गृह प्रवेश में भाभी की बूर में लंड प्रवेश | Bhabhi ki Bur Chudai Kahani

गृह प्रवेश में भाभी की बूर में लंड प्रवेश | Bhabhi ki Bur Chudai Kahani

Bhabhi ki Bur Chudai Kahani में मैंने बताया है कि मैं शुरू से ही अपनी भाभी की ओर आकर्षित था. मैं बहाने से उसे छूता रहा. भाभी ने भी मुझे नहीं रोका. आख़िरकार एक दिन मैंने भाभी को चोद ही दिया.

प्रिय दोस्तो, आज मैं अपनी First Time Sex Story लिखने जा रहा हूं.

यह मेरी भाभी और मेरे बीच के प्यार की सेक्स भरी कहानी है.

मेरी उम्र 20 साल है और मेरी भाभी की उम्र करीब 25 साल है.

भाभी मेरे चाचा के लड़के की पत्नी है.

मेरी भाभी का शरीर बहुत शानदार है. उनका रंग गोरा और कद 5 फीट 6 इंच है. वह किसी फिल्म की हीरोइन जैसी लगती हैं.

मुझे उसके शरीर में उसकी Moti Gand और Big Boobs सबसे अद्भुत लगते हैं।
मेरी भाभी की गांड काफी उभरी हुई है.

उसकी शादी छह साल पहले हुई थी और तभी से मैं उसे चोदना चाहता था.
भाभी की शादी के बाद मैंने उन्हें छूने का कोई भी मौका नहीं छोड़ा।

मेरी इन हरकतों से या भैया की व्यस्तता कहिये, भाभी का झुकाव मेरी तरफ होने लगा था।

लेकिन उसी समय मुझे पढ़ाई के लिए शहर छोड़ना पड़ा।
सच में उस वक्त मुझे बहुत बुरा लग रहा था.

जिस रात मुझे घर छोड़ना पड़ा मैं बहुत दुखी था।

उस रात शायद भाभी के मन में भी कुछ चल रहा था.
वह रात को मेरे पास आई।

उस वक्त मैं और मां बात कर रहे थे.
भाभी को अचानक अपने सामने देखकर मैं बहुत खुश हो गया और ऐसा लगा जैसे शायद भाभी मुझे गले लगाने के लिए आई हों.

उन्होंने मुझसे कहा- अब तो जा रहे हो लेकिन भाभी को याद रखोगे … या भूल जाओगे?
मेरी आंखों में आंसू आ गये और मैंने मां की परवाह किये बगैर भाभी को गले लगा लिया.
उसने भी मुझे अपने स्तनों में कस कर पकड़ लिया।

बिना कुछ कहे हम दोनों एक मिनट तक एक दूसरे की धड़कनों को महसूस करते रहे.
फिर मैं अगले दिन चला गया.

उसके बाद वह जब भी घर आता तो अपनी भाभी के पास घंटों बैठा रहता और उससे बातें करता रहता।
लेकिन मुझमें एक बार भी हिम्मत नहीं हुई कि मैं भाभी से अपने दिल की बात कह सकूं.

मैं जब भी घर जाता था तो किसी ना किसी तरह से मुझे भाभी के बदन के दर्शन हो ही जाते थे.

बाद में भाई-भाभी ने गाँव का पुश्तैनी घर छोड़ दिया और दोनों बाहर किसी शहर में चले गये।
भाई ने वहां अपना बिजनेस जमा लिया था.

यहाँ मुझे अच्छी नौकरी मिल गयी थी और माता-पिता की सहमति से मैंने शहर में एक घर भी बनवा लिया।

फिर वो मौका आया जब मुझे मेरा पहला प्यार भाभी मिल गयी.

हुआ यूं कि 6 महीने पहले हमारे नये घर का गृहप्रवेश समारोह था, जिसमें सभी रिश्तेदार आये हुए थे.
मेरे भाई और भाभी भी वहां थे.

दोस्तो, अब मेरी Bhabhi ki Bur Chudai Kahani का मजा लीजिए कि कैसे भाभी ने मेरे लंड के लिए अपनी टांगें खोल दीं।

जब मैंने भाभी को घर आते देखा तो मुझे बहुत ख़ुशी हुई कि आज मुझे उनके शरीर का निरीक्षण करने का मौका मिलेगा।

अब तक मैं केवल उसके शरीर की खोज के बारे में ही सोच सका था; मैं उसे चोदने का ख्याल अपने मन में नहीं ला पा रहा था.

लेकिन मुझे क्या पता था कि आज मुझे अपनी भाभी की बूर चोदने का मौका मिलेगा.

हुआ यह कि दोस्तों, गृहप्रवेश समारोह ख़त्म होने के बाद कुछ लोग तो अपने घर चले गए लेकिन कई मेहमान भी घर पर ही रुक गए।

जिस घर में मेरा गृह प्रवेश हुआ उसमें केवल दो कमरे, एक बरामदा, एक रसोई और एक बाथरूम है।

रात को जब सबने खाना खाया और सोने की तैयारी करने लगे तो एक कमरे में सब लोग अपने नीचे गद्दे डालकर सोने लगे।

एक कमरे में तीन मौसी, दादी और मेरी मां सो रही थीं.

भाभी अपने एक बच्चे के साथ लेटी हुई थी. उसकी उम्र 4 साल है.
भैया वापस चले गये थे, भाभी कुछ दिन रुकने वाली थी।

वह बरामदे के एक कोने में रखे बिस्तर पर सो रही थी.

मौका मिलते ही मैं उसके पास सोने चला गया.
भाभी दीवार के पास सो रही थी, उनके पीछे उनका बेटा भी सो रहा था।
मैं बच्चे को एक तरफ करके बीच में सो गया।

जनवरी का महीना था इसलिए उस समय बहुत ठंड थी।
अब मैं धीरे-धीरे अपने पैर उसके कम्बल में डालने लगा।

मेरा पैर उसके पैर तक पहुंच गया.
मुझे एहसास हुआ कि उसकी साड़ी उसके घुटनों तक ऊपर थी.

जब उसके पैर मेरे पैरों को छूने लगे तो मेरे अंदर एक कंपन उठने लगा.
मेरी भाभी गहरी नींद में सो रही थी. उसे पता ही नहीं चला कि मैं अपना पैर उसके पैर पर रगड़ रहा हूं.

मैंने धीरे-धीरे अपना पूरा शरीर उसके कम्बल में ढक लिया।
तभी अचानक भाभी ने अपना चेहरा मेरी तरफ कर लिया और मेरे बिल्कुल करीब आकर सोने लगीं.

उसके होंठ मेरे होंठों के बिल्कुल करीब आ गये और मुझे उसकी साँसें महसूस होने लगीं।
उसकी गर्म सांसें मेरे अंदर आग जलाने लगीं.

मैंने एक हाथ उसकी कमर पर रखा और उसकी गांड को टटोलने लगा.

मेरे अंदर डर था कि कहीं वे जाग न जाएं.
लेकिन उसके स्पर्श से मेरे लिंग में जो तनाव पैदा हुआ, उसने मुझे कुछ और ही चाहने पर मजबूर कर दिया.

मैंने अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसकी जाँघों को सहलाते हुए उसकी गांड से नीचे जाने लगा।

फिर मैंने उसकी साड़ी को उसकी Moti Gand तक ऊपर उठा दिया.
अब मैंने खुद को कंबल के अंदर कर लिया और उसकी जाँघों को अपने होंठों से चूमने और चाटने लगा।
मेरे हाथ भाभी की गांड पर थे.

तभी अचानक भाभी ने करवट बदल ली.
मैं डर कर सीधा हो गया और उनसे दूर हो गया.

कुछ देर बाद जब भाभी फिर बेहोश सी दिखने लगीं तो मैंने अपना हाथ उनके फूले हुए स्तन पर रख दिया और धीरे-धीरे दबाने लगा।

तब मुझे एहसास हुआ कि भाभी शायद जाग रही थी लेकिन कुछ बोल नहीं रही थी.

मुझे लगा कि शायद मुझे इतना अच्छा मौका दोबारा नहीं मिलेगा.
तो मैंने धीरे-धीरे उसके ब्लाउज के बटन खोलने शुरू कर दिये.
अब उसके स्तन सिर्फ ब्रा में थे।

मैं उसकी ब्रा का हुक खोले बिना ही ऊपर उठाने लगा.
लेकिन उसके स्तन इतने बड़े थे कि ब्रा बहुत टाइट हो रही थी.

मैं ब्रा के नीचे से उसमें हाथ डालने लगा.

मेरा हाथ उसकी ब्रा के अन्दर चला गया लेकिन ब्रा इतनी टाइट हो गयी कि उसका स्तन मेरे हाथ में पूरी तरह दब गया।
शायद इसी दबाव के कारण भाभी ने अपनी आंखें खोलीं और मेरा हाथ पकड़ लिया.

अब मेरा हाथ न तो बाहर आ रहा था और न ही उसके स्तनों को छू रहा था।

भाभी ने अब अपनी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरा हाथ हटा दिया.
जैसे ही मेरा हाथ बाहर आया, मैंने बिना समय बर्बाद किए भाभी को सीधा अपनी ओर खींच लिया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

पहले तो वो भागने की कोशिश कर रही थी, लेकिन मैं सीधा अपना हाथ नीचे ले गया. मैं भाभी की पैंटी के ऊपर से ही उनकी बूर को रगड़ने लगा.
ऐसा करीब 10 मिनट तक चलता रहा.
तभी मुझे लगा कि उसकी बूर का रस मेरे हाथ पर बहने लगा है.

भाभी अब शांत हो गई थीं और मेरा साथ देने लगीं.
उसने अपने एक स्तन से मेरा मुँह छू लिया था.

मैं भी उसके स्तनों को अपने होंठों में दबा कर खींचने लगा. भाभी बहुत धीमी आवाज में कामुक आवाजें निकाल रही थीं.

मैंने भाभी से कहा- भाभी मैं…
उसने मेरे मुँह पर अपना हाथ रख दिया और हाथ के इशारे से मुझे अपने ऊपर चढ़ने को कहा.

मैं कम्बल में उसके ऊपर चढ़ गया और उसके स्तनों को मुँह में लेकर चूसने लगा।

इससे भाभी बहुत उत्तेजित होने लगीं और अपने दोनों स्तन एक-एक करके तेजी से मेरे मुँह में डालने लगीं।

उसके मम्मों को दबाते हुए मैंने उसके पेट को चाटा और उसकी बूर तक पहुंच गया.

मैंने धीरे से उसकी पैंटी उतार दी.

उसकी चिकनी बूर मेरे सामने थी.

मैंने अपनी जीभ उसकी बूर में डाल दी और चाटने लगा.

अब तो मानो भाभी तड़प उठी थी.

वो मेरे सिर को अपनी Pink Chut में दबाने लगी और एक हाथ से मेरे 6 इंच के लंड को मेरी पैंट के ऊपर से पकड़ कर सहलाने लगी.

मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपने पैर भाभी की छाती के दोनों तरफ रख दिए और अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया.

भाभी बड़े प्यार से मेरे लिंग को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं और कुछ देर बाद लिंग उनके मुँह से बाहर निकल कर धीरे से बोलीं- तुम्हारा लिंग बहुत मोटा और मजबूत है।

मैंने कहा- आज इसकी ओपनिंग है. मैं इसे तुम्हारे साथ ही खोलना चाहता था.

वो भी मुझसे चिपक गई और बोली- मुझे पता था कि तुम मेरे साथ सेक्स करना चाहते हो.

उसके बाद तो मैं पूरे मजे से भाभी से अपना लंड चुसवाने का मजा लेता रहा.
फिर भाभी बोलीं- चल जल्दी से इसे बूर में डाल दे, क्या पता कोई जाग जाए.

मैंने भाभी के दोनों पैरों को उनकी छाती की तरफ मोड़ा और अपना लंड उनकी चिकनी Tight Chut में डाल दिया.
मैं धीरे धीरे अपना लंड भाभी की बूर में डालने लगा.

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, भाभी के मुँह से आह निकल गयी.
मैं अपना लंड उसकी बूर में डालने लगा.

उसकी बूर बहुत टाइट थी; मुझे उसे चोदने में बहुत मजा आ रहा था.

कुछ देर बाद मैंने उसे डॉगी स्टाइल में बिठाया और अपना पूरा लंड उसकी बूर में डाल दिया. (Bur ki Chudai)
उसके मुँह से कराहें निकलने लगीं.

लेकिन पास में ही कुछ लोग सो रहे थे इसलिए वो बहुत कंट्रोल में थी.
मैं उसे पीछे से ज़ोर-ज़ोर से चोद रहा था, उसके बालों को हाथों में पकड़ कर उसकी गांड को मसल रहा था।

मेरा लंड उस समय पूरी स्पीड में था और कुछ देर में मेरा वीर्य निकलने वाला था.
जब झड़ने का समय आया तो मैंने अपना लंड उसकी बूर से बाहर निकाला और सारा वीर्य उसकी गांड पर छोड़ दिया.

भाभी को थोड़ा बुरा लगा.
वो मेरे लंड का रस अपने अंदर लेना चाहती थी.

मैंने कहा- मैं उसे दूसरे राउंड में डालूंगा.
वह हंसी।

फिर झड़ने के बाद मैंने उसे पेट के बल लेटा दिया और सारा वीर्य उसकी गांड और पीठ पर मल दिया.

इसके बाद हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किये और एक दूसरे का हाथ पकड़ कर सो गये.

आधी रात को हम दोनों ने एक बार फिर से सेक्स का मजा लिया और इस बार मैंने अपने लंड का बीज Bhabhi Bur Chudai में बोया.

दोस्तो, अब जब भी मौका मिलता है, मैं भाभी को लेकर The Umrao Hotel में चला जाता हूं और खुलकर Chut ki Chudai करता हूं भाभी होटल में आकर और खुल के चूत देती है होटल वालों को लगता है कि यह मेरी बीवी है पर उनको इस बात की भनक भी नहीं है मैं अपनी भाभी को लाकर यहां पर चोदता हूं और उनकी बूर सुजा देता हूं भाभी भी मेरे लंड से खुल कर खेलती है.

आपको Bhabhi ki Bur Chudai Kahani कैसी लगी, कृपया मुझे मेल करें।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds