दोस्त की बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई | खेत में भैया के दोस्तो ने चोदा

दोस्त की बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई | खेत में भैया के दोस्तो ने चोदा

हेलो दोस्तों, रितु जी की आज की कहानी राहुल की जुबानी है, धन्यवाद रितु जी, आपने मुझे अपनी कहानियां प्रस्तुत करने का अवसर दिया। हेलो दोस्तों ! खेत में भैया के दोस्तो ने चोदा कहानी है। मुझे उम्मीद है कि आप इसे पसंद करेंगे। 

खेत की चुदाई का मजा निराला ही होता है. मैं अपने भाई के साथ खेत में गयी तो रास्ते में उसका दोस्त भी हमारे साथ हो लिया. वहां क्या क्या किया हमने?

हेलो फ्रेंड्स… मेरा नाम सुहू है और मेरे भाई का नाम सोनू है।
मेरे पिता एक किसान है। सोनू बाहर पढ़ता है और मैं यहां गांव में।

मुझे प्रेम कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है।
फ्री सेक्स स्टोरी की साइट पर मैं अक्सर रसभरी चुदाई की कहानियां पढ़ता हूं।
मुझे भाई बहन की चुदाई की कहानी बहुत पसंद है।

हुआ यूं था कि मेरा भाई होली के दिन घर आया था और कुछ दिनों के बाद लॉक डाउन के चलते यहीं गांव में रुक गया।

हम दोनों एक ही कमरे में सोते हैं, सिर्फ बेड अलग-अलग थे।

एक दिन रात को जब मेरी आँख खुली तो मैंने अपने भाई को किसी से फ़ोन पर बात करते और उसके लंड को सहलाते देखा.
उनका लंड बहुत मस्त था. मैं अब इसे पकड़ने की सोच रहा था।

उस समय मुझे गहरी नींद आ रही थी, इसलिए मैं सो गया। (बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई)

दूसरे दिन मैंने अपने भाई के लंड को चखने के बारे में सोचा।
मैंने योजना बनानी शुरू कर दी कि मैं अपने भाई को अपनी चूत की सेवा कैसे करवाऊं।

मैंने धीरे-धीरे भाई को अपनी बॉडी दिखानी शुरू की।

भैया भी मेरे बूब्स और गांड को देखने लगे.
मैं समझ चुका था कि भैया मुझे चोदना की नज़रों से देखने लगे हैं।

चूंकि हम दोनों भाई-बहन खुलेआम आपस में झगड़ते हैं और मैं भी भाई के सामने अपने कपड़े बदल लेता हूं।

एक दिन रात को भाई ने मेरे सामने अपना लोअर उतारा और एक छोटी सी फ्रेंची में अपना फूला हुआ लंड दिखाते हुए पूछा-देखो मेरी ये नई फ्रेंची कैसी लग रही है?
मैंने कहा- फ्रेंची बहुत खूबसूरत है लेकिन तुम्हारे हिसाब से छोटी लग रही है.

यह कहकर मैं हंसने लगा।
मेरा मन भाई के लंड को पकड़ने की कोशिश कर रहा था, लेकिन मैं उदास होकर रह गया.

भैया भी हंसने लगे।

फिर मैंने अपने भाई से कहा- भैया, मेरे शरीर में दर्द हो रहा है, क्या आप मेरी थोड़ी मालिश कर देंगे? (बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई)

मैंने नाइटी के अंदर सिर्फ पैंटी पहनी थी, ब्रा नहीं पहनी थी।

भाई ने कहा – अच्छा, जाओ तेल गरम करके ले आओ, अभी करता हूँ।

मैं मालिश के लिए तेल गर्म करके लाया।

भाई – दर्द कहाँ है ?
मैं- पूरा शरीर दर्द कर रहा है।

भाई- फिर तुम्हें अपनी नाइटी निकालनी होगी।
मैं- मैंने ब्रा नहीं पहनी है।

भाई- तो क्या हुआ… ये और भी अच्छा है… मसाज करने में कोई दिक्कत नहीं होगी.
मैं- लेकिन आपके सामने कैसे!
भाई- फिर मसाज कैसे करवाओगे। बिना कपड़ा हटाए मालिश नहीं होगी।

मैं- ठीक है, लेकिन तुम किसी से बात नहीं करोगे।
भाई- ठीक है, मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगा।

मैंने भैया की तरफ पीठ कर ली…और नाइटी उतार कर पेट के बल लेट गया।
मैं अपने भाई के सामने सिर्फ पैंटी में था, वो भी पैंटी के नाम से… सिर्फ एक धागे से, जो सिर्फ चूत के स्लिट्स को कवर करता था।

मैंने देखा कि भाई का लंड फिर से खिंचने लगा था.
मुझे लंड देखकर मजा आने लगा. (बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई)

भाई ने मेरी पीठ, गांड और पैरों पर तेल डाला… फिर अपने हाथों से मसाज करने लगा.

भाई- तेरा बदन बड़ा शीतल है, बड़ा कोमल लगता है।
मैं- हां भाई, मैं कूल क्यों नहीं होऊंगा… मैं भी मेहनत करता हूं।

भैया मेरे पिछले हिस्से की मालिश करने लगे।

भाई- वाह… क्या मस्त गांड है तुम्हारी… लेकिन मुझे तुम्हारी गांड का छेद इतना बड़ा क्यों लग रहा है!
मैं- कुछ नहीं भाई, पता नहीं कैसे हो गया होगा।

भाई- मैं तुम्हारी पैंटी उतार देता हूं, ये परेशान कर रही है।
मैं ठीक हूं।

भाई ने मेरी पैंटी खींच कर दूर फेंक दी।

अब मैं अपने भाई के सामने बिल्कुल नंगी पड़ी थी।
मुझे अंदर से बड़ी अनुभूति हो रही थी।

तभी भाई ने मेरी गांड के छेद पर बहुत सारा तेल डाल दिया और जोर से दबाते हुए मेरी गांड के छेद को अपने हाथों से मसलने लगा.

फिर धीरे से उसने मेरी गांड में उंगली डाली.
मुझे मज़ा आने लगा।
मैंने अपनी गांड फैलाई और वो मेरी गांड पर उंगली करने लगा.

मैं ‘आह हाहाहा उम्म …’ कहने लगा।

मुझे भी अपने भाई की गांड में ऊँगली करने में मज़ा आने लगा।

कुछ देर बाद भाई ने मुझे सीधा लिटा दिया और मां पर तेल डालने लगा।

मैं भाई की आँखों में देख रही थी और वो मेरे निप्पलों को देख रहा था.

उसका लंड बहुत सख्त हो गया था.

तभी भैया ने अपने दोनों हाथ मेरी माँ पर रख दिए और कस कर रगड़ने लगे।
मेरी सांसें निकलने लगीं। (बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई)

मैंने उससे पूछा- भाई मेरा दूध कैसा है?
भाई- वाह मेरी वेश्या बहन, तुम्हारे बूब्स बहुत भरे हुए हैं. मुझे तो ऐसा लग रहा है कि आपको अपने शरीर की सेवा के लिए कोई तो मिला होगा।

मैं- हां भाई, मैं तुम्हारे दोस्त राजू से बहुत प्यार करता हूं।
भाई- राजू…वो कमीने का बेटा, भाई का लंड तुझे चोद गया है. आज मैं इसकी माँ की चूत बताऊँगा।

मैंने कहा- भैया आप मेरे मसाज पर ध्यान नहीं देते… मुझे आपसे अपने बूब्स कटवाकर बहुत अच्छा लग रहा है.
भाई मेरे निप्पलों को अपनी उँगलियों के बीच दबा कर रगड़ने लगा.

मैं कामुक आवाजें निकाल रहा था। मैंने अपने भाई की आँखों में देखा और अपने दूध की एक फुनगी को अपने हाथ से पकड़ कर इशारा किया।
भैया समझ गए और उन्होंने मेरे दूध की टोंटी को अपने होठों में दबा लिया।

मैं उत्तेजित होने लगा और माँ के सिर पर भाई का सिर दबाने लगा।

फिर भैया ने अपनी एक से मेरी चूत की मसाज करनी शुरू कर दी. मैंने अपनी टांगें फैलाईं तो वो धीरे-धीरे मेरी चूत पर उंगली करने लगा.

अपनी भीगी हुई चूत में भैया की उँगली पाकर मैं ख़ुश हो गया और ज़ोरदार आवाज़ में मेरे मुँह से नशीली सिसकियाँ निकलने लगीं- उम्म्म भाई, आह, मर गई, आह, उम्म्म!

भैया अब अपनी उंगली से मुझे बहुत तेजी से चोदने लगे।

मैं करीब 10 मिनट में गिर गया। (बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई)
फिर भाई ने अपने कपड़े उतारे और वह एकदम नंगा हो गया।
उसका मोटा लम्बा लंड मेरी आँखों में सेक्स के हैंगओवर से भरने लगा.

मैं अपने भाई का लंड देखने लगा.
तभी भैया ने अपना लंड हिलाया और कहा-ले रंडी बहन मेरा राकेट चूसो.

सच में भैया का लंड रॉकेट की तरह लंबा और मोटा भी था… बहुत लंबा और 2.5 इंच मोटा हथियार था.

मैं लंड चूसने के लिए बेताब थी।

दोस्त की बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई आगे की कहानी अगले Part में। 

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds