बहन ने भाई को चुत का गुलाम बना दिया | बहन की चुदाई की कहानी पार्ट-1

बहन ने भाई को चुत का गुलाम बना दिया | बहन की चुदाई की कहानी पार्ट-1

नंगी बहन की चुदाई की कहानी में पढ़िए कि ताऊ जी और ताई जी की चुदाई की आवाजें मेरी हवस जगा देती थीं. मेरा छोटा भाई जवान हो गया था। मैंने उसके साथ पहली बार सेक्स कैसे किया?

दोस्तों, मेरा नाम Shehnaaz है। मैं wildfantasystory.com की नियमित पाठिका हूँ। सबकी कहानी पढ़कर मन भी हुआ कि नंगी बहन की चुदाई की कहानी सुनाऊँ.

इसलिए मैं आपको अपने सगे भाई के साथ अपने पहले सेक्स की कहानी सुनाने आई हूं।
बहन की चुदाई की ये कहानी सच है और पहली बार मुझे मेरे छोटे भाई ने चोदा था.

दोस्तों, मैं अपने घर से बहुत दूर रहती हूँ। पिछले 6 साल से पढ़ाई के लिए चाचा-चाची के यहां रहकर पीएचडी कर रही हूं।

मेरे ताऊ जी 40 साल के हैं और उनकी खिलौनों की फैक्ट्री है।

मेरी ताई जी 38 साल की हैं और अस्पताल में सीनियर नर्स हैं। ताई जी की 12 घंटे नाइट शिफ्ट और 12 घंटे दिन की ड्यूटी होती थी।

जब ताई जी की नाइट ड्यूटी होती थी तो ताऊ जी भी फैक्ट्री में ही सोते थे।
मैं ज्यादातर अकेला ही रहती थी। तब मैं घर में नंगी रहती थी। आईने में अपने नंगे शरीर को निहारना, नंगी होकर घर का काम करना और ब्लू फिल्में देखना।
फिर गर्म होकर मैं चुत में उंगली कर लेती थी।

जब भी मेरे ताऊ जी मेरी ताई जी को चोदते थे, तो मैं उनकी आवाज सुनकर ही मदहोश हो जाती थी।


मैं उन दोनों को तो देख नहीं पायी लेकिन कमरे से उनकी आवाजें निकलती रहीं।

ताई जी की पायल और चूड़ियों की आवाज और उन दोनों के चुम्बन और फच फच अहाँ की आवाज सुनकर मेरे एक एक बाल में कामवासना आ जाती थी।
उस समय मैं चाहती थी कि मेरी चूत की मालिश करने के लिए भी कोई लंड हो।

अब मैं आपको अपने बारे में बताती हूँ। मेरी उम्र 24 साल है और मेरी लंबाई 5 फुट 9 इंच है। मेरा वजन ७५ किलो है।
आप अंदाजा लगा सकते हैं कि मैं कितनी मोटी, मजबूत और लंबी सेक्सी लड़की हूं।

मेरी चौड़ी छाती, मोटी जाँघें और गोरा बदन मुझे जवानी में चमकाते हैं। मेरे स्तन का आकार 44 है। मुझे जंबो ब्रा पसंद है। मेरी कमर 36 की है और मेरे नितम्ब का आकार लगभग 48 है।

दोस्तों मेरे बूब्स बहुत बड़े हैं इसलिए वजन के नीचे दब जाते हैं.

मेरा एक भाई है जो गांव में रहता है। उसका नाम आशु है। सभी लोग प्यार से उन्हें नीलू बुलाते हैं। वह 20 साल का है।

नीलू पढ़ाई में ज्यादा होशियार नहीं है और 12वीं में दो बार फेल हो चुका है।

ताऊ जी ने एक रात खाने के समय कहा- मैं आशु को कल गाँव से अपने घर ले आऊँगा। वह यहां से बारहवीं की प्राइवेट परीक्षा देंगा।

ताई जी भी मान गईं।

मेरा मूड खराब था कि अगर वह घर पर रहेगा तो मैं नंगी कैसे हो ऊंगी ?
वैसे मेरा भाई बहुत ही सीधा साधा और भोला था। वह घर का सारा काम और खेती भी करता था।

ताऊ जी अगले दिन चले गए और दो दिन बाद आशु के साथ वापस आ गए।
आशु की हाइट 5 फीट 10 इंच है। वह बहुत लंबा है। मैं उसे देखकर खुश हुई।

मैंने उसके लिए खाना बनाया और फिर हम बातें करने लगे।

मैंने कहा कि आशु मेरे कमरे में ही सोएगा। वैसे भी फ्लैट में दो ही कमरे थे।

एक कमरा ताऊ जी-ताई जी का था और मैं दूसरे में सोती थी।

इसलिए आशु को भी मेरे कमरे में सोना पड़ा।
अब जब आशु आया तो मुझे पजामा और टी-शर्ट पहनकर सोना पड़ा।

हम भाई-बहन रात भर खूब बातें करते रहे और दोनों सो गए।
अब नीलू सारा दिन घर पर ही रहता था और मैं कॉलेज जाती थी और शाम को आ जाती थी।

एक दिन जब ताऊ जी और ताई जी घर पर नहीं थे तो बहुत तेज बारिश हो रही थी।

मन हुआ तो बारिश में नहाने का मन हुआ तो आशु से कहा- चलो बारिश में नहा लेते हैं।
तो उसने मना कर दिया; उसने कहा- बहन तुम नहा लो।

मैं बारिश में घर के आंगन में आ गयी और मजे से नहाने लगी।

मेरा नाइट सूट भीगते ही मेरे शरीर से चिपक गया। मेरे स्तन और गांड का उभार देखने लायक था।

तभी आशु वहां आ गया।
मैंने उससे कहा- आओ…बारिश में नहा लो।
मेरे कहने पर वह नहाने भी नहीं आया।

फिर मैंने एक बात नोटिस की कि आशु मुझे और मेरे बड़े बूब्स को देख रहा था.
मुझे यह भी अजीब लगा कि एक सगा भाई अपनी बड़ी बहन को दूसरी नजर से देख रहा है।

दोस्तों पुरुषों की आंखों को देखकर लड़कियां समझ जाती हैं कि उनकी आंखें कैसी हैं।

आशु अपनी आँखें चुरा रहा था और मेरे गीले निप्पलों और मेरे मोटे और बड़े चूतड़ों को देख रहा था।
मैंने भी सोचा चलो देखते हैं।

मैं भी देखना चाहती थी कि रिश्ता बड़ा है या हवस।
अभी मुझे रिश्तों पर हवस भारी लग रही थी।

अब मैं झुक कर भाई को ठीक से निप्पल दिखाने लगी।

अब वो भी बिना नज़र हटाये मेरी तरफ देखने लगा।
मैंने कहा- आशु आ जाओ। बारिश में नहा लें।
उसने कहा- बहन, सारे कपड़े भीग जाएंगे।
मैंने कहा- तो क्या हुआ? बाद में यह भी धुल जाएगा; तुम आओ!

अब वह भी बारिश में आ गया है।
हम दोनों नहाने लगे।

वह लगातार मेरे स्तनों को घूर रहा था। मैंने भी उसे टोका नहीं और अपने स्तनों को ठीक से दिखाने लगा।

कुछ देर बाद उसने कहा- दीदी, मैं नहाने जा रहा हूं। क्या आपके पास गीले कपड़े धोने हैं?
मैंने कहा- हां भाई धोना है। तुम एक काम करो… मेरी अलमारी से एक चुन्नी ले आओ। मैं उसे लपेट कर वर्षा में नहाऊँगी और तुम्हें वस्त्र दूँगा। तुम धोओ
उसने कहा- ठीक है दीदी, अभी लाता हूं।

मेरा भाई तुरंत एक चुन्नी ले आया।

मैंने कहा- चलो, पीछे मुंह करके खड़े हो जाओ। मैं अपने कपड़े उतारती हूं। ये आप ले लो

कहने पर बेचारा मुँह फेर कर खड़ा हो गया। मैंने नाइट सूट, ब्रा और पैंटी भी उतार दी और चुन्नी को अपने स्तन और गांड पर लपेट लिया।
कुछ ही समय में चुन्नी गीली हो गई और मेरे निप्पल साफ दिखाई देने लगे।

मैंने कहा- आशु, कपड़े ले जाओ।
जब वह कपड़े लेने के लिए मेरी ओर मुड़ा तो मेरे गीले स्तनों को देखता रह गया।

मैंने अपनी पैंटी और ब्रा उसके हाथ में दे दी।
उसने छोड़ दिया।

मन में शरारत आई कि मैं आशु भैया को अपने शरीर का दर्शन कराकर गर्माहट देती हूं।

थोड़ी देर बाद मैंने आँगन में स्टूल नीचे गिरा कर लेट गयी और जोर-जोर से चिल्लाने लगी -आह…ऊ…मर गयी ।

तभी आशु दौड़ता हुआ आया और बोला- क्या हुआ दीदी?
मैंने दर्द का नाटक करते हुए कहा- भैया, मैं फिसल गयी । शायद कमर में मोच आ गई हो।

चुन्नी मेरे शरीर के उपरी भाग से फिसलकर नीचे जा गिरी थी। मेरे आधे बड़े स्तन दिखाई दे रहे थे।
मैंने नाटक किया कि यह वास्तव में जितना आहत था उससे कहीं अधिक आहत था।

मैंने कहा- मेरी मदद करो। मुझे उठाओ और बाथरूम में ले चलो। मुझे नहाना है।
आशु मुझे जगाने की कोशिश करने लगा। मेरा वजन अधिक था।

फिर मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा और बाथरूम में जाकर बोली- भैया नहा लेने दो,

तुम बाहर खड़े रहो!
वह बाहर खड़ा था और मैंने दर्द का नाटक करते हुए नहाया और ऊह…आह…ई…आवाज़ सुनाई दी।

मैंने तौलिया लपेटा और फिर नीलू से मुझे कमरे में ले चलने को कहा।
उसने मुझे उठाया और कमरे में ले गया।

फिर मैंने उसे अलमारी से अपना गाउन और पैंटी निकालने के लिए कहा।

भैया मुझे लगातार देख रहे थे। मेरे शरीर को देखकर उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी।

मैं भी उसे धीरे-धीरे गर्म करना चाहता था। मुझे अपने शरीर को प्रदर्शित करने में भी मजा आ रहा था।

शायद आज पहली बार किसी आदमी ने मेरा नंगी बदन देखा था।
वह मेरा सगा भाई भी है! (बहन की चुदाई की कहानी)

लेकिन आदमी तो आदमी होता है। मैं देखना चाहती था कि वह खुद को कितना नियंत्रित करता है।

मैंने अपनी पैंटी और गाउन पहन लिया और उल्टी और कराहते हुए बिस्तर पर लेट गयी।

वो पास खड़े मुझे देखते रहे और बोले – दीदी, दर्द ज्यादा है तो डॉक्टर के पास चलते हैं?

मैंने उससे कहा- मैं बारिश में कैसे जाऊँगी ? तुम एक काम करो… ताई जी के कमरे में तेल रखा होगा; ले आ, लगा लुंगी तो आराम आ  जाएगा।

वह गया और तेल ले आया।

मैंने तेल लिया और लगाते-लगाते फिर चिल्लाने लगी।
मैंने कहा- बहुत दर्द हो रहा है, तेल नहीं लग रहा है।
उसने कहा- ले आ बहन, मैं लगा देता हूं।

फिर मैं अपने दोनों हाथ सीधे करके पेट के बल लेट गयी ।


आशु ने धीरे से मेरा गाउन ऊपर उठाया और उसे मेरी गर्दन तक कर दिया जिससे मेरा चेहरा भी ढक गया।

तेल निकाल कर मेरी कमर पर लगाने लगा।


मैं फिर से दर्द का नाटक करने लगी और बोला- बहुत दर्द होता है; आराम से!

जब गाउन ऊपर तक गया तो मेरे बूब्स साइड से बाहर आ गए जो साफ नजर आ रहे थे.

आशु मेरे बूब्स को देख रहा था.

कुछ देर मसाज करने के बाद मैंने कहा- आशु कमर के नीचे भी तेल लगा दो!


उसने कहा-कहां दीदी?
मैंने कहा- गधों… चूतड़ों पर।
मैं अपने चूतड़ पर लेटा हुई थी ।

मेरे कहने पर वो पैंटी के ऊपर से मेरी गांड दबाने लगा.

मैंने कहा- भैया पैंटी उतार दो।
जैसे ही वह यह सुनने के लिए बेताब था, उसने तुरंत मेरी पैंटी को मेरे पैरों से उतार कर बाहर फेंक दिया।

अब मैं अपने भाई के सामने पीछे से पूरी तरह नंगी थी।
वह तेल लगाने लगा। उसका लंड खड़ा था.

भैया मेरी टाइट गांड पर तेल लगाकर मसाज करने लगे.
मुझे मज़ा आने लगा; मैं कामवासना में तड़पने लगा।

मैंने अपने पैर एक साथ रखे। आशु मेरे दोनों पैर खोलने की कोशिश कर रहा था.

मेरी चूत पर घने काले बाल थे और मेरी गांड की गली में भी बाल थे।
आशु मेरी चूत को देखने के लिए बेताब हो रहा था.
लेकिन मैं खेल को और आगे ले जाना चाहता था।

हवस में मेरी चूत से पानी निकल रहा था और मैं तड़प रही थी.
मुझे आशु का लंड अपनी चूत में डालने का मन हुआ.

जब मैं ऐसा नहीं कर सका तो मैंने अपने पैर खोल दिए।
मेरी चूत आशु के सामने थी.

भाई मेरी गांड और चूत दोनों देख रहे थे.
मैंने कहा- आशु क्या देख रहा है?
उसने कहा- कुछ नहीं दीदी!

मैं- फिर मसाज करते-करते रुक क्यों गए?
उसने कहा- नहीं दीदी, मैं कर रहा हूं।

मैंने कहा- भैया… ये तो चूत है, ये तो पता होगा?
आशु- दीदी, यह तो आपकी सु-सु है!
मैंने कहा- उफ्फ गधा… अब तो चूत हो गई.

उसने कहा- ठीक है दीदी।

मैंने कहा- तुमने पहले कभी किसी की चूत नहीं देखी?
आशु- नहीं दीदी, मैं आपको पहली बार देख रहा हूं।
मैं- हम्म… मेरा भाई बहुत सज्जन और मासूम है। आइए एक नजर डालते हैं!

उन्होंने कहा- दीदी, आपके यहां बाल बहुत हैं।
मैं- हां भाई मुझे शेव करने का टाइम नहीं मिलता। क्या आपके भी लंड पर बाल हैं?

उसने कहा- मेरे सू-सु पर?
मैंने कहा- हां, अभी तुम 20 साल के हो, अब तो तुम मर्द बन गए होगे।

उसने कहा-पता नहीं दीदी!

मैंने कहा क्यों? तुम हस्तमैथुन नहीं करते क्या ?
उसने कहा- नहीं दीदी, यह क्या है?
मैंने कहा- चल झूठे, तू तो सब जानता है!

उसने कहा – नहीं दीदी, मुझे आपकी कसम है, मैं कुछ नहीं जानता, न ही मैं कुछ करता हूं।

इतना तो मुझे पता था कि आशु झूठ नहीं बोलता और सच बोल रहा है।

मैंने कहा- अच्छा आशु, तुम सच में बहुत भोले हो। क्या आप सीखना चाहते हैं
उसने कहा- हां दीदी, लेकिन उसका क्या होगा?
मैंने कहा- आपको बहुत मजा आएगा।

मैंने कहा- अच्छा सुनो… मैं सीधा हो रही हूं। सामने से भी मसाज करें।

उसने कहा- ठीक है।

मैं सीधा हो गयी। अब मेरे बड़े-बड़े बूब्स भाई के सामने थे.

उसने कहा – दीदी, तुम्हारे ये दोनों (स्तन) बहुत बड़े हैं।
मैंने कहा- हम्म…अच्छा जाओ इनकी मसाज करो!
आशु- हां दीदी।

मेरे बूब्स की मसाज होती रही और मैं सातवें आसमान की सैर करने लगी.
मेरी चूत में पानी आ गया।

मैंने कहा- आशु भाई, मेरी जांघों के बीच में मसाज कर दो।
आशु- हां दीदी।

उसके तेल से सने हाथ मेरी चूत की मालिश करने लगा

मैं मछली की तरह तड़प रही थी। मेरा मन चुदाई की तड़प हो रही थी

मैंने कहा- ऐसा मत करो! सुनो…तुम अपनी एक उंगली मेरी चूत में डालो, मुझे अंदर ही अंदर खुजली हो रही है.

भाई के मन में भी अपनी दीदी को चोदने का पूरा मन होगा

उसने कहा-कहां दीदी?
मैंने कहा- भैया नीचे देखो, उसमें छेद होगा।
उसने फिर कहा-कहां?
मैं- अरे यार… रुको!

अब मैंने उसकी उंगली पकड़ कर अपनी चूत के छेद में डाल दी. अब उसने अपनी उंगली अंदर डाल दी।

मैंने कहा- भाई, उंगली अंदर बाहर कर दो।

आह… अब उसकी उंगली मेरी गीली चूत में अंदर-बाहर हो रही थी।
मैं आसमान में उड़ने लगा।
मेरा पानी निकल गया और मेरा पानी आशु के हाथ पर आ गया।

मैं चुदने के पूरे मूड में थी।
लेकिन समझ नहीं आ रहा था कि उसे चोदने के लिए कैसे कहूँ।

फिर मैंने कहा- आशु, चल, अपना रूप दिखा!

उसने कहा- नहीं दीदी, मुझे शर्म आती है।
मैंने कहा- मैं तुम्हारी बड़ी बहन हूं, तुम्हें मुझ पर शर्म क्यों आ रही है… दिखाओ। मैं भी आपके सामने पूरी तरह नंगी हूं।

वह अपना पायजामा खोलने लगा।
मेरी उत्सुकता बढ़ने लगी।
मुझे पहली बार किसी मर्द का लंड देखने का मौका मिल रहा था.

उसने नीचे अंडरवियर पहन रखी थी।
जब मैंने उसे भी उतारने को कहा तो उसने अपनी अंडरवियर भी उतार दी।

हे भगवान…।!! जैसा कि मैंने सोचा था कि लंड छोटा होगा लेकिन हुआ ठीक इसके उलट।

भाई का लंड 6 से 7 इंच का था और गोरा था… बिल्कुल लाल सुपारा… घने लंबे काले बाल, गोल सफेद बाल.
लंड देख कर दिमाग सुन्न हो गया.

मैंने कहा- आशु, तुम बहुत बड़े हो गए हो भाई। आज तक आपने अपने लिंग से पानी तक नहीं निकाला?
उसने कहा- नहीं दीदी!
मैंने कहा- मेरे पास आओ। मैं सिखाती हूं कि मुठ कैसे मरते है।

अब मैंने भाई का लंड मुट्ठी में ले लिया. लंड से प्री-कम निकल रहा था.
मैं समझ गयी कि आशु गर्म हो रहा है।

मेरे पुरुष पाठक समझ सकते हैं कि प्री-कम तब आता है जब वे गर्म होते हैं।

मैं भाई के लंड को आगे-पीछे करने लगा.
दो मिनट हुए थे। भाई के लंड की पिचकारी छूट गई।
उसका गाढ़ा गाढ़ा सफेद वीर्य मेरे मुंह और निप्पलों पर गिर गया।

नंगी बहन की चुदाई की कहानी आगे की कहानी अगले पार्ट में, कैसे मैने अपने छोटे भाई का ६ इंच लम्बे लंड से अपनी गरम चुत की पियास को बुझाया और अपनी चुत का गुलाम बना दिया। 

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds