बस में गांड मरवाने की फैंटेसी पूरी हुई – बस में गांड चुदाई

बस में गांड मरवाने की फैंटेसी पूरी हुई – बस में गांड चुदाई

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “बस में गांड मरवाने की फैंटेसी पूरी हुई – बस में गांड चुदाई”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

यह बस में गांड चुदाई कहानी मेरी एक बस यात्रा के बारे में है. मेरी कई फैंटेसी हैं, उनमें से एक थी बस में किसी अजनबी से चुदने की। मुझे अपनी इस फैंटेसी को पूरा करने का मौका तब मिला जब मुझे बस से मुंबई जाना था।

यह रात भर की यात्रा थी इसलिए मैंने स्लीपर बस में टिकट बुक किया। मैंने जानबूझ कर पीछे की दो सीटों वाली सीट बुक की। ताकि अगर कोई और इस सीट पर आये तो मेरी गांड के लिए लंड का सिलेक्शन हो जाये.

फिर मैं चलती बस में चुदाई के सपने देखते-देखते सो गया, मेरी बस शाम के 5 बजे थी। मैं 4:45 पर बस स्टैंड पहुंचा, तब तक बस भी स्टैंड पर थी. मैं अपनी सीट पर गया और वहां एक बहुत सेक्सी आदमी देखा, लंबा, मजबूत, गोरा, चौड़ी छाती वाला… वह 30-32 साल का एक सुंदर आदमी रहा होगा।

मैं उसे देख कर बहुत खुश हुआ. फिर मैंने खुद पर काबू किया और हल्की सी मुस्कान दी और अपनी सीट के अंदर आकर बैठ गया.

उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया था. मैंने हमारी सीट के परदे कस कर बंद कर दिये ताकि बाहर से कुछ न दिखे. कुछ ही देर में बस चल पड़ी. (बस में गांड चुदाई)

वो मुझे देख कर खुश नहीं हुआ तो मैंने बात करना शुरू कर दिया. बातचीत से पता चला कि वह मुंबई में अकेला रहता है, उसकी शादी हो चुकी है लेकिन परिवार यहीं पुणे में रहता है। उससे बात करते वक्त मैं उसे छूने का कोई मौका नहीं छोड़ रहा था. कभी-कभी वो अपना हाथ मेरी जांघ पर रख देता था.

ऐसा करते करते रात के 9 बज गये, हमारी बस एक ढाबे पर रुकी। हमने वहां खाना खाया. जब वो वहां पेशाब करने गया तो मैं भी उसके पीछे चल गया ताकि मैं उसका लंड देख सकूं, लेकिन मैं उसका लंड नहीं देख पाया. लेकिन मैं उसके आगे चला और अपनी मादक चाल से उसे अपनी गोल गांड दिखाई.

फिर हम दोनों बस में आकर बैठ गये. अब सब लोग सोने के मूड में थे तो बस में बहुत हल्की नीली लाइट जल रही थी. मैंने परदे भी फिर से ठीक से बंद कर दिये. पर्दों को हवा में उड़ने से बचाने के लिए उसने पर्दों के निचले सिरे को बर्थ के गद्दे के नीचे दबा दिया।

अब मुझमें वासना भर चुकी थी. मैं बस उसका लंड चूसना चाहता था, उसके लंड को अपनी गांड में महसूस करना चाहता था। लेकिन शुरू करने से डर रहा था. मैंने उसके सामने चुपचाप सोने का नाटक किया.

मैंने उसे शुभरात्रि कहकर अपनी आँखें बंद कर लीं और ऐसे नाटक करने लगा जैसे मैं सो रहा हूँ। कुछ देर बाद वो भी मेरे बगल में सो गया. फिर मैंने धीरे से अपना हाथ उस पर रखा और उसके करीब गया, लेकिन उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

मैंने उसे थोड़ा और सहलाया तो शायद वो जाग गया था. उसने मेरा हाथ हटा दिया और थोड़ा दूर हट गया. मेरी आँखें बंद थीं तो उसे लगा कि मैं सो रहा हूँ। मेरी गांड की खुजली बढ़ती जा रही थी. मेरे होंठ उसे और उसके लिंग को चूमने के लिए प्यासे थे।

तो फिर मैंने दोबारा कोशिश की.. इस बार मैंने अपना हाथ कंबल के अंदर डाल दिया और उसकी शर्ट के अंदर हाथ डाल दिया और उसकी छाती को सहलाने लगा। (बस में गांड चुदाई)

उसने फिर मेरा हाथ पकड़ लिया, लेकिन इस बार हटाने की बजाय उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. सिर्फ मेरी गांड फटी थी, उसके लंड से नहीं… सिर्फ डर की वजह से।

मैंने आँखें खोलीं और उसकी ओर देखा, वह मुस्कुरा रहा था।

उसने मुझसे पूछा कि क्या चाहिए?
मैंने भी हिम्मत करके कह दिया कि मुझे आपका लंड चाहिए.

फिर क्या था, उसका लंड भी खड़ा हो चुका था और मेरी गांड में तो आग लग चुकी थी. वो मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरे होंठों को चूसने और काटने लगा. मैं भी बस इसी पल को जीना चाहता था इसलिए मैं भी पूरी तरह खुल गया और उसका साथ देने लगा.

वो मेरी गांड को सहला रहा था और मेरा एक हाथ पकड़ कर उसने अपनी पैंट के उभार पर रख दिया. ऐसा लग रहा था जैसे मुझे स्वर्ग के दरवाजे का हैंडल मिल गया हो. फिर मैं उसके लिंग को पैंट के ऊपर से सहलाने और मालिश करने लगा।

वो मुझे जानवरों की तरह स्मूच कर रहा था, मुझे बहुत मजा आ रहा था. दस-पंद्रह मिनट तक मेरे रसीले होंठों का रस पीने के बाद उसने मुझे अपने लिंग के पास जाने का इशारा किया.

मैं तुरंत नीचे सरका और उसके लिंग पर झपटा, जैसे किसी बच्चे को लॉलीपॉप मिल गया हो। (बस में गांड चुदाई)

मैंने उसकी पैंट की चेन खोली और उसका अंडरवियर नीचे खींच दिया और उसके लिंग को अपने गाल से रगड़ने लगा. जब उसका लिंग झटके खाने लगा तो मैंने अपने हाथ से उसका लिंग बाहर निकाला और अपने मुँह में ले लिया और अपनी जीभ से उसके लिंग-मुण्ड को छूने लगा।

आआअहह.. वो हरामी मुझे देख कर मुस्कुरा रहा था. अगले ही पल मैंने उसके लिंग को गप्प से अपने मुँह में ले लिया और अब मैं उसके लिंग को चूस रहा था, उसका लिंग अपनी औकात पर आ चुका था। मैं लंड को ऊपर से नीचे उसके नितंबों तक चाट रहा था.

उसने मेरा सिर पकड़ लिया और अपने लंड से मेरे मुँह को चोदने लगा. मैं भी बड़े मजे से उसका लंड चूस रहा था.

इतने में उस खूबसूरत जवान ने मेरी पैंट का हुक खोल दिया और मेरी गांड को सहलाते हुए मेरी पैंट और अंडरवियर को नीचे सरका दिया. जैसे ही बस के ए.सी. की हवा मेरी गांड पर पड़ी तो कामवासना और भी तेजी से भड़क उठी.

ऊपर से एक आदमी का हाथ मेरी गांड को प्यार से सहला रहा था. मैंने भी अपने नितम्ब फैला दिये थे और गांड भी थोड़ी सी खोल दी थी। (बस में गांड चुदाई)

फिर उसने अपनी एक उंगली मेरी गांड में डाल दी और उंगली को आगे-पीछे करने लगा. उसने मुझसे पलटने को कहा. लेकिन मैं उसका लंड चूसना बंद नहीं करना चाहता था. लेकिन अफ़सोस मेरी गांड.. वो भी लंड की प्यासी थी। मेरी गांड की प्यास बुझाना भी जरूरी था.

उस समय तक मेरी प्यास इतनी बढ़ चुकी थी कि अगर कोई और मर्द होता जो मेरी गांड की प्यास बुझाता तो मैं अपनी मखमली गांड उसके सामने नंगी कर देता. ये मेरी भी एक फैंटेसी है कि दो मर्द मुझे एक साथ चोदें.

खैर मैंने उसका लंड चूसना बंद कर दिया. फिर उसने मुझे पलटा दिया और मेरी गांड उठा कर अपना 7 इंच मोटा लंड मेरी गांड में डालने की कोशिश करने लगा. उसने मेरी गांड के छेद पर थूका और फिर से अन्दर धकेलने लगा.

आआह आह उम्म्म्म.. 

जैसे ही उसका मशरूम जैसा लंड का टोपा मेरी गांड में घुसा, आआहह… मैं दर्द से सिहर उठा। उसकी गांड में जलन हो रही थी तो मैंने उसे पीछे धकेल दिया, लेकिन अब वो कहां मानने वाला था. उसने एक मस्त सांड की तरह पीछे से मेरी गांड में अपना लंड घुसा दिया.

मैंने कराहते हुए धीरे से उससे कहा कि मैं सीधा लेट जाऊंगा और अपने पैर ऊपर कर लूंगा, फिर तुम मुझे चोदना.

फिर वह मान गया.

मुझे ये पोजीशन पसंद है क्योंकि इस पोजीशन में चुदाई करने वाले का चेहरा भी देखा जा सकता है और हम किस भी कर सकते हैं.

फिर मैं पलटा और अपनी टांगें ऊपर उठा कर अपनी मखमली गांड उसके सामने कर दी. ऐसा लग रहा था मानों कोई जानवर उस पर सवार हो। बड़ी बेरहमी से उसने एक बार फिर अपना मोटा लंड मेरी गांड के छोटे से छेद में घुसा दिया. अब उसका लंड मेरी गांड की गहराई नाप रहा था.

आअहह.. ऐसा लग रहा था जैसे मैं जन्नत की सैर कर रहा हूँ। मैं भी अपनी गांड हिला कर उसके धक्कों का जवाब दे रहा था. बीच बीच में वो मुझे चूम भी रहा था. (बस में गांड चुदाई)

काफी देर तक मुझे चोदने के बाद मैंने उससे कहा कि अंदर मत झड़ना.

उसने ऐसा ही किया। उसने सामान बस की बेडशीट पर गिरा दिया। जैसे ही उसका वीर्य गिरा तो वो शांत हो गया और दूसरी तरफ करवट लेकर लेट गया.

मैं तो बस और चोदना चाहता था। मैं भी उसके लिंग को चूस कर अपने लिंग से तरल पदार्थ बाहर निकालना चाहता था. लेकिन माल निकलने के बाद उस क्रूर अत्याचारी ने मुझसे मुंह मोड़ लिया था.

फिर मैं क्या करता, मुझे ख़ुशी थी कि आख़िरकार मेरी एक फैंटेसी पूरी हो गई। मेरा लिंग अभी भी खड़ा था. मैंने भी अपना लंड हिलाया और अपना वीर्य बस के कंबल पर गिरा दिया.

ऊऊह आआहह इतना वीर्य निकला था. उस रात सचमुच बहुत मजा आया. माल निकलने के बाद मुझे बहुत थकान महसूस हुई और कब नींद आ गई पता ही नहीं चला.

जब मैं उठा, तब तक सुबह हो चुकी थी और हम मुंबई के बाहरी इलाके में पहुँच चुके थे। मेरे बगल में कोई नहीं था, मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरा सैयां मुझे छोड़कर चला गया हो।

मैं बड़ी प्यासी नजरों से उसे ढूंढने लगा तो मुझे चोदने वाला आदमी सामने किसी दूसरी सीट पर जाकर बैठ गया था क्योंकि तब तक बस से कुछ लोग उतर चुके थे.

जब वो मुझे इस तरह अलविदा कहे बिना चला गया तो मुझे थोड़ा बुरा तो लगा, लेकिन मुझे क्या ना वो मेरा पति है ना बॉयफ्रेंड. हालाँकि मैं चाह रहा था कि मुझे यह आदमी मिल जाए। या फिर कोई दूसरा आदमी जो मुझे प्यार दिखा सके.

अब मैं बस में बिताई अपनी रात के बारे में सोच कर मुस्कुराने लगा. मेरी गांड भी फिर से किसी लंड के लिए तरसने लगा.

दोस्तो, ये मेरी एक फैंटेसी थी जो चलती बस में मेरी गांड चुदा कर पूरी हुई. (बस में गांड चुदाई)

आपको मेरी बस में गांड चुदाई की यह कहानी कैसी लगी? कृपया मुझे कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको मेरी इस खूबसूरत रात के बारे में जानकर कैसा लगा। लिंग खड़ा हुआ या नहीं.

अगर आपको पसंद आई और आपका प्यार मिला तो मैं आपको अपनी अलग-अलग लंड से गांड चुदाई की कहानी लिखता रहूंगा.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasystory की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds