मालिश करने के बाद भाभी को चोदा और उनकी थकान को दूर किया

मालिश करने के बाद भाभी को चोदा और उनकी थकान को दूर किया

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “मालिश करने के बाद भाभी को चोदा और उनकी थकान को दूर किया” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

दोस्तों मेरा नाम रोहन है और मैं चंडीगढ़ से हूँ। मैं आपको अपने बारे में थोड़ा बता दूं।

मैं दिखने में अच्छा हूँ और मैं अभी कॉलेज में पढ़ रहा हूँ।

मुझे सेक्स कहानियां पढ़ना बहुत पसंद है। ऐसा ही एक वाकया मेरे साथ भी हुआ था

तो मैंने सोचा कि अपनी कहानी के जरिए आपको इसके बारे में बता दूं।

ऐसी ही एक घटना आपके साथ साझा करने जा रहा हूं।

यह देसी चुत की चुदाई कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है जो मेरे और मेरी भाभी के बीच हुई थी।

यह कोई बहुत पुरानी बात नहीं है। घटना 6-7 महीने पहले की है।

आगे बढ़ने से पहले मैं आपको भाभी के बारे में कुछ बता दूं। उसका नाम आशिका है

और वह 25 साल की है। रंगत थोड़ी सांवली है लेकिन फिगर ऐसा है जो किसी भी हालत को खराब कर सकता है।

गोल निपल्स और उभरी हुई गांड। चलते-चलते जब भाभी के दोनों

कूल्हे आपस में टकराते हैं तो अच्छे-अच्छे लंड आहें भरने लगते हैं.

बात तब की है जब मैं चंडीगढ़ से गांव अपने बड़े पापा के यहां चला गया था।

उनके घर में बड़ा पिता, बड़ी मां और देवर व उनके 2 बच्चे रहते हैं।

उनकी ननद यानि कि मेरी छोटी बहन पढ़ाई करने के लिए घर से बाहर शहर में रहती है।

घर गया तो भाई-भाभी घर में थे बड़े पापा और बड़ी मम्मी कहीं काम से बाहर थे और उनके बच्चे स्कूल गए हुए थे।

मैं बहुत पहले से आशिका भाभी को चोदना चाहता था। बहुत बार मैंने भाभी के नाम की मुठ भी मारी हुई थी।

मुझे कभी मुझे ऐसा मौका नहीं मिला था कि मैं भाभी को चुदाई के लिए मना सकूं।

वह मेरे साथ अच्छे से पेश आती थी। वह मेरे बहुत करीब थी। हम दोनों के बीच खूब मस्ती-मजाक हुआ करता था।

वह हमेशा मुझसे खुश रहती थी। मैं भी भाभी की हंसी का दीवाना था।

फिर वो दिन आ गया जब मैंने भाभी की जमकर चुदाई की.

उस दिन बड़े पापा और बड़ी माँ को किसी जरूरी काम से शहर जाना था।

संयोग से उसी दिन भाई को किसी रिश्तेदार के यहां जाना था।

कहने का तात्पर्य यह है कि उस दिन घर में केवल मैं और भाभी ही रहने वाले थे।

दिन भर भाभी घर में अकेली होगी ये सोचकर मेरा मन पहले से ही गुदगुदा रहा था।

मैं अपनी भाभी को चोदने के सपने देखने लगा। फिर उस दिन दोपहर

में स्कूल से आने के बाद उसका बेटा अपने दादा-दादी के पास चला गया।

उनकी बेटी हमारे साथ रही। वह अभी भी बहुत छोटी थी। उन्हें दुनियादारी की कोई परवाह नहीं थी।

फिर सबके जाने के बाद घर में सिर्फ मैं, आशिका भाभी और उसकी छोटी बेटी ही रह गई।

बड़ी मुश्किल से दिन बीता और किसी तरह शाम हो गई।

फिर हमने डिनर किया और आशिका भाभी बच्ची को सुलाने के लिए अपने कमरे में ले गईं।

अभी रात के 8 बज रहे थे और भाभी सारा काम खत्म करके टीवी सीरियल देखती थीं।

मैं भी टीवी देख रहा था। बच्चे को सुलाने के बाद भाभी भी टीवी देखने आ गई।

मैंने उसे थोड़ा थका हुआ पाया, तो मैंने उससे पूछा। मैं- क्या हुआ भाभी?

क्या तुम ठीक महसूस नहीं कर रही हो? क्या तुम ठीक अनुभव कर रही हो?

भाभी- क्या बताऊं रोहन बहुत थक रही हूं। मैं घर का काम करके बहुत थक जाती हूँ।

तबीयत भी कल के मुकाबले कुछ ज्‍यादा बेहतर नहीं है।

मैं- तो भईया को बताया क्यों नहीं? उसने कहा- अरे नहीं, वह पहले से ही अपने काम में इतना व्यस्त है।

हालांकि मुझे ज्यादा दिक्कत नहीं है, लेकिन आज मैं ज्यादा थक गई हूं। मैं- भाभी आप दवाई खाकर सो जाएं

या पैरों की मालिश करके सो जाएं, इससे आपको आराम मिलेगा।

भाभी- रोहन, क्या तुम मेरी बात मानोगे? मैं- हां भाभी बोलो क्या तुम मेरी मालिश करोगी?

यह सुनकर मैं अंदर से बहुत खुश हो गया। मुझे लग रहा था कि अब मुझे उन पर टूट पड़ना चाहिए।

लेकिन मैंने नियंत्रण रखा। मैंने कहा- हां भाभी, इसमें इतना पूछने की क्या बात है?

भाभी : ठीक है, तो चलिए आपके कमरे में चलते हैं। गुड़िया मेरे कमरे में सो रही है।

अगर आवाज से उठ गयी तो फिर और मुसीबत हो जायेगी.

मैंने कहा- ठीक है. तो फिर मेरे रूम में आ जाओ आप। इतना कहकर भाभी उठ गईं और हम अपने कमरे में जाने लगे।

उसने कहा- ठीक है रोहन, तुम जाओ। मैं मालिश का तेल लाती हूँ। जल्दी ही वह अपने कमरे से तेल ले आई।

मैंने भाभी को बेड पर लेटने को कहा। भाभी पलंग पर पेट के बल लेट गई।

भाभी ने साड़ी पहनी हुई थी तो मैंने उनको साड़ी पैरों ऊपर करने को कहा।

मेरे कहने पर उसने साड़ी को घुटनों तक उठा लिया। मेरे सामने भाभी की चिकनी पिंडली थीं।

मैं उसके पास बैठ गया और उसके पैरों की मालिश करने लगा। मसाज कराते-कराते भाभी को बहुत अच्छा लग रहा था।

मैंने दस-पंद्रह मिनट तक उनके पैरों की मसाज की। लेकिन वह आगे नहीं बढ़ रही थी। फिर मैंने मालिश करना बंद कर दिया।

उसने कहा- क्या हुआ? तुम रुक क्यों गए? पैरों की तो हो गयी है भाभी। क्या आप कहीं और मालिश करवाना चाहती हैं?

वो बोलीं- रोहन, मेरे पूरे शरीर में दर्द हो रहा है. मगर तुम केवल कमर व पीठ की और कर दो।

उसके बाद मैं सोने चली जाऊंगी। मैं- ठीक है भाभी लेकिन मैं आपके ब्लाउज के ऊपर से कैसे मालिश कर पाऊंगा?

भाभी – कोई बात नहीं, तुम अंदर हाथ डालकर कर लो। फिर मैं भाभी की कमर और पीठ की मालिश करने लगा।

लेकिन हाथ अंदर नहीं जा सका। मैंने कहा- भाभी ऐसा नहीं हो रहा है।

मैं ठीक से बैठ नहीं सकता। मैं आपकी जंघाओं पर बैठकर ठीक से कर सकूंगा।

इस पर भी भाभी ने हां में सिर हिला दिया। मैं भाभी की जांघों पर बैठ कर उनकी पीठ और कमर की मसाज कर रहा था.

साथ में पीठ से नीचे आते समय मैं भाभी की गांड की दरार तक अपना हाथ ला रहा था.

भाभी मस्ती कर रही थीं और वो मुझे रोक भी नहीं रही थीं. बार-बार उसकी गांड को छूने से मेरा लिंग खड़ा हो गया था।

मेरा लौड़ा उनकी गांड से टकरा रहा था. साफ साफ महसूस करने के बाद भी भाभी मुझे रोक नहीं रही थी।

अब मैं आगे बढ़ना चाहता था क्योंकि मेरी भाभी को गर्माहट देने का यही सही समय था।

मैंने उससे कहा- भाभी ब्लाउज खोल दो ताकि पीठ की पूरी मालिश हो सके.

भाभी ने अपने ब्लाउज के दो बटन खोल दिए। अब मैं उसकी ब्रा देख सकता था। मैं उसे भी उतारना चाहता था।

फिर मैंने खुद उसकी ब्रा का हुक खोल दिया। वो बोली- तुमने ब्रा का हुक क्यों खोला?

मैंने कहा- हाथ लग रहा है। इसलिए खोल दिया।

इस पर वह फिर कुछ नहीं बोलीं। अब मैं भाभी की पीठ पर मसाज कर अपने लंड को उनकी गांड से रगड़ रहा था.

भाभी अब गांड को हल्के से उठाने लगी थीं। मैं जान गया कि भाभी गर्म हो रही है।

मेरा हाथ उसकी गांड में घुसने की कोशिश कर रहा था. फिर कुछ देर बाद मैंने भाभी की साड़ी को और भी ऊंचा उठा दिया।

अब मुझे भाभी की पेंटी भी दिख रही थी. अब मैं जांघों की मालिश करने लगा।

मसाज करते हुए मैंने एक बार भाभी की चुत को हल्के से छुआ.

मेरे लंड में एक जोर का झटका लगा. भाभी की चुत की गरमी मुझे अपनी उँगलियों पर महसूस हुई।

फिर मैंने फिर वही किया। भाभी कुछ नहीं बोलीं। मुझे पता चल गया था कि अब लाइन क्लियर हो गई है

और भाभी आराम से चुदाई के लिए तैयार हो जाएंगी. अब मैं भाभी को चोदने के लिए ऐसा भड़काना चाहता था

कि वो खुद ही लंड लेने को कहने लगे. मैंने कहा- भाभी, मेरे पास भी आपके शरीर को और रिलैक्स करने का एक तरीका है।

उसने कहा-क्या रास्ता है? मैंने कहा- उसके लिए तुम्हें मेरी एक बात माननी होगी। उसने कहा-बताओ, क्या करना है?

मैंने भाभी से कहा, आपको अपने कपड़े थोड़े और उतारने होंगे, ताकि मैं शरीर के बाकी हिस्सों की मालिश कर सकूं।

उसने कहा- ठीक है, ठीक है, तुम खुद ही उतार लो जहां तक उतारने हैं।

यह सुनकर मैं खुश हो गया। भाभी ने कंट्रोल मेरे हाथों में दे दिया था।

अब मैं उसकी साड़ी खोलने लगा। फिर मैंने पेटीकोट भी उतार दिया। अब भाभी नीचे से सिर्फ पैंटी में थी।

भाभी की गांड पर टाइट पैंटी बहुत मस्त लग रही थी. मुझे उसकी गांड को जोर से दबाने का मन कर रहा था।

लेकिन किसी तरह मैंने सब्र रखा। फिर मैं उन पर लेट कर मसाज करने लगा।

मेरे लंड का सुपारा अब नीचे से भाभी की पैंटी में घुसने की कोशिश करने लगा.

मेरे हाथ उनकी चूचियों के बगल से उनको दबाने लगे थे. भाभी कसमसाते हुए हल्के से सिसकारने लगी थी।

फिर मैंने उन्हें घूमने के लिए कहा। जब वह सामने की ओर मुड़ी तो उसका ब्लाउज और ब्रा भी उतर गई

क्योंकि दोनों पहले से ही खुली हुई थीं। उसके मोटे बूब्स पूरे तनाव में लग रहे थे.

भाभी ने अपने हाथों से अपने बूब्स को ढँक लिया.

मैंने पैंटी की ओर देखा तो चुत ने पानी छोड़ कर चुत के मुँह के चारों ओर से पैंटी गीली कर दी थी।

मैं भाभी की जांघों को मसलने लगा। मेरे हाथ बार-बार भाभी की चुत की तरफ रगड़ रहे थे।

भाभी को नशा हो गया था और जब उनकी उत्तेजना बढ़ने लगी

तो उन्होंने कहा- आप भी इसे उतार दीजिए। मेरा तो सब कुछ देख लिया।

मैं यह सुनकर मुस्कुराया। अब भाभी ने साफ कह दिया था।

मैंने फटाफट अपनी टी-शर्ट और लोअर फेंक दी और मैं भी अंडरवियर में आ गया।

मेरा अंडरवियर भी मेरे लंड से गीला हो गया था. मैंने कहा

अब हाथ हटाओ? मेरे कहते ही भाभी ने अपने हाथ बूब्स से हटा दिए.

अब मेरे हाथ भाभी के पेट से लेकर बूब्स तक मसाज करने लगे.

मैं भाभी के बूब्स दबाने लगा. वह सिसकने लगी। मैं धीरे से भाभी के ऊपर लेट गया।

हमारे होंठ मिले और मैं अब रुक नहीं सका। भाभी भी मेरे होठों को चूसने लगीं और मेरा हाथ सीधा उनकी पैंटी में चला गया.

होठों को चूसते-चूसते मैं उसकी चूत में ऊँगली करने लगा. दो-चार मिनट में ही ननद पूरी तरह चुद गयी।

वो मेरे होठों को काटने लगी और चुत को लंड से टकराने लगी. मैं नीचे पहुँचा और अपना अंडरवियर उतार दिया।

भाभी ने तुरंत मेरे लंड को पकड़ लिया और अपने हाथ से उसे आगे-पीछे करने लगी.

मैंने भाभी की पैंटी उतार दी और उनकी गांड को जोर से अपनी हथेली से मसलने लगा.

उसकी चुत से मेरा हाथ पानी छोड़कर एकदम भीग गया। अब जब उससे रहा नहीं गया

तो वह बोली- अब देर मत करो, रोहन, मेरे शरीर सहित, मेरे पिंपल्स का दर्द दूर करो। तुमने उसमें आग लगा दी है।

भाभी ने फिर से मुझे अपने ऊपर खींच लिया और लंड को मुट्ठी में रगड़ने लगी.

मैं पागल हो गया। मैं जल्दी से नीचे गया और चुत चाटने लगा।

भाभी चुत में मेरा सिर दबाने लगीं। इसी बीच भाभी अचानक नीचे गिर पड़ीं।

उसके बाद मैंने भाभी के मुंह में लंड डाल दिया और उन्हें चूसने लगी.

थोड़ी ही देर में मेरा पानी भी फूट गया। भाभी ने मेरे लंड का सामान अंदर ही अंदर निगल लिया.

फिर कुछ देर के लिए दोनों शांत हो गए और मैं एक बार फिर भाभी के बूब्स से खेलने लगी.

वो भी मेरे सोते हुए लंड को पकड़ कर हिलाने लगी.

उसके बाद हम एक बार फिर 69 की स्थिति में आ गए और दस मिनट के बाद मेरा लिंग फिर से खड़ा हो गया।

फिर भाभी ने मेरा सर पकड़ कर मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मुझे किस करने लगी।

उसने अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल दी और मुझे जोर-जोर से किस करने लगी।

उसके बाद भाभी ने मेरे लंड को एक हाथ से पकड़ कर मुट्ठी में ठूंस दिया.

फिर मुझे कमर से खींचते हुए वो लंड को मुट्ठी से दबाने की कोशिश करने लगी.

मैं समझ गया कि अब वह रुक नहीं सकेगी। मैंने थोड़ा सा धक्का दिया

तो पूरा लंड चुत में घुस गया और मैं भाभी को जबरदस्ती चोदने लगा.

वह जोश से सिसकने लगी-आह…रोहन…आह…आह…आह…आह…आह…छोड़…और छोड़…आआ…आह…आह…ई…। ओह

कुछ देर बाद मैंने अपनी भाभी को मेरे पास आने को कहा। वह भी तुरंत ऊपर आ गई।

उसने चुत में मुर्गा लिया और उस पर कूदने लगी। मैं उसके निप्पलों को दबाते हुए नीचे से धक्का देने लगा.

थोड़ी देर में भाभी का पानी निकल गया और भाभी मुझसे चिपक गई।

मैंने अपनी भाभी को लिटा दिया और धक्का देना जारी रखा क्योंकि मेरी भाभी बाहर नहीं आई।

थोड़ी देर बाद मुझे भी लगने लगा कि अब मैं निकलने वाला हूं।

मैंने उससे कहा- मेरे पास एक होने वाला है। क्या करें

उसने कहा- अंदर निकालो। ऑपरेशन करवा चुके हैं।

फिर मैंने झटके से सामान भाभी की चुत में गिरा दिया। साँस लेते हुए मैं भी उसके ऊपर लेट गया।

मैं उनसे लिपट गया और कुछ ही देर में मेरा लंड सिकुड़ कर बुलबुले से बाहर आ गया.

हम दोनों कब सो गए पता ही नहीं चला। फिर रात को जब आँख खुली तो

मैं फिर से उसकी गांड को सहलाने लगा. उसके बाद रात में तीन बार सेक्स किया।

बीच-बीच में उठकर अपनी बेटी को देखकर आ जाती थी और फिर आकर मुझे गले लगा लेती थी।

इस तरह हमने पूरी रात एन्जॉय किया। दोस्तों उसके बाद मैंने भाभी की गांड भी मारी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds