अपने भाई से सहेली को चुदवाया और उसकी चुदने की इच्छा पूरी की

अपने भाई से सहेली को चुदवाया और उसकी चुदने की इच्छा पूरी की

दोस्तो, मैं कृतिका आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मेने “अपने भाई से सहेली को चुदवाया और उसकी चुदने की इच्छा पूरी की”

आपके सामने अपनी अगली सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ। मेरी आखिरी सेक्स कहानी भाई ने जमकर चोदा जब में सो रही थी इस कहानी मैंने बताया था कि कैसे मैंने अपने भाई के साथ सेक्स किया था.

आज की सेक्स कहानी में कैसे मैंने अपने भाई से अपनी सहेली की चुदाई करवाई. जैसा कि मैंने आपको पिछली बार भी बताया था कि मेरे भाई का लंड आठ इंच का था. कई बार भाई के लंड से चुदने के बाद मेरा फिगर भी भरने लगा

और मेरा शरीर मस्त हो गया. कॉलेज में मेरे दोस्त मुझे चिढ़ाने लगे कि तुम ऐसा क्या लेने लगी हो जिससे तुम्हारा शरीर भरने लगा है। इस पर मेरी एक सहेली ने मुझे चिढ़ाते हुए कहा- लगता है जलेबी शीरा पी लिया है.

मुझे उसकी बात समझ नहीं आई, लेकिन बाकी दोस्त, जो कुछ हद तक चुटीले थे, हंसने लगे। मैंने उस दोस्त से पूछा- जलेबी तो शीरा पीती है, इसमें हंसने की क्या बात है? वह और भी जोर से हंसने लगी. मैं समझ नहीं सकी।

तभी एक दोस्त ने मुझसे कहा- तुम बिल्कुल बेवकूफ हो अबे ये जलेबी शीरा पीने का मतलब भी नहीं समझती. मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- अगर समझ में आता तो पूछती ही क्यों… बताओ जलेबी शीरा पीने का मतलब क्या है?

तभी दूसरी सहेली ने मेरी चूची दबाते हुए कहा- आह मेरी जलेबी बाई … तूने किसके लंड का शीरा पी लिया … जो तेरे इतने कड़क मम्मे हो गए. उसकी बात सुनते ही मैं समझ गई

कि उस हरामी की जलेबी शीरा पीने की बात का मतलब क्या था. वैसे साली ठीक ही कह रही थी कि मेरी चूत ने भैया के लंड का शीरा पी लिया था, इसलिए मेरी चुचियाँ भरने लगी थीं.

सेक्स के दौरान मेरा भाई मेरे निपल्स को खूब चूसता है, जिससे मेरा दूध निकलने लगता है. मैं हंसी और वहाँ से अपने एक सबसे अच्छे दोस्त के साथ क्लास में चली गई। मेरी इस दोस्त का नाम आशिका था.

वह कॉलेज में मेरी सबसे अच्छी दोस्त है। उसने मुझसे कहा- ये लड़कियां इतनी गंदी बातें करती हैं कि मेरी चूत में पानी आ जाता है. मैंने उससे पूछा- तुम्हारी चूत में पानी आ गया है.. तो अब क्या करोगी?

वो मेरी तरफ देख कर हंसने लगी. मैंने कहा हंस मत कुतिया… ये बता कि चूत के पानी का क्या करेगी? पहले तो बोली- क्या करूंगी, बाथरूम जाकर उंगली से सारा शीरा निकाल लूंगी और सूसू करके वापस आ जाऊंगी.

मैंने उसकी चूची दबाते हुए कहा- हरामजादी, कमीनी शीरा तो लंड से निकलता है… तेरी चूत से कैसे निकलेगा. वो हंसने लगी और बातों ही बातों में उसने बोली- मैं भी शीरा लेती हूं. मैंने आँख मारकर उससे पूछा – तू किसका शीरा लेती है?

वह मेरी चूची दबाते हुए बोली, तुम तो अभी कह रही थी कि लन्ड से शीरा निकलता है तो मैं भी लन्ड का शीरा लेती हूँ। मैंने सिर पीटते हुए पूछा- पगली, ये तो मालूम है कि वो लंड का शीरा लेती है

लेकिन ये तो बता कि वो किसके लंड का शीरा है? पहले तो वह आनाकानी करने लगी. फिर उसने मुझे कसम देते हुए कहा- किसी को मत बताना! मैंने उसके सिर पर हाथ रखा कि तुम मेरी सबसे अच्छी दोस्त हो

मैं किसी को नहीं बताऊंगी. अब तू जल्दी बता की किसका लंड लेती है? उसने मुझसे कहा – मैं अपने भाई का लंड लेती हूं. मैं उसकी बात सुनकर अवाक रह गया.

उसने मेरी ओर देखा और बोली – अब बताओ तुम किसका शीरा लेती हो? मैंने भी धीमी आवाज में कहा – मैं भी अपने भाई के लंड का शीरा लेती हूं.

वो मेरा चेहरा देखने लगी. एक पल के लिए हम दोनों की आँखों में एक अजीब सी बेचैनी थी। लेकिन अगले ही पल हम दोनों हंस पड़े और एक दूसरे को गले लगा लिया. वो मुझे ऐसे चूमने लगी

जैसे हम दो रंडियाँ अपनी चुदाई से खुश हो रही हों. इस तरह खुलते ही हम दोनों ने एक दूसरे को सब कुछ बता दिया. आशिका ने अपने भाई के लंड की फोटो अपने मोबाइल में ले ली थी.

उसने मुझे अपने भाई के लंड की फोटो दिखाई और बोली – ये मेरे भाई के लंड की फोटो है… तेरे भाई का लंड कैसा है? मैंने अपने मोबाइल में अपने भाई के लंड की फोटो भी रखी हुई थी. मैंने उसे अपने भाई के लंड की तस्वीर भी दिखाई.

मेरे भाई का आठ इंच मोटा लंड देख कर आशिका बोली- वाह, तेरे भाई का लंड तो बहुत मस्त है… मैं भी इस लंड को अपनी चूत में लेना चाहती हूँ मैंने उससे कहा- मैं भाई से बात करके बताउंगी.

अब यहां मैं आपको आशिका के बारे में थोड़ा बताउंगी। आशिका का फिगर कमाल का है, उसके फिगर का साइज 32-28-34 था. वो दूध जैसी गोरी थी और उसे लंबे लंड लेने का बहुत शौक था.

साथ ही वो गंदी गंदी बातें करने में भी माहिर थी. साली एक लाइन में दस गालियाँ बोलती थी. साथ ही वह मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी. अब हम दोनों के बीच भाइयों से चुदने का राज़ भी साझा हो चुका था

इसलिए हम दोनों एक दूसरे के पक्के राज़दार बन चुके थे। उस दिन उसने मुझे क्लास से बाहर निकाला और वॉशरूम में ले आई। उधर उसने मुझसे कहा- चल कुतिया, आज हम दोनों अन्दर चल कर लेस्बो करते हैं।

मैंने कहा- मरवाओगी क्या? कोई लड़का आ गया तो क्या होगा? वो बोली – आपकी गांड इतनी फटती है … मुझे तो आज ही पता चला. भोसड़ी वाली… हर जगह लेडीज और जेंट्स टॉयलेट अलग-अलग होते हैं।

और अगर तुम चाहो तो मैं जेंट्स टॉयलेट में चलकर भी तुम्हारे साथ लेस्बियन करने को तैयार हूं. अगर कोई आएगा भी तो मैं उसके लंड का भी मज़ा ले लूंगी. उसकी बात सुनकर मैंने अपना सिर पीट लिया

कि मैंने किस हरामजादी से दोस्ती कर ली. खैर वो नहीं मानी और लेडीज टॉयलेट में चली गई, उसने मेरी चूत में उंगली की, मेरे दूध मसले और मैंने भी उसकी चूत में उंगली की और एक दूसरे का पानी निकाला।

फिर मैं अपनी पैंटी और सलवार ऊपर करने लगी तो मैंने देखा कि उसने अपने बैग से सिगरेट निकाली और लाइटर से जला ली और कश लेने लगी. उसने अभी भी अपनी चूत नंगी रखी हुई थी।

मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने मुझे आंख मारी और मेरी तरफ सिगरेट बढ़ा दी. मैंने भी वासना के जोश में उसके हाथ से सिगरेट लेकर अपने होंठों से लगा ली और कश खींच लिया

लेकिन मुझे खांसी आ गई और वो हंसने लगी। उसने अपनी चड्डी और सलवार पहन ली और मुझे सिगरेट पीने का तरीका बताने लगी। दोस्तों, यह एक ऐसा कॉलेज ही है

जहां हर तरह का ज्ञान दोस्तों के जरिए ही मिलता है। खैर… हम दोनों बाथरूम में मस्ती करके वापस आ गये। मैं शाम को घर आई. उस वक्त मेरा भाई अपने कमरे में था.

मैं फ्रेश होकर भाई के पास गई और उसे अपनी बांहों में लेकर चूम लिया. उसने भी मुझे अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया. इस वक्त वो सिर्फ एक फ्रेंची में थे.

मैंने उसकी चड्डी में हाथ डाला और उसका लंड हाथ में ले लिया. मेरी इस हरकत से भाई गर्म होने लगा और मेरे मम्मों को मसलने लगा. कुछ ही देर में मैंने भाई को पूरी तरह गर्म कर दिया.

भाई ने अपना आठ इंच का लंड बाहर निकाला और बोला- चल बहुत गरम हो गई है तू.. पहले सेक्स कर लेते हैं. मैंने कहा- भाई, अभी सब घर पर हैं, रात हमारी है, मेरी जान.

लेकिन भाई नहीं माने. उसने ज़िद करके अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया. मैं नीचे बैठ कर उसका लंड चूसने लगी. आज तो मुझे पहले से ही सेक्स का नशा चढ़ चुका था

लंड चूसने से मुझे और भी नशा हो गया था। मैं जोर जोर से भाई का लंड चूस रही थी. तभी किसी के आने की आहट हुई तो मैं जल्दी से अलग हो गई और भाई ने सब ठीक कर दिया.

हम दोनों आमने सामने बैठ गये और बातें करने लगे. अब मेरा मन भी उसे चूमने का करने लगा था. भाई का लंड नहीं ले सकती थी.. इसलिए मैंने बाथरूम में जाकर खुद को शांत किया।

जैसे-जैसे रात गहराती गई.. सब लोग सो गए। मैं चुपके से अपने भाई का लंड अपनी चूत में लेने के लिए अपने भाई के पास आ गयी. मेरा भाई पहले ही सो चुका था.

मैंने उसके कमरे का दरवाज़ा धीरे से बंद किया और कुंडी लगा दी। मैं इस वक्त बहुत ज्यादा कामुक हो रही थी. मैंने जल्दी से अपने ऊपरी कपड़े उतार कर एक तरफ फेंक दिये।

मैं अब ब्रा और पैंटी में रह गयी थी. मैं भाई के पास गयी और उसका लोअर खींच कर उतार दिया. साथ ही उसका अंडरवियर भी उतर गया. मैंने देखा कि भाई का सोया हुआ लंड भी मस्त लग रहा था.

मैं अपने भाई का लंड चूसने लगी. लंड चूसते समय जब भाई को गीलापन महसूस हुआ तो उसकी आंख खुल गयी. भाई ने मुझे गाली देते हुए कहा – बहन की लौड़ी… साली अपने मरद के पास लंड लेने आई है.

मैं हंस पड़ी और उसका लंड चूसने लगी. धीरे धीरे भाई का लंड पूरा खड़ा हो गया. मैंने जल्दी से अपनी चड्डी और ब्रा उतार दी और भाई के लंड के ऊपर आ गयी और उसे अपनी चूत में लेने लगी.

मैंने भाई का पूरा लंड अन्दर ले लिया, तो भाई बोले – साली बहुत जल्दी लंड खा गई.. क्या तू किसी और का भी लेने लगी है? मैं हंस पड़ी और बोली – भाई, आपका लंड मेरी चूत के लिए काफी है.

इतना कह कर मैं अपने भाई के मोटे लंड को चूमने लगी. ‘आआह… आआह… भाई चोदो ज़ोर से चोदो… बड़ा मजा आ रहा है।’ पूरे कमरे में पट पट की आवाज आ रही थी.

‘आह बस्स्स भाई… बहुत अंदर तक जा रहा हूँ… आह मैं मर जाऊँगा… आह धीरे-धीरे..’ मेरी बात सुन कर भाई मुझे और जोर जोर से चोदने लगा. कुछ देर बाद भाई ने मुझे डॉगी स्टाइल में खड़ा कर दिया

और पीछे से लंड डाल कर मुझे चोदने लगे. बीस मिनट की चुदाई के बाद भाई ने अपना सारा लंड रस मेरी चूत में छोड़ दिया. वो अपने लंड की पिचकारियाँ मेरी चूत में छोड़ते हुए बोला- आआहह … मजा आ रहा है

यार. … कल मैं तुम्हारी गांड को मरूंगा। मैंने कहा- नहीं भाई.. गांड नहीं.. वहाँ बहुत दर्द होता है। भाई बोला – नहीं मेरी बहना … मैं तेरी गांड प्यार से मारूंगा. मैंने कहा- यहां नहीं.. मैं मुंबई आऊंगी.. तब मेरी गांड मार लेना।

भाई ने मुझे चूमा. मैं अपने भाई की बांहों में नंगी लेट गयी. मुझे अपने दोस्त की बात याद आ गयी. मैंने अपने भाई से कहा कि मेरी एक दोस्त तुमसे चुदना चाहती है. भाई ने मुझसे मेरी सहेली के बारे में बात की और उसका फिगर पूछा.

जब मैंने भाई को आशिका के सेक्सी बदन के बारे में बताया तो भाई का लंड आशिका को चोदने के लिए खड़ा हो गया। वो बोला – ठीक है.. आशिका की चुदाई कब करू? मैंने कहा- जब तुम बोलो.

आशिका की चूत मिलने की बात सुनकर भाई ने कहा- मैं इसे पहली बार चोदूंगा. लेकिन अब एक बार फिर तुम्हें चोदने का मन कर रहा है. मैं भी अपने भाई के लंड से दोबारा चुदने के लिए बेचैन थी.

इस बार मेरे भाई ने मेरी चूत को सुपरफास्ट और बहुत जोरदार तरीके से चोदा. उसने इतनी स्पीड से चोदा कि मेरी चूत भी दुखने लगी. भाई बोला- यार, जल्दी से आशिका को बुला… तेरी बात सुन कर मेरे लंड में आग लग गई है.

मैं थोड़ा उदास हो गई. उसने कहा- क्या हुआ? मैंने कहा- आशिका के बाद तुम मुझे नहीं चोदोगे? भाई बोला – अरे नहीं यार … मैं आशिका को एक बार खुश कर दूंगा. उसके बाद मैं सिर्फ तुम्हारा हूं.

जब तुम बोलोगी तो मैं तुम्हें चोदूंगा. मैंने कहा- ठीक है भाई. मैंने कपड़े पहने और अपने कमरे में चली गई. सुबह कॉलेज में मैंने आशिका को रात की चुदाई के बारे में सब कुछ बता दिया।

वह गाली देते हुए बोली- साली रांड अकेली ही चुदवा कर आ गयी. मेरी चूत का क्या होगा? मैंने कहा- मरो मत. … भाई से बात हो गयी है … आप बताइये कि आपको उनसे कब चुदना है. वो बोली – कल ही बुला लेना.

मैंने कहा- कहां चोदोगी? वो बोली- हां यार … ये तो दिक्कत है … कहां बुलाऊं उसे … मादरचोद के लिए कोई जगह नहीं है. मैं उसकी तरफ देखने लगी. वो बोली – मैं होटल जाऊंगी. मैंने कहा ठीक है और घर आ गई.

घर आकर मैंने भाई को बताया और कल अपने साथ चलने को कहा. भाई भी मान गया. अगले दिन मैंने आशिका को अपने भाई से मिलवाया तो वो दोनों बिना किसी शर्म के ऐसे मिल रहे थे.

जैसे एक-दूसरे को पहले से ही जानते हों। कुछ देर बाद मैं कॉलेज आ गई. अब आगे की कहानी आशिका से सुनिए. हेलो मैं आशिका हूं… मैं आशिका के भाई के साथ होटल के कमरे में आई थी।

ये कमरा मैंने ही बुक किया था. कमरे में घुसते ही मैं कृतिका के भाई से चिपक गयी. मैं उसे पागलों की तरह चूमने लगी. वो भी गर्म हो गया था और मेरा पूरा साथ दे रहा था. मेरी चुचियाँ दबा रहा था.

दो-तीन मिनट में ही वो एकदम पागल हो गया. उसने धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए, मैंने उसके कपड़े उतार दिए। उसका आठ इंच का खड़ा लंड देख कर मेरी गांड फट गयी.

मैंने उससे कहा- कैसे जाएगा.. बहुत मोटा और लंबा है. वो बोला- तू देख मेरा कमाल.. तू उछल-उछल कर इस लंड को अपनी चूत में ले लेगी। मैं हंसी।

उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरी चूत चाटने लगा. मैं पागल हो गई और सिसकारियां लेने लगी ‘आआह… आआह… चाटो… जान मजा आ रहा है… आआह..’

कुछ देर तक मैं भी उसका लंड चूसने लगी. फिर मैंने उससे कहा- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है.. प्लीज़ मुझे चोदो। उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी टाँगें उठा कर अपना लंड मेरी चूत की फांकों में सैट कर दिया.

उसके लंड का सुपारा पूरा जल रहा था. उसने मेरी चूत में लंड का एक शॉट मारा.. तो उसका आधा लंड मेरी चूत में चला गया ऐसा लगा मानो किसी ने चूत में गर्म सलाख घुसा दी हो।

मेरी दर्द भरी तेज चीख निकल गई- आआह … आआह … बाहर निकालो. और मेरी आंखों से आंसू निकल पड़े. मैंने आज तक इतना मोटा लंड कभी नहीं लिया था. वैसे तो मेरे भाई का लंड भी सात इंच का है.

लेकिन कृतिका के भाई का लंड बहुत मोटा था। थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कम हुआ तो उसने मुझे जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया. मैं भी ‘आआह … आआह..’ करके चुद रही थी. वो मुझे जोर जोर से चोदे जा रहा था.

करीब बीस मिनट की चुदाई में मेरी जान निकल गयी. उसने सारा रस मेरी चूत में छोड़ दिया और मेरे ऊपर लेट गया. कुछ देर तक वो ऐसे ही लेटा रहा. फिर बोला- मजा आ गया तुम्हें लेने में. मैं उसे चूमने लगी.

उस दिन उसने मुझे तीन बार चोदा. शाम को घर आकर मैंने कृतिका को फ़ोन पर सब कुछ बताया और सो गयी। तो दोस्तों, मेरी सहेली आशिका मेरे भाई से चुद कर खुश थी. भाई को भी उसे चोदने में बहुत मजा आया.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds