन हैं।

यह कहकर उसने मुझे धक्का दिया और कार में घुस गया और दरवाजा बंद कर लिया। मैं तेजी से कार के सामने भागा और साइड से एक पत्थर उठाकर कार के आगे के शीशे पर दे मारा। शीशा तो नहीं टूटा, लेकिन उसमें कई दरारें आ गईं।

मेरे वार से तीनों लड़के डर गए। उतरते समय एक ने मुझसे कहा- अरे यह क्या कर रहे हो?
मैं- अगर तुमने लड़की को नहीं छोड़ा तो मैं पूरी कार तोड़ दूंगा और हंगामा करूंगा और लोगों को बुलाऊंगा।

तभी कार के अंदर से दूसरा लड़का बोला- जाने दो यार… बेवजह मत लड़ो। 

बाकी लोग शायद उसकी बात समझ गए थे। गाली-गलौज करते हुए उन्होंने लड़की को कार से बाहर धक्का देकर नीचे गिरा दिया जिससे वह गिर पड़ी और यह देख आवारा लड़के कार लेकर भाग गए.

अब रास्ते में मैं, वो लड़की और हमारे साथ बारिश भी हो चुकी थी। मैंने गिरी हुई बच्ची को हाथ देकर उठने में मदद की। उनकी जींस कमर के नीचे तक खुली हुई थी. उसने जींस खींची और ऊपर का बटन लगा दिया।

लड़की- बहुत-बहुत धन्यवाद… तुमने मेरी मदद की।
मैं- ठीक है। लेकिन क्या तुम ठीक हो?
लड़की- हां…तुमने मुझे बचा लिया…धन्यवाद। कृपया मुझे बस स्टॉप पर छोड़ दें,

मैं- तुम भीग गए हो और तुम्हारे कपड़े भी खराब हो गए हैं। तुम एक काम करो, मेरे साथ चलो, ऊपर से मौसम भी खराब हो गया है।
उसने कहा- अकेले रहते हो?
मैने हां कह दिया। लेकिन आप चिंता न करें। आप बिल्कुल सुरक्षित हैं।

वह कुछ नहीं बोली और मेरे साथ चल दी। कमरे में पहुंचे तो हवा के साथ बारिश तेज हो गई।

बिजली नहीं थी, इसलिए मैंने इमरजेंसी लैंप लगा दिया।

पहली बार मैंने उसे ठीक से देखा। लगभग 24 वर्ष की वह गेहुँआ रंग और छरहरे बदन की मालकिन थी। उनकी आंखें अद्भुत थीं।

मैंने कहा-वहां आलमारी में मेरे कुछ कपड़े देख लो, जो सूट करे पहन लो।
मेरे पास एक ही कमरा था इसलिए मैं अपनी टेबल पर गया और उसकी तरफ पीठ करके कुर्सी पर बैठ गया। कुछ देर बाद उसने कपड़े बदले।

मैंने उसे खाना देते हुए टिफिन निकाला। साथी ने बैग में रखी पुरानी मंक रम भी निकाली और एक तरफ रख दी।
उसने देखा और मुझसे कहा – अगर तुम चाहो तो अपना ड्रिंक ले सकते हो। मुझे कोई आपत्ति नहीं है।

इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता, वह बोलीं- आप नीयत के बहुत साफ आदमी हैं। वरना यहां कौन किसकी मदद करता है। बेझिझक अपना ड्रिंक लें। मुझे आप पर पूरा विश्वास है।

ठंड के कारण मैं पहले ही सिकुड़ चुका था। मैंने खुद उठकर एक बड़ा पेग बनाया और एक ही झटके में पी गया। अब मैंने उससे बिना पूछे एक सिगरेट भी सुलगा ली।

मैं- तुम्हारा नाम क्या है? और वो लड़के कौन थे?
वह- मेरा नाम शहनाज़ है। मैं यहां गांव से पढ़ने आया हूं। घर की स्थिति ठीक नहीं है। बापू बंजर जमीन पर खेती करते हैं। तीन बहनें और एक भाई है।

(क्या आप भी ऐसे सेक्स का मजा लेना चाहते हैं तो Escorts in Delhi से लड़कियों को बुक करके अपने अंदर की वासना को संतुष्ट कर सकते हैं)

आगे बताते हुए उन्होंने कहा- मैं यहां यह सोच कर आई थी कि मैं कुछ बनूंगी। लेकिन किस्मत को कुछ और ही लिखा था। मुझे कॉलेज में एक लड़के से प्यार हो गया। मेरा फायदा उठाकर उसने मेरे सेक्स का वीडियो बना लिया।

जिसके चलते उसने मुझे ब्लैकमेल किया और अपने दोस्तों के साथ संबंध बनाने के लिए मजबूर किया। मैं इस जाल में फंस गई और एक साल के भीतर एक एक्सएक्सएक्स गर्ल बन गई।

आज शाम नौ बजे उसी कार में एक लड़के ने मुझे बुक किया। उसने कहा था कि वह अकेला था लेकिन बाद में उसके दो दोस्त जो काफी नशे में थे, कार में घुस गए।

ऊपर से उसने अपने कुछ और दोस्तों को बुलाकर आने को कहा था। मैंने इस पर आपत्ति जताई और मुझे जाने के लिए कहा। इस पर उन्होंने मुझे पीटना शुरू कर दिया और जबरन इस रास्ते पर ले गए।

आप समय से वहाँ पहुँच गए और मैं बच गया। इसके लिए आपको पुनः धन्यवाद। अगर मेरी वजह से तुम्हें यहां कोई दिक्कत है तो मैं अभी चलता हूं।

मैं- अरे नहीं। यहाँ कोई समस्या नहीं है। केवल एक ही समस्या है कि यह केवल एक कमरा और केवल एक बिस्तर है। तुम खाना खाकर ऊपर सो जाओ, मैं नीचे एडजस्ट कर लूंगा।

शहनाज़- आप बहुत अच्छे इंसान हैं! एक xxx लड़की आपके साथ आपके कमरे में अकेली है और आप उसका फायदा नहीं उठाएंगे?
मुझे उसका इशारा समझ नहीं आया।

मैं- तुम सही हो लेकिन तुम कॉल गर्ल होने से पहले एक महिला हो और मैंने आज तक किसी महिला का फायदा नहीं उठाया। नहीं तो उन लोगों में और मुझमें क्या फर्क रह जाएगा?

उसकी आंखों में आंसू आ गए- मैं आज तक हर मर्द से नफरत करती थी लेकिन आज सच में मैंने एक ऐसा मर्द देखा है जो सही मायने में औरत की इज्जत करना जानता है।

वह उठकर मेरे पास आई। अपना दूसरा पैग जो चालू था उठा कर पी लिया। मैं उसे देखने जा रहा था। इस वक्त उन्होंने सफेद शर्ट और मेरा लोअर पहना हुआ था।

लैम्प की रोशनी में उसकी शर्ट के अंदर उसके 32 साल के निप्पल दिख रहे थे. अब वह मेरी जांघ पर बैठ गई।

मैं कुछ कहता… इससे पहले उन्होंने कहा- मैं आज तक बहुत सी ऐसी पृथ्वीवासियों के साथ सो चुका हूं जो खुद को मर्द समझती हैं। लेकिन आज पहली बार किसी पुरुष के प्यार में पड़ने का दिल है।

यह कहकर उसने अपने होंठ मेरे होठों पर रख दिए। वह मुझे गहराई से चूम रही थी और मैं मधुर आनंद की लहर पर सवार था। फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी छाती पर रख लिया।

जब मुझे थोड़ा होश आया तो मैं रुक गया।

उसे कुछ समझ नहीं आया। मैंने मेज पर बची हुई बोतल की ओर इशारा किया। वह समझ गयी। उसने उसी गिलास में एक बड़ा पेग बनाया और आधा पी लिया और आधा मुझे दे दिया।

अब हम बिस्तर पर आ गए हैं। उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया। अब उसने अपनी शर्ट उतारी और नीचे कर दी। उसने पहले ही अपनी ब्रा और पेंटी उतार दी थी क्योंकि वे गीली थीं। अब वो Xxx लड़की पूरी तरह से नंगी थी। उसके निप्पल उभर कर नुकीले हो गए थे।

सर्द हवा के कारण उसके शरीर के हर अंग पर रोंगटे खड़े हो गए थे, जो उसकी सुंदरता को और बढ़ा रहे थे। उसने मेरी शर्ट उतार दी और मेरा ट्राउज़र भी खींच लिया। मैं बिस्तर पर पूरी तरह नंगी पड़ी थी। दोनों रम के नशे में चूर हो रहे थे।

वह मेरे शरीर के ऊपर लेट गई। इस वक्त उनका पूरा शरीर मेरे शरीर पर था। मैं उसके कामुक स्तन, उसके मखमली पेट और उसकी थोड़ी बालों वाली चूत को मेरे शरीर को छूते हुए महसूस कर सकता था। मेरे लंड को उसकी चूत की गर्माहट महसूस हो रही थी जो अब मेरे लंड के बहुत करीब थी. इस वजह से मेरे लिंग में बहुत तनाव हो गया था।

अब वो अपनी देह को मेरे शरीर पर रगड़ने लगा। अब मुझे 440 वोल्ट का करंट लग रहा था। वह कमबख्त में एक अनुभवी खिलाड़ी थी। अपने शरीर को रगड़ते हुए वह नीचे गिर पड़ी। वो अपनी जीभ घुमाते हुए मेरे निप्पल को हल्के से चूसने लगा.

यह मेरा पहला अनुभव था कि कोई लड़की मेरे निप्पलों को चूस रही थी। मैं आंखें बंद किए यूं ही लेटा रहा। निप्पल चूसने की वजह से मेरे शरीर में मानो करंट दौड़ रहा था. निप्पल को बारी-बारी से चूसने के बाद वह नीचे खिसक गई।

वो मेरे लंड के दोनों तरफ किस करने लगा. साथ ही उसने मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में भर लिया और धीरे-धीरे हिलाने लगी. मुँह में पानी भर कर वो मेरी गोलियाँ चूसने लगी।
वाह… क्या मजा था!

अब वो उठी और अपना मुँह मेरे लंड के पास ले आई. उसने लंड के सुपारे के चारों ओर जीभ का एक चक्कर लगाकर लंड को मुँह में भर लिया.
आह्ह्ह… मेरे मुंह से सिसकियां निकलीं।

वो लंड को मुँह में लेकर नीचे तक चूसने लगी. उसके मुँह से पानी निकल रहा था, जो मेरे लंड को गीला करते हुए मेरी गांड तक बह रहा था.

अब मेरा ध्यान उसके शरीर की ओर गया जो इस समय संसार का सबसे सुन्दर और गढ़ा हुआ टुकड़ा प्रतीत हो रहा था। मैंने उसकी पीठ को सहलाने की कोशिश की लेकिन मेरे हाथ वहाँ तक नहीं पहुँच सके। ये समझ कर उसने अपनी गांड मेरे कंधे की तरफ कर दी. अब मैं उसकी पीठ और गांड दोनों को सहला रहा था।

उसके घुटनों पर होने के कारण मैं पीछे से उसकी चूत देख सकता था। सहलाते हुए मैंने उसकी चूत में हल्के से उंगली की। उन्होंने इसका जवाब भी लंबी उह… आवाज से दिया।

उसकी चूत की पंखुड़ियाँ गुलाब की तरह खुली हुई थीं। मैं उसकी चूत को सहला रहा था तभी उसकी चूत की महक मेरे नाक में आने लगी और मैं उसकी चूत को चूसना चाहता था.

मैं उसका घुटना पकड़ कर उसे उठाने लगा। वो समझ गई और उसने अपनी दोनों टांगें मेरे बगल में रख दीं और अपनी चूत मेरे मुंह पर रख दी. अब हम 69 स्टेज पर आ गए हैं। मैंने उसकी चूत की क्लिट को अपने मुँह में भर लिया और उसे हल्का सा चूसने लगा. उसके शरीर में बिजली का करंट दौड़ गया।

मेरे लंड को मुहं से निकालते हुए बोली- आह्ह्ह्ह… मजा आ रहा है. प्लीज और चूसो… मेरी चूत खाओ।
मैं अपनी ज़ुबान का कमाल दिखाते हुए उसकी चूत के अंदर तक चूसने लगा.

अब वह कुड़कुड़ा रही है- आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह का।
इस प्रकार कामुकता में चीखती हुई वह अपनी चूत को मेरे चेहरे पर जोर से रगड़ने लगी।

उसका गिरना इतना तेज था कि घर्षण के कारण मैं कुछ सेकंड के लिए सांस भी नहीं ले पा रहा था।

गिरने के बाद उसने मेरे ऊपर से उतरते हुए मेरी तरफ देखा और मेरे होठों को चाटने लगी। उनका पूरा मटेरियल मेरे चेहरे पर था।

काफी देर किस करने के बाद वह उठी और बोली- बहुत सालों बाद मैंने ऐसे नहाया है। ये सब दिल से है… लव यू डार्लिंग।

उसने उठकर पर्स से 2 कंडोम निकाले और दोनों को मेरे लंड पर रख दिया.
मैंने पूछा तो बोलीं- तुम्हें दो कंडोम लगाने की जल्दी नहीं होगी।

अब वो मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड को सेट करते हुए मेरी चूत पर बैठ गई. उसके नशीले बूब्स मेरे मुँह के सामने थे, उन्हें दोनों हाथों में भर कर मैं दबाने लगा और दूसरी तरफ वो अपनी चूत को ऊपर नीचे करने लगी.

मैं- आह… मस्त शहनाज़… ओह… बहुत मजा आ रहा है… आह XXX… थोड़ा जोर से… आह तुम कमाल हो।
उसने रफ्तार भी बढ़ा दी। कमरे में फट…फट…फट…की आवाज उसके चूतड़ों की वजह से मेरी जाँघों पर टकरा रही थी।

उसकी गति के कारण मैं निकलने ही वाला था। लेकिन मैं नहीं चाहता था कि मजा अभी खत्म हो। तो मैंने उसे बीच में ही रोक लिया और उठ खड़ा हुआ।

इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता, वह घुटनों के बल घोड़ी बन गई।

शहनाज़- ज्यादातर पुरुषों को डॉगी स्टाइल पसंद होता है। चलो, रुको मत, मेरी चूत बजाओ।
बिना समय गवाए मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया. अब मैं झूमने लगा। मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ लिया और चोदने लगा।

अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह… उसके मुँह से सिसकियाँ निकलने लगीं। फिर उसने मेरा दाहिना हाथ निकाल कर उसकी निप्पल पर रख दिया।
मुझे थोड़ा झुकना पड़ा।

अब मैं एकदम डॉगी स्टाइल में चुदाई कर रहा था।

मैंने स्पीड बढ़ाई तो पूरा कमरा फटने की आवाज से गूंज रहा था। शहनाज़ अभी भी काफी गर्म हो रही थी और चुदाई करते हुए लगातार कराह रही थी- मुझे चोदो… आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह..

उनकी आवाज सुनकर मेरा उत्साह और बढ़ गया। अब वो चूत को कसने लगा था. शायद उसका पानी टूटने वाला था। मैंने भी उसके दोनों निप्पलों को पकड़ कर और जोर से धक्का देकर फव्वारा छोड़ दिया। उसका पानी भी उसकी जाँघों से बह चुका था और बिस्तर तक पहुँच गया था। हम दोनों थक हार कर बिस्तर पर गिर पड़े।

कुछ देर बाद हम उठे, फ्रेश हुए और खाना खाया। उस रात मैंने अलग-अलग तरह से शहनाज़ को चार बार चोदा।
वह वाकई बहुत हॉट लड़की थी!

हम कुछ सालों तक दोस्त रहे। उसके बाद उन्होंने शादी कर ली और भुबनेश्वर में बस गयी।

उसके बाद आज तक मैं उनसे दोबारा नहीं मिला और न ही कोशिश की। लेकिन आज भी जब मैं उन्हें याद करता हूं तो मेरा मन ताजगी से भर जाता है।

दोस्तों आपको मेरी यह सच्ची Xxx गर्ल सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे इसके बारे में जरूर बताएं। मैं आपके मेल का इंतजार करूंगा।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds