भाई की गैरमौजूदगी में भाभी को जमकर चोदा

भाई की गैरमौजूदगी में भाभी को जमकर चोदा

दोस्तों मेरा नाम राजीव है, मेरी उम्र 24 साल है और मेरी हाइट 5.7 फीट है और मेरा पेनिस 6.5 है जिससे मेने अपनी भाभी को जमकर चोदा मेरी भाभी 27 साल की है, और फिगर 34-28-36 का है। दोस्तों दिखने में बहुत ही खूबसूरत और गोरी है। मेरे बड़े भाई राजू की शादी 1 साल पहले हुई थी।

दोस्तों, पिछले 7-8 महीनों से उतार-चढ़ाव बाजार की वजह से मेरे भाई के बिजनेस में बहुत फर्क पड़ा इसलिए मेरा भाई देर रात तक काम करता था दोपहर तक.दोस्तों मैंने कई बार भाई को चुपके से भाभी को चोदते देखा था.और फिर एक दिन जब भाई 15 दिन के लिए अहमदाबाद किसी काम से गया था और मैंने देखा कि मेरी भाभी उदास हो रही थी मैंने ये भी देखा कि वो दिन में कई बार अपनी चूत को अपने हाथ से खुजलाती थी 4-5 दिन में खुजलाती थी मेरे सामने भी कई बार चूत।

और खुजलाते हुए बड़ी नशीली निगाहों से मुझे देखती थी। और फिर मुझे ये भी पता चला कि मेरी भाभी की चूत चोदने के लिए बहुत लालायित है लेकिन मैं उस वक्त क्या कर सकता था. और फिर एक दिन सुबह मैंने देखा कि जब भाभी दूधवाले के पास दूध लेने गई तो उसके सामने भी अपनी चूत खुजाने लगी, तो दूधवाला भी भाभी को खुजलाते देख रहा था. बड़ी हवस के साथ उसकी चूत। था।

और फिर उसे देखकर मुझे एक झटका सा लगा और अब मैं जान गया था कि अब मुझे कुछ और करना पड़ेगा जिससे घर की इज्जत चली जाएगी। और फिर उस रात मैंने पक्का सोच लिया था कि अब मुझे अपनी भाभी की मदद करनी पड़ेगी, नहीं तो कुछ भी हो सकता है। और फिर उस रात जब सब सो गए तो मैं भी करुणा भाभी के यहाँ जाकर चुपचाप सो गया। और फिर मैंने पक्का सोच लिया कि आज मैं कुछ करूंगा।

और फिर जब घर के सब लोग सो गए, तो मैंने एक कोशिश की और सबसे पहले मैं उनके करीब जाकर चुपचाप लेट गया। और फिर मैंने धीरे से अपना हाथ उसके बूब्स पर फेरा और फिर मैंने धीरे धीरे उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया. दोस्तों उस वक्त मुझे लग रहा था कि धीरे-धीरे भाभी का भी मूड हो रहा है।

और फिर मैंने धीरे से उसके कुर्ते में हाथ डाला और फिर जब मेरा हाथ उसके कोमल बूब्स पर गया तो मेरा हाथ बार-बार उसकी ब्रा में आ रहा था जो मुझे परेशान कर रही थी. और इस दौरान मेरे दिल की धड़कन भी तेज हो रही थी। और फिर मैंने अपनी उँगलियों से उसकी ब्रा निकालने की कोशिश की लेकिन मैं असफल रहा। क्योंकि ऐसा करने से वो थोड़ी हिलने लगी और फिर मैंने झट से अपना हाथ हटा लिया.

लेकिन फिर कुछ देर बाद मैं भी हैरान रह गई क्योंकि मेरी भाभी का हाथ मेरे लंड पर था. और फिर कुछ ही देर में वो मेरे लंड को हल्के से मसलने लगा. और मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। और फिर उसके ऐसा करने से मुझे भी जोश आ गया। और फिर मैंने अपनी पैंट की चेन खोल कर अपना लंड उसके हाथ में दे दिया था. और फिर वो मेरे लंड को मसलने लगा. और तब मैं भी अपने आप में नहीं था। और फिर हम दोनों ने जल्दी से एक दूसरे के कपड़े उतारे।

दोस्तों मेरी कसम है कि मैंने पहली बार किसी नंगी औरत को अपनी आंखों से देखा और फिर अपनी भाभी को नंगी देखकर मुझे बहुत खुशी हुई। और फिर मैंने उसकी चूत को देखा तो शायद उसकी भाभी ने उस सुबह ही अपनी चूत साफ की थी. और फिर जब मैंने उसकी चिकनी चूत पर अपना हाथ फिराया तो मेरे हाथ में कुछ चिकना सा आ गया और फिर मैंने अपनी भाभी से पूछा भाभी लगता है

आपको चोदने की बड़ी इच्छा हो रही है. फिर उसने मुझसे कहा कि हाँ, मुझे चोदने की बड़ी इच्छा हो रही है, तो आज मेरे प्यारे देवर जी, मुझे जी भर के चोदो। उसे बिस्तर पर सुला दिया और फिर मैं भाभी के होठों को चूमने लगा. और फिर मैं उनके दोनों बूब्स को अपने हाथों से पकड़ कर बड़े प्यार से दबा रहा था. और फिर मैंने उसके बूब्स के निप्पल को अपने मुँह में जोर से चूसा जिससे मेरी भाभी को भी और भी ज्यादा चोदने की ललक होने लगी. और साथ ही वो मुझसे ये भी कह रही थी कि अब तुम मेरी चूत चाटो. दोस्तों आप इस कहानी को कमलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

तो फिर मैंने भाभी के दोनों पैर फैला दिए और फिर उनके बीच में बैठकर मैंने उनकी चूत पर अपना मुँह रख दिया और फिर मैं उनकी चूत के होठों को चूसने लगा. और साथ ही मैं अपनी जीभ चाट कर उसकी चूत का सारा रस पीने लगा और मैंने अपनी पूरी जीभ भाभी की चूत में डाल दी. और फिर मैं उसकी चूत को अपने दोनों होठों के बीच ले जाकर चूसने लगा. और फिर ऐसा करते-करते मेरी भाभी दूसरी दुनिया में पहुंच गई थीं

और वो मुझसे कहती रहीं कि तुम किसी औरत को चोदना बखूबी जानते हो. और फिर मैंने 10 मिनट तक भाभी की चूत को चूसा और चाटा और तभी रिद्धिमा भाभी पहली बार मेरे मुँह में गिरी और फिर वो मेरा सिर अपनी चूत के मुँह पर दबाती रही और साथ में झटके मारने लगी . और फिर भाभी ने मेरे लंड को अपने मुहं में ले लिया और वो बड़े प्यार से उसे चूसने लगी. और फिर 10 मिनट तक मेरे लंड को खूब अच्छे से चूसने के बाद उसने मुझसे कहा कि, अब मुझमें और सब्र नहीं हो रहा है, प्लीज अब मुझे चोदो, तुम्हारे भाई के जाने के बाद से मुझे बहुत तकलीफ हो रही है.

और फिर मैंने भाभी की कमर के नीचे तकिया रख दिया और फिर मैंने उनके दोनों पैर हवा में फैला दिए और फिर मैंने अपने लंड पर खूब सारा तेल लगाया. और फिर भाभी ने मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर प्यार से अपनी चूत के छेद पर रख दिया. और फिर मैंने भी धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डालने के लिए दबाया, फिर बड़ी मुश्किल से मेरे लंड का ऊपर का हिस्सा उसकी चूत में घुसा, और दर्द की वजह से भाभी की आँखे फैल गयी, और उसके होंठ जहाँ मैं उलझ गया।

और फिर मैंने उससे पूछा, क्या उसे कोई परेशानी नहीं है, भाभी? तो भाभी ने मुझसे कहा कि नहीं, बस मेरी चूत थोड़ी खिंच रही है, मुझे ऐसा लग रहा है. और फिर जब मैंने थोड़ा और धक्का दिया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत की गहराई में उतर चुका था. और फिर मैं भाभी के होठों को चूमने लगा।

और इसी के साथ मैं धीरे धीरे अपना लंड उसकी चूत के अंदर बाहर करने लगा. और फिर मैंने उसकी चूत में 2-4 और जोर से जोर दिया, फिर मेरा 6.5″ का लंड पूरी तरह से उसकी चूत में घुस गया। और फिर उसने मुझे अपनी बाहों में पकड़ कर रोका और फिर मेरी भाभी ने मुझसे कहा, रुको और पसंद करो ये कुछ देर के लिए अपना लंड मेरी चूत में रखना मुझे बहुत मजा आ रहा है.

और फिर मैंने भी अपना लंड उसकी चूत में ऐसे ही रखा और मैं उसके बूब्स दबाने लगा.और फिर 5 मिनट बाद मेरी भाभी बोली मेरे लिए, बस अब मुझे पूरी तरह से चोदो। और फिर मैंने अपने लंड को आधे से ज्यादा अंदर और बाहर घुमाते हुए उसे चोदना शुरू कर दिया। और फिर मैंने पूरे 10 मिनट तक उसकी चुदाई की और फिर भाभी दूसरी बार गिर गई और उसने मुझे कसकर पकड़ना शुरू कर दिया। और इस बीच, मैं उन्हें धीरे-धीरे चोदने लगा। और फिर उसने अपने दोनों हाथ बिस्तर पर फैला दिए और मुझसे कहा, दोस्त, तुम सबसे अलग चुदाई करते हो और तुम्हारे भाई ने भी मुझे कभी इस तरह नहीं चोदा .

और फिर मैंने उससे कहा कि भाभी अभी सेक्स खत्म नहीं हुआ है, मेरा माल निकलेगा तो खत्म हो जाएगा। तो भाभी ने कहा, हाँ, मुझे पता है, लेकिन आपको आज अपनी भाभी की चुदाई करनी है, कसम से, आज मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। और फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत से पूरा निकाल लिया और थोड़ा तेल अपने लंड पर लगाया और फिर वापस उसकी चूत में डाल दिया.

और फिर मैं काफी देर तक धक्के मारने लगा और मेरी भाभी भी इसे लेकर बहुत उत्साहित थीं और मुझसे कह रही थीं कि आज मेरी इस चूत को फाड़ दो, बहुत खुजली हो रही है। और फिर अब मुझे बहुत पसीना आने लगा तो मेरी भाभी ने प्यार से मेरे माथे का पसीना अपने हाथ से पोंछा और फिर बड़े प्यार से मुझे चूमने लगी। और फिर मैंने पूरे 20 मिनट तक भाभी की बहुत जोर से चुदाई की और उसके बाद मैंने उनसे कहा कि भाभी अब मैं गिरने वाला हूं।

तो मेरी भाभी ने मुझसे कहा कि हां, मेरी चूत के अंदर गिर जाओ. और फिर मैंने भाभी की प्यासी चूत में अपना पूरा सावन प्यार बरसा दिया था जिससे भाभी एकदम मदहोश हो गई थी. और उसका पूरा शरीर अकड़ने लगा। और फिर आखिर में मैं भाभी के ऊपर लेट गया।

और फिर 2 मिनट बाद मेरा लंड ढीला होने लगा और फिर जब मैंने उठकर अपना लंड उनकी चूत से निकाला तो मेरा पूरा लंड चमक रहा था. और फिर हम दोनों बाथरूम में चले गए, और फिर भाभी और मैंने एक-दूसरे को साफ किया और फिर अपने-अपने कपड़े पहन लिए। और फिर मैंने अपनी भाभी को बाहों में लेकर बड़े प्यार से किस किया और फिर मैंने भाभी से पूछा, क्या तुम्हारा जीजा चोदने लायक है? तो मेरी भाभी ने मुझे बहुत प्यार से किस किया और फिर उन्होंने मुझे उस चुदाई के लिए धन्यवाद दिया।

अपने विचार कमेंट और मेल में बताएं, अच्छा रिस्पॉन्स मिलने पर मैं आपको अपनी जिंदगी की दूसरी लड़कियों की कहानियां भी सुनाऊंगा। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds