भाभी ने लंड चूसा और देवर की प्यास बुझाई

भाभी ने लंड चूसा और देवर की प्यास बुझाई

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रहा हु उसका नाम हे “भाभी ने लंड चूसा और देवर की प्यास बुझाई” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

एक दिन मेरे परिवार के सभी सदस्य किसी की शादी में गए थे, कुछ दिनों के लिए सिर्फ मे मेरे भैया ओर भाभी ही घर पर रुके थे, मेरे भाई सरकारी नौकरी में है।

इसलिए वह सुबह ही घर से निकल जाता था, भाभी घर में रहती थी और इस बीच मे ओर भाभी ज्यादातर बातें करते थे।

बातो ही बातो मे भाभी के बारे मे बताना ही भूल गया मेरी भाभी का नाम सिमरन है। मेरी भाभी देखने मे सेक्स बॉम्ब है

मुझे उसके होंठ, स्तन और बेक बहुत सेक्सी लगती है, मैंने कुछ दिनों में देखा कि भाभी मेरी तरफ आकर्षित होने लगी हैं।

भाभी कभी बात करते-करते मेरे गालों को पकड़ लेतीं तो कभी मजाक में मेरी पीठ पर थप्पड़ मार देतीं क्योंकि उस वक्त सेक्स की समझ न होने के कारण मैं समझ नहीं पाया.

12वी बोर्ड होने की वजह से मे अपनी पढाई मे बिज़ी रहा ओर मे समझ नही पाया ओर ऐसा ही कुछ दिन चलता रहा ओर मेरी नज़र मे भाभी मेरी प्यास बुझाने वाली नज़र आने लगी

फिर घरवाले वापस आ गए, ऐसे ही दिन महीने बीतते गए, मैंने 12वीं पास की और बीसीए ज्वाइन कर लिया।

इस बीच अब मैं अपनी भाभी की ओर आकर्षित होने लगा, भाभी पहले से ही मेरी ओर आकर्षित थीं, लेकिन मेरी प्रतिक्रिया न देने के कारण वह खुल नहीं पा रही थी।

एक दिन भाभी अपने कमरे में थी तो मैं भी उसके पास जाकर मज़ाक करने लगा, मज़ाक में मैंने भाभी को किस कर लिया

तो उसने मुझसे कुछ नहीं कहा, बस अरे कह कर रुक गई, मजाक में मैंने भाभी को एक-दो बार किस किया।

तो भाभी कुछ नहीं बोलीं और गाल छुपाने लगीं। मैंने जब भी आशिका भाभी को किस करने की कोशिश की तो भाभी अपने गालों को छुपाने लगीं.

तो मैंने कहा कि जब तक आप मुझे एक और किस नहीं करोगे तब तक मैं नहीं जाऊंगा, तो भाभी ने मना कर दिया, मैं जिद पर अड़ गया, तो भाभी मान गईं।

ओर मे क़िस लेकर चला गया? अब जब भाभी मुझसे अकेले में मिलती थीं तो किस करने का सिलसिला इस तरह शुरू हो जाता था.

एक दिन भाभी अपने कमरे में बैठी थी तो भाभी ने मुझसे पूछा कि तुम मुझे किस क्यों करते हो तो मैंने कहा कि मैं तुम्हें पसंद करता हूं, भाभी ने कहा कि तुम्हारी गर्लफ्रेंड अच्छी नहीं है।क्या

मेने भाभी को इंप्रेस करने के लिए कहा की मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है? भाभी ने कहा कि ऐसा नहीं हो सकता कि आपकी कोई गर्लफ्रेंड न हो।

तुम इतने सुन्दर हो मेने कहा कॉलेज मे मुझे कोई लड़की पसंद नहीं है मुझे तो आप बहुत अच्छी लगती हो ओर सेक्सी भी भाभी मुस्कुराने लगी ओर कहा मुझमे तुम्हे क्या सेक्सी लगता है

मेने कहा आपके लिप्स भाभी ओर मेने कहा आपके बूब्स भाभी मुस्कुराने लगी ओर पूछा ओर क्या मेने कहा आपकी बेक तो भाभी हंसने लगी ओर कहा बस करो

मैंने कहा तुम मुझे बहुत सेक्सी लग रही हो और मैंने भाभी के होठों पर किस कर लिया, भाभी के होठों पर ये मेरा पहला किस था, भाभी बोली अरे नहीं.

मैं फिर भाभी के गाल चूमने लगा तो भाभी बोली कोई आएगा तो मैं हट गया।

और इस तरह मैं कभी भाभी के गाल पर, कभी भाभी के होठों पर, कभी भाभी की पीठ पर हाथ फेरता था।

भाभी बस मुस्कुरा देती थी और मेरी हिम्मत बढ़ जाती थी और एक दिन मैं किचन में पानी पी रही थी।

तभी भाभी आ गई, तभी मैंने हिम्मत करके भाभी के गाल पर किस करते हुए भाभी के बूब्स दबा दिए, भाभी चौंक गईं।

और जल्दी से अपने कमरे में चली गई, मैं थोड़ा डरी हुई थी कि भाभी किसी से कुछ कह दें, लेकिन भाभी कुछ नहीं बोलीं।

और इस तरह मैं कभी कभी भाभी के भी बूब्स दबाने लगी तो देखा की भाभी को भी मज़ा आता था. उन दिनों गर्मी का मौसम था, परिवार के ज्यादातर सदस्य छत पर सोना पसंद करते हैं और मुझे भी।

भाभी और मां नीचे सोती थीं क्योंकि भाई रात को 11-12 बजे तक आ जाता था क्योंकि ऑफिस में काम ज्यादा होता था।

मां और भाई किसी काम से बाहर गए हुए थे, पापा, भाई और भाभी घर पर ही रह गए थे, मैं दिन भर कॉलेज में रहकर थक गया था।

और घर आकर सो गया, जब उठा तो घर का काम करने लगा जिस कारण भाभी को समय नहीं मिल पाया।

शाम को मैं दोस्तों के साथ घूमने निकला, रात को आया तो भाभी खाना बनाकर सो गई, मैं भी खाना खाकर छत पर सोने जा रहा था.

तो पापा ने कहा आज तुम नीचे सो जाओ, भाभी नीचे अकेली हैं तो मैं नीचे सोने चला गया।

अचानक मन में भाभी का ख्याल आया कि मैं और भाभी नीचे अकेले हैं तो सोचा क्यों न आज अपनी किस्मत आजमाऊं।

और मैं भाभी के कमरे के पास गया तो देखा कि भाभी गहरी नींद में सो रही थी तो मैं भाभी के पास जाकर लेट गया, ज्यादातर मैं शॉर्ट्स पहन कर सोता था.

और कुछ नहीं यहाँ तक कि मैंने अंडरवियर भी नहीं पहना है, मैं धीरे-धीरे अपनी भाभी के बूब्स को सहलाने लगा, कुछ देर उसके बूब्स को सहलाने के बाद मुझसे रहा नहीं गया.

तो मैंने भाभी का कुर्ता ऊपर कर दिया, भाभी ने ब्रा नहीं पहनी थी, यह देखकर मैं पागल हो गया।

दिन भर की थकान के कारण भाभी बहुत थकी हुई गहरी नींद में सो रही थी।

अब मैं भाभी के एक बूब्स को मुंह में लेकर चूसने लगा, मुझे बहुत अच्छा लग रहा था क्योंकि ये मेरा पहला अनुभव था.

अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैं भाभी के ऊपर चढ़ गया और उनके बूब्स को जोर जोर से चूसने लगा.

देखते ही देखते भाभी की आंख खुल गई और उन्होंने मुझे अपने अपने उपर से हटा कर अपने बूब्स को अपने कुर्ते से छुपा लिया.

भाभी:- क्या कर रहे हो राहुल।

मैं:- भाभी आज आप बहुत अच्छी लग रही थी इसलिए मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था।

भाभी:- नहीं राहुल, ये सब इतनी जल्दी नहीं

मैं:- आज नहीं भाभी, मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है।

भाभी:- नहीं राहुल, तुम्हारा भाई आने वाला है।

मैं:- अभी नहीं आऊँगा क्योंकि अभी तो 10 ही बजे हैं।

भाभी :- नहीं राहुल, जाकर सो जाओ।

मैं:- नहीं भाभी, आज तो मैं आपको प्यार करके ही जाऊंगी।

भाभी :- नहीं राहुल प्लीज सो जाओ।

मैं:- नहीं भाभी, आज मुझे नींद नहीं आएगी (यह कहकर मैंने भाभी को गले से लगा लिया और किस करने लगा।)

भाभी :- नहीं राहुल प्लीज तुम्हारा भाई आएगा।

मैं:- नहीं भाभी, आज कोई नहीं आएगा।

भाभी :- राहुल आज क्या करना चाहते हो।

मैं :- आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स करूँगा।

भाभी :- नहीं सेक्स नहीं राज तुम्हारे भैया आ जायेगे।

मैं :- देखो भाभी कंट्रोल नहीं हो रहा है।(भाभी को शॉर्ट के उपर से अपना 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लंड दिखाते हुये जो शॉर्ट मे टेंट बना रहा था.)

भाभी:- जाओ राहुल इसे अपने हाथ से शांत करो।

मैं:- नहीं भाभी, आज मैं अपने हाथ से उसे शांत नहीं करूँगा, आज आप उसे शांत करोगी।

भाभी:- अच्छा राहुल में, मैं आपके लंड को अपने हाथ से शांत कर दूंगी।

मैं:- मैं अपने हाथों से भी अपने लंड को शांत कर सकता हूँ, फिर तुम्हारी क्या जरूरत है.

भाभी :- अच्छा तो मैं तुम्हारे लंड को अपने मुँह से शांत करती हूँ.

मैं :- मैंने सोचा कि आज इस अनुभव को भी आजमाना चाहिए और मैं मान गया।

भाभी :- निकर उतार दो।

मैं :- आप अपने हाथों से उतारो (ओर भाभी ने अपने हाथो से मेरा निकर उतार दिया, बाहर आकर मेरा लंड भाभी को सलामी देने लगा मेने देखा मेरा लंड देख कर भाभी का चेहरा लाल हो गया था)

भाभी:- राहुल, तुम्हारा लंड बहुत लम्बा और मोटा है, तुम्हारी बीवी बहुत खुश होगी (और भाभी मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी.)

मैं :- आह भाभी और प्यार से आह भाभी।

भाभी :- उम्म आह।

भाभी मेरे लंड को चूस रही थी और मैं भाभी के बूब्स दबा रहा था.

भाभी :- अभी मेरा मुँह तेरा लंड चूस कर थक गया है।

मैं:- भाभी बस कुछ देर और मैं थोड़ी देर में शांत हो जाऊंगा।

अहह उउन्नन्नाह

मैं:- भाभी, जब मेरे लंड से पानी निकल जाए तो सारा पानी मुंह में ले लेना, मुंह मत हिलाना आह मेरा पानी निकलने वाला है.

भाभी:- आह उउउउह।

फिर मैं भाभी के मुँह में गिर गया और भाभी ने मेरे लंड का सारा पानी अपने मुँह में ले लिया और मैं शांत हो गया कुछ देर बाद अपने कमरे में सोने चला गया.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds