बॉस-मदर सेक्स स्टोरी – डिनर पर आया बॉस मुझे चोदकर चला गया

बॉस-मदर सेक्स स्टोरी – डिनर पर आया बॉस मुझे चोदकर चला गया

नमस्कार दोस्तों!
यह एक बॉस-मदर सेक्स स्टोरी है। मैंने अपनी आँखों से माँ की चुदाई देखी थी। इसलिए मैं आपको भी बताना चाहता हूं।
कहानी आज से बहुत पुरानी है इसलिए जितना याद आ रहा है उतना लिख रहा हूँ।

पिछली कहानी: Punjabi Sex Story

यह उस समय की बात है जब मैं 20 साल का होने वाला था। मेरे घर में मैं और मेरे माता-पिता ही थे क्योंकि मैं उनका इकलौता बेटा हूं।
मेरी मां और पिता दोनों काम करते थे। में पढ़ रहा था।

उस समय पिता का ट्रांसफर दूसरी जगह हो गया था। अब घर में केवल मैं और मेरी माँ ही रह गए थे।

मेरी मां बहुत खूबसूरत हैं। उन्होंने शुरू से ही खुद को काफी मेंटेन रखा था।
सभी पुरुष मेरी मां को देखा करते थे। उसे देखकर ऐसा लग रहा था जैसे वो मां को देखकर उसे चोदने की सोच रहा हो.
मुझे पूरा यकीन था कि बहुत से लोग मेरी माँ के बारे में सोच कर मुट्ठ मार रहे होंगे।

पापा जब हमारे साथ रहते थे तो मां खुश रहती थीं।
आप समझ गए होंगे कि मैं किस बारे में बात कर रहा हूं।
पापा मेरी मम्मी को चोदते थे तो मम्मी खुश रहती थी।

चूंकि अब पिता का तबादला हो गया है, इसलिए मां अकेली रह गई थीं। कुछ दिनों के बाद वह बहुत उदास रहने लगी।

वह सुबह अपने ऑफिस के लिए निकल जाती थी और शाम को आ जाती थी।
माँ ज्यादा बात भी नहीं करती थी।
वह कुछ देर टीवी देखती और फिर सो जाती।
दिन ऐसे ही बीत रहे थे।

फिर मेरी गर्मी की छुट्टी शुरू हो गई। अब मैं घर पर रह रहा था।

एक दिन की बात है कि माँ अपने ऑफिस जा रही थी।

उस दिन माँ ने पीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी जो बहुत सुन्दर थी। इसमें मॉम काफी हॉट लग रही थीं। मां ने बैकलेस ब्लाउज पहना हुआ था। इसमें वह और भी सेक्सी लग रही थीं.

ब्लाउज में बूब्स पूरी तरह से उभरे हुए थे. एक तरफ से मां के थनों का ऊपर का हिस्सा भी बाहर दिखाई दे रहा था। उसके गोरी चूचियाँ देखकर मेरा मन भी बेचैन हो रहा था।

मैं मन ही मन सोचने लगा कि आज तो बहुत से लंड माँ को देखकर खड़े हो जायेंगे। आज कई लंड का पानी निकलने वाला है।
मेरी माँ आज बहुत सेक्सी लग रही है।

मां के जाने के बाद मैं भी घर में अकेला था। उन्हें देखने के बाद मेरा लंड भी थरथराने लगा था.
उनके जाने के बाद मैंने घर का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया और फिर टीवी पर अश्लील फिल्में देखने लगा.

उसमें कई अश्लील क्लिप थीं और एक में मां-बेटे की चुदाई थी।
उसे देखकर, मैंने हस्तमैथुन किया और अपने विचारों में अपनी माँ की चुदाई की।
उस दिन मैंने खूब मस्ती की।

मैंने अपने लंड का पानी निकाला और फिर मैं सो गया.

उसके बाद मैं उठा और फिर मैंने पूरा कमरा ठीक किया। फिर मैंने खाना खाया और टाइम पास करता रहा।

अब शाम को माँ वापस आ गई। हम दोनों ने डिनर किया और फिर सोने की तैयारी करने लगे।
माँ ने अपना गाउन पहन लिया। इसके बाद वह टीवी देखने लगी।

मैंने पूछा- माँ आपका दिन कैसा रहा?
माँ ने कहा- अच्छा हुआ।

मुझे भी यह जानकर खुशी हुई कि माँ का मन अब लगने लगा है।

फिर एक-दो दिन से मैं नोटिस करने लगा कि माँ अब बहुत खुश है।
वह पहले की तरह उदास नहीं है।

उसके बाद मम्मी ने एक हफ्ते की छुट्टी ली।
मुझे लगा कि मां मेरे साथ समय बिताना चाहती हैं इसलिए उन्होंने लंबी छुट्टी ली है।

लेकिन वजह कुछ और थी।

उस दिन माँ ने कहा कि आज शाम को मेहमान आने वाले हैं तो मैं आज कुछ खास बनाऊँगी।
माँ ने रात का खाना बनाया और फिर अपने कमरे को सुगन्धित किया।

फिर रात करीब 8 बजे हमारे घर की घंटी बजी और माँ ने जाकर दरवाजा खोला।
तभी मैंने देखा कि एक अंकल दरवाजे पर खड़े हैं। माँ ने उसे गले लगाया और फिर अंदर ले आई।

मैं एक तरफ गया और माँ से पूछा कि वह कौन है, तो माँ ने बताया कि वह उसका मालिक है।
फिर मैंने अंकल को नमस्ते किया और फिर हमने साथ में डिनर किया।

माँ ने बॉस के लिए पनीर और चाप बनाया। साथ में हलवा और कुछ मिठाइयाँ भी बनाईं।
मैं बहुत दिनों बाद इतना अच्छा डिनर कर रहा था। मुझे लग रहा था कि आज कुछ खास बात होगी।

खाना खाते वक्त मैंने देखा कि मम्मी और वो अंकल दोनों एक दूसरे को देख कर हल्का सा मुस्कुरा रहे थे।
कुछ समझ में नहीं आया।

मॉम ने नाइटी पहनी हुई थी और मेरी नजर सिर्फ उनके बूब्स पर जा रही थी.

उसके बाद हमने खाना खत्म किया और फिर हम गेस्ट रूम में चले गए और टीवी देखने लगे।
मॉम और उनके बॉस अपने ऑफिस के बारे में बात करते रहे।

मुझे कुछ देर बाद नींद आने लगी। मैं उठा और अपने कमरे में आ गया।

लेकिन मेरी नींद में दिक्कत यह थी कि एक बार जब मैं गहरी नींद से जागा तो दोबारा इतनी जल्दी सो नहीं सका।

मैं कमरे में लेट गया लेकिन सो नहीं सका। काफी देर तक कोशिश करने के बाद भी नींद नहीं आ रही थी तो मैंने सोचा कि माँ के कमरे में चला जाता हूँ।

गेस्ट रूम से अभी भी टीवी की आवाज आ रही थी। मुझे लगा कि यह अंकल अभी भी टीवी देख रहे हैं।

मैं मां के कमरे में गया लेकिन वहां का दरवाजा बंद था। मैंने सोचा माँ अब भी अपने बॉस के पास बैठी होंगी।

मैं गेस्ट रूम की ओर जाने लगा। दरवाजा थोड़ा ढाला हुआ था।
कमरे का दरवाजा खोलने से पहले मेरी नजर अंदर के नजारे पर गई।

मॉम नाइटी उतार कर नंगी पड़ी थी।
मैं इसे देखकर दंग रह गया।

अंकल ने भी अपने कपड़े उतार दिए थे और सिर्फ अंडरवियर में थे। वह माँ के ऊपर लेटा हुआ था और जोर से दबा कर उनकी चूचियां पी रहा था।
माँ के मुँह से अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ही की आवाजें निकल रही थीं जो बहुत स्पष्ट सुनाई नहीं दे रही थीं क्योंकि साथ में टीवी की आवाज़ें भी आ रही थीं।

मैं वहीं बाहर खड़ा होकर देखने लगा। मैं एक तरफ छिप गया ताकि कोई मुझे दिखाई न दे। फिर बॉस ने मम्मी को किस करना शुरू कर दिया.
पहले तो वह काफी देर तक होठों को चूमता रहा और फिर मां के पूरे बदन पर किस करने लगा।

वो दस मिनट तक किस करता रहा और मैं वहीं खड़े-खड़े अपने लंड को सहलाती रही.
मां को इस तरह देखकर मजा आ रहा था।
मैंने पहली बार माँ को नंगी देखा।

चूँकि वो अंकल मेरी माँ के ऊपर नंगी लेटे हुए थे इसलिए मुझे माँ की चूत दिखाई नहीं दे रही थी.

उसके बाद माँ ने अंकल के अंडरवियर को नीचे खींचा और अंकल ने अपना लंड हाथ में लिया और माँ की चूत पर घुमाने लगे.

उस अंकल का लंड लगभग 7 इंच लम्बा और पूरा काला था. उनके लंड का सुपारा बहुत मोटा था.
माँ बोली – यह क्या है ?
बॉस ने कहा- ये तो तुम्हारी चूत चोदने की मशीन है!

बॉस ने अब माँ को अपनी तरफ खींचा और उनकी चूत में हाथ फेरने लगा.
वो दूसरे हाथ से माँ की गांड को सहला रहा था।
माँ अंकल की गांड को सहलाते हुए एक हाथ से उनके लंड को सहला रही थी.
माँ ने अपने बॉस के लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.
फिर अंकलने 69 में करवा दिया।

अब मुझे माँ की चूत साफ़ दिखाई दे रही थी.
उसकी चूत पर मोटे काले धब्बे थे.

अंकल मेरी मम्मी को चिढ़ाते हुए उनकी चूत से खेलने लगे.

फिर अंकल चूत में ऊँगली करने लगे.
अब मम्मी भी अपनी चूत को अंकल की तरफ धकेलने लगीं.

फिर उनका बॉस माँ की चूत को चाटने लगा और वो दोनों पागलों की तरह एक दुसरे को चूसने लगे.

ये देखकर मेरा वीर्य निकलने ही वाला था क्योंकि मैं भी अपने लंड को इतनी देर बाहर निकाल कर हिला रहा था.
अब मैंने हस्तमैथुन करना बंद कर दिया है। मैं बस और मजा करना चाहता था।

मैं माँ की बॉस के साथ चुदाई को पूरा देखना चाहता था। काफी देर तक दोनों एक दूसरे का लंड और चूत चूसते रहे.
माँ की प्यास बढ़ती जा रही थी। माँ अपने बॉस के लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी.

अब अंकल उठ गए। उसने माँ को बिस्तर के किनारे पर लिटा दिया। अब माँ का आधा शरीर बिस्तर पर था और आधा नीचे लटका हुआ था।

बॉस ने अपना पैर उठा लिया और लंड को माँ की चूत पर रगड़ने लगा.

माँ सिसकने लगी।

अंकल बार-बार अपने लंड का सुपारा माँ की चूत पर अंदर डालते और फिर निकाल लेते.

माँ की चूत पर लंड डाला और तुरंत अंदर धकेल दिया.
मम्मी चिल्लाईं और बोलीं- निकालो…आह..जल्दी निकालो…आह…आह…

पर अंकलने माँ की एक न सुनी। वो लंड निकालने की बजाय माँ को बिस्तर पर दबाने लगा और धीरे धीरे अपना पूरा लंड उनकी चूत में डाल दिया.
माँ रोने लगी लेकिन अंकल लंड घुसाते रहे.
माँ सिसक रही थी। मां कुछ देर तक तड़पती रही और फिर शांत होने लगी। ( Noida Call Girls )

अब बॉस ने माँ को चोदना शुरू कर दिया।
काली गांड को सहलाते हुए वो माँ की चूत में धक्के देने लगा.
बॉस भी अपना लंड पूरी तरह से उसकी चूत में जड़ तक घुसा देते थे.

अब धीरे-धीरे बॉस ने उसकी चुदाई की गति बढ़ा दी। अब मां भी उसका साथ देने लगीं।
बॉस ने एक बार फिर माँ को अपनी ओर खींच लिया क्योंकि वह उनके धक्कों से फिसलती जा रही थी।

माँ का पैर हाथ में लेकर उनकी चूत में लंड घुसाने लगा.
अब माँ के मुँह से आह…आह…फक…आह…फक…आह…. कॉमन सर…आह…फक मी हार्ड (भाड़ में जोर से)…ओह सर…आह…ओह आवाजें आ रही थीं।

मुझे आश्चर्य हुआ कि माँ को अपने बॉस द्वारा चुदाई करने में कितना मज़ा आ रहा है।
अब माँ अंकल के लंड को पूरे मजे से ले रही थी.

देखते ही देखते माँ की चूत से पानी जैसा तरल पदार्थ निकलने लगा.
उसकी चूत से खूब पानी निकला और फिर वो शांत हो गई.

बॉस का लंड अब भी ऐसे ही माँ की चूत के अंदर बाहर जा रहा था.

फिर अंकलने अपना लंड माँ की चूत से बाहर निकाला.
उसने अब माँ से घोड़ी बनने को कहा।

माँ उठकर ऊपर बिस्तर पर जाकर घोड़ी बन गई।
अंकल भी बेड पर चढ़ गए और पीछे से मां को चोदने लगे.

अब माँ एक बार फिर जोर से चिल्लाने लगी। अंकल जोर-जोर से मां को चोद रहे थे और मां के मुंह से आह…आह… की जोर-जोर से चीखें निकल रही थीं।

मुझे साफ साफ दिख रहा था कि लंड मेरी माँ की चूत में जा रहा है और मुझे बहुत मजा आ रहा था.
मैं भी माँ को चोदना चाहता था। मैं सोचने लगा कि काश मैं अंकल की जगह होता और मां की चुदाई करता।

फिर अंकल जोर-जोर से चोदने लगे।
मैंने देखा कि एक बार फिर माँ की चूत से पानी छूट गया.

अब माँ अपने बॉस को जाने के लिए कहने लगी।
बॉस ने कहा – अभी नहीं मेरी जान, अब मुझे तुम्हारी गांड भी चोदनी है।
माँ ने कहा – नहीं, वहाँ मत जाना।
बॉस ने कहा- अगर मैं वहां नहीं करूंगा तो चुदाई पूरी नहीं होगी। तुम्हारी गांड बहुत मस्त और सेक्सी है। मुझे उसे चोदना है।

यह कहकर अंकल ने पास में रखा लोशन उठाया और अपने लंड पर लगाने लगे.

फिर अंकल ने उस लोशन को माँ की गांड पर भी लगा दिया। फिर वो लंड को गांड पर रगड़ने लगा.

माँ उसे अपनी गांड चोदने से मना कर रही थी लेकिन वो लगातार गांड में लंड डालने की कोशिश कर रहा था और माँ की गांड को खोलना चाहता था।

फिर कई लाइट धक्के के बाद अब बॉस ने उसकी गांड को अपने हाथों से पकड़ लिया है.
अब एक बार फिर अंकल ने अपने लंड की मोटी सतह पर क्रीम लगाई और फिर अपना लंड माँ की गांड के छोटे से छेद पर रख दिया.

धीरे धीरे उसने लंड को उसकी गांड में घुसाना शुरू कर दिया. माँ की गांड में जब भी उसका टोपा ज़रा सा भी घुस जाता तो माँ ज़ोर से उछल पड़ती।

तभी अंकल ने जोर का धक्का दिया और उनका टोपा माँ की गांड में घुस गया. ( Bangalore Call Girls )

माँ चिल्लाने लगी लेकिन अंकल लंड घुसेड़ते रहे.
अंकल ने एक और धक्का दिया और उनका लंड माँ की आधी गांड में घुस गया.

अब माँ छेड़खानी करने लगी पर अंकल उसे पकड़े रहे।
फिर अंकल ने एक धक्का दिया और पूरा लंड माँ की गांड में घुसा दिया.
माँ आगे बढ़ने लगी लेकिन अंकल ने फिर उसे पकड़ लिया और अपनी ओर ले गए।

इन सबके बीच मां की गांड से लंड बाहर आ गया. अंकल ने फिर से लंड को गांड पर रखा और एक धक्का देकर आधा लंड घुसा दिया.

जब तक माँ संभल पाती अंकल ने एक और धक्का दिया और फिर से पूरा लंड माँ की गांड में घुसा दिया.

अब बॉस अंकल बिना देर किए माँ की गांड चोदने लगे। वो जोर जोर से अपने लंड को माँ की गांड में धकेलने लगा.
मां चिल्लाती रही लेकिन अंकल नहीं रुक रहे थे।

कुछ देर चोदने के बाद माँ शांत हो गयी और आराम से चुदने लगी।
अब उसे अपनी गांड चुदवाने में मजा आने लगा और वो सिसकने लगी।
अब आह… ओह… ई… आह… उसके मुंह से सेक्स की कामुक फुफकार निकल रही थी।

अंकल भी जोश से मम्मी की गांड चोदने में लगे हुए थे।
कमरे में जोर-जोर से धमाके की आवाजें आ रही थीं और मैं भी अपने लंड को हाथ में लेकर जोश के साथ आगे-पीछे घूम रहा था.

सामने का नज़ारा इतना दिलकश हो गया था कि अब मुझसे रहा नहीं गया।
इसी बीच मेरे लंड से वीर्य निकल गया और मैं वहीं गिर गया.
मैंने लंड का सारा सामान नीचे फर्श पर गिरा दिया।

माँ के निप्पल उनके धक्कों के कारण तेजी से आगे-पीछे हो रहे थे।
चुदाई करते करते माँ की हालत बिगड़ गई थी। वह काफी थकी हुई लग रही थी।

देखते ही देखते अंकल उनके ऊपर लेट गए और उनका धक्का देना बंद हो गया।
उसने अपना सामान माँ की गांड में गिरा दिया था।
फिर दोनों बेबस रह गए।

दो मिनट बाद अंकल उठे और एक करवट लेट गए। उसका लंड सिकुड़ गया था.

अब माँ को भी होश आ गया और वो भी सीधी लेट गयी।
माँ ने कहा- सर, आपने मेरी गांड और चूत का छेद फाड़ दिया है।

बॉस ने कहा- यही तो चाहते थे तुम, मौज तो खूब दी। मैं तुमसे बहुत खुश हूं।
फिर मां ने भी उन्हें सीने से लगा लिया और दोनों एक दूसरे को किस करने लगे।

फिर मैं वहां से चला गया।

कुछ देर बाद मैंने देखा कि दोनों बातें करते-करते बाहर आ रहे हैं।
फिर वो अंकल वहां से चले गए और मां दरवाजा बंद कर अपने कमरे में चली गईं।

इस तरह मैंने मम्मी की चुदाई देखी।
आपको यह कहानी कैसी लगी जरूर बताएं। मुझे आपकी राय का इंतजार रहेगा।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds