सेक्स के लिए बेताब कॉलेज की लड़की – ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी

सेक्स के लिए बेताब कॉलेज की लड़की – ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सेक्स के लिए बेताब कॉलेज की लड़की – ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी मैंने पहली बार अपनी कॉलेज गर्ल के साथ सेक्स किया था। उसने अपनी तरफ से पहल की और मुझसे दोस्ती कर मुझे प्रपोज कर दिया.

नमस्कार दोस्तों, प्रिय भाभियों और युवतियों,
मैं एक कूल लड़का हूँ.

तो पेश है मेरी पहली ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी!

दोस्तो, मेरा नाम प्रशांत है. मैं ग्वालियर का रहने वाला हूँ.
आज मैं आपको अपने कॉलेज जीवन में घटी एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ।

मेरे कॉलेज में एक लड़की थी Shikha!
वो एक बहुत ही खूबसूरत, मस्त दिखने वाली गोरी लड़की थी, जिसे देखकर सभी लड़को का लंड खड़ा हो जाता था और सभी लड़कियाँ उसे देखकर जलती थी।

शिखा B.A प्रथम वर्ष की छात्रा थी और मैं द्वितीय वर्ष का छात्र था।

जैसे ही मैंने उसे देखा, न जाने क्यों मेरे मन में कुछ हुआ, उससे बात करने का मन हुआ।

क्षमा करें, मैंने अपना परिचय नहीं दिया।
मैं फुटबॉल का राष्ट्रीय खिलाड़ी हूं, रंग गेहुंआ और ऊंचाई 6 फीट है।

अब, एक फुटबॉल खिलाड़ी होने के कारण, मुझे कॉलेज में भी बहुत पहचाना जाने लगा।
चूंकि मेरे प्रिंसिपल सर और कॉलेज के हर विभाग के प्रमुखों के साथ अच्छे संबंध थे, इसलिए जब कॉलेज का वार्षिक उत्सव था, तो शिखा को मुझसे कुछ काम पड़ा। (ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी)

उन्हें गाने का शौक था और वह फेस्टिवल में गाना चाहती थीं।
इसके लिए उन्होंने सर से बात करने के लिए पहली बार मुझसे बात की.

आइए मैं आपको शिखा के बारे में बताता हूं।
वह 5 फीट 6 इंच लंबी गोरी लड़की थी और उसका फिगर 34-28-36 था।
इस वजह से सभी लड़के उससे बात करने के लिए मरे रहते थे।

लेकिन जब उन्होंने मुझसे पहली बार बात की तो मुझे लगा कि मैं सपना देख रहा हूं.
फिर जब मैंने उसके कहे मुताबिक काम कर लिया तो वो मुझसे बात करने लगी.

हम कॉलेज में रोज मिलने लगे.

एक दिन उसने मेरा मोबाइल नंबर मांगा.
मैंने उसे नंबर दे दिया.

2 दिन तक उसका कोई कॉल या मैसेज नहीं आया.
मैंने सोचा कि कोई काम होगा तो ही उसका फोन आएगा.

पर मैं गलत था।
एक दिन उसका फोन आया.

वह कॉलेज जाने के मूड में नहीं थी.
उसने फ़ोन करके कहा- आज कॉलेज बंक करो और कहीं चलते हैं।

मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि ये सच में हो रहा है.

उसके बाद हम अपनी बाइक से चम्बल घूमने गए क्योंकि बारिश का मौसम था और उस मौसम में चम्बल का अपना ही महत्व होता है।

जब हम निकले तो हम सामान्य रूप से बात कर रहे थे।

आगे बढ़कर उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी तो 5-6 गर्लफ्रेंड्स होंगी?
मैं उसके सवाल से थोड़ा डर गया कि ये कैसा सवाल है.

तो वो फिर बोली- बताओ, बताओ?
तब मैंने कहा- नहीं, मैं अकेला रहता हूँ, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।

उसने पूछा- ऐसा क्यों? आप होशियार हैं, राष्ट्रीय खिलाड़ी हैं, कॉलेज के हीरो हैं, खेलों में रुचि रखते हैं, तो आप अकेले क्यों हैं?

मैंने उससे कहा- मेरे पास बहुत कम समय है. मैं अपना ज्यादातर समय अपने खेल और घर पर बिताता हूं। और इसीलिए किसी को अपनी गर्लफ्रेंड नहीं बनाया.

फिर मैंने उससे कहा- अच्छा, एक और कारण है कि मैंने कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनाई.
वो बोली- क्या कारण है?

मैंने कहा- आज तक मुझे तुम जैसी लड़की नहीं मिली. जिनसे दोस्ती की जा सकती है. वैसे आप बहुत अच्छा गाती हो.

धन्यवाद देने के बाद उसने कहा- मैं तुमसे चिढ़ती थी और सोचती थी कि तुम गेम खेलते हो तो इतना एटीट्यूड रखते हो।

लेकिन वो जिससे भी आपके बारे में बात करती है वो आपकी तारीफ ही करता. तो मुझे और गुस्सा आने लगा. इसलिए मैंने सबके सामने आपकी बुराई करना शुरू कर दिया.

उन्होंने आगे कहा- एक दिन मेरी दोस्त ने मुझसे कहा कि तुम किसी से ज्यादा बात नहीं करते और सबकी मदद करते रहते हो, किसी भी बात पर घमंड नहीं करते.

तभी से मैंने तुम्हारी परीक्षा लेने के बारे में सोचा. इसीलिए समारोह के दिन मैं गीत के लिए अपना नाम लिखवाने के बहाने आपके पास आयी थी।

मेरा नाम पहले से ही सूची में था. लेकिन उस दिन मिलने के बाद मैं खुद को गलत समझने लगी और तुमसे दोस्ती करने के बारे में सोचने लगी. और आज मेरा कॉलेज जाने का मन नहीं था तो मैंने ये प्लान बनाया.

हम चम्बल पहुंच गये थे.
जब हम लवर प्वाइंट पहुंचे तो वहां हम दोनों के अलावा कोई नहीं था.

हम दोनों ने थोड़ी देर बात की, जिसके बाद उसने मुझे प्रपोज कर दिया.

मुझे आश्चर्य हुआ कि क्या हुआ। इसने वही किया जो मैंने सोचा था।

उसके बाद मैंने उसे गले लगाया और जवाब दिया.
वो और मैं बहुत खुश हो गये.

करीब 15 मिनट बाद हम अलग हुए और एक सुनसान जगह पर चले गये जहाँ जल्दी किसी के आने की सम्भावना नहीं थी।

वहां दोबारा गले लगने के बाद हम थोड़ा प्यार करने लगे और गालों पर किस करने लगे.

और फिर अचानक मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और एक छोटा सा चुम्बन दे दिया.
मुझे लगा कि मैंने यह बहुत जल्दी कर दिया।

लेकिन मेरी सोच ग़लत थी.
उसने कहा- बस इतना?

फिर हम किस करने लगे.
करीब 10 मिनट तक किस करते-करते मेरे हाथ अपने आप उसके Big Boobs पर जाने लगे.

पहली बार उसने मेरा हाथ पकड़ा और हटने लगी.
लेकिन किस करते करते वो मदहोश होने लगी.

और फिर उसने मुझे आगे बढ़ने से नहीं रोका.
मैंने उसके स्तन दबाये और उसे चूमना शुरू कर दिया।

जैसे ही मैंने उसके टॉप के अन्दर हाथ डाल कर उसके नंगे पेट को छुआ तो वो मुझसे दूर हो गयी और मुझे घर जाने के लिए कहने लगी।

जब हम बाइक से घर वापस आ रहे थे तो वह मेरे करीब आकर बैठ गई और मुझे पीछे से गले लगाकर प्यार करने लगी।

फिर हमने जंगल में गाड़ी रोकी और किस करने लगे.

फिर जब मैंने टॉप में हाथ डाला तो शिखा ने अपनी आंखें बंद कर लीं और बिना कुछ कहे मुझे आगे बढ़ने दिया.

उसके बाद मैंने उससे मेरे घर आने को कहा.
तो कुछ देर सोचने के बाद वो मान गयी.

घर जाकर हम दोनों मेरे बेडरूम में बैठ गये और किस करने लगे.
इस बार शिखा ने खुद ही मेरा हाथ अपने मम्मों पर रख दिया और धीरे-धीरे हम दोनों पागल होने लगे.

अब मैंने उसके टॉप के अंदर हाथ डाला तो उसने मुझे नहीं रोका और कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप पूरा उतार दिया.

महरून रंग की ब्रा में वो बहुत खूबसूरत लग रही थी.
मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध पीने लगा.
उसे भी मजा आने लगा.

हम सिर्फ फोरप्ले का आनंद लेने के लिए घर आए।
लेकिन अब ऐसा लग रहा था कि इतना कुछ करने के बाद भी मैं खुद पर काबू नहीं रख पाऊंगा.

तो धीरे-धीरे हम दोनों ने अपने सारे कपड़े उतार दिए, वो सिर्फ पैंटी में था और मैं अंडरवियर में।

मैं उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा.
और वो मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से पकड़ कर मसल रही थी.

फिर मैंने उससे चूत चाटने को कहा.
तो उन्होंने कुछ नहीं कहा.
मैं समझ गया कि वो शरमा रही है.

मैंने उसकी पैंटी उतारने के लिए हाथ बढ़ाया.
उसने बिना कुछ कहे अपनी कमर उठा कर मेरा साथ दिया.

उसके बाद जब मैंने उसकी टाँगें फैलाईं और पहली बार उसकी Tight Chut देखी तो मैं एकदम पागल हो गया।
उसका एकदम गोरा रंग और लाल चूत देख कर मैं उस पर टूट पड़ा.

कुछ देर तक चूत चाटने के बाद हम 69 पोजीशन में आ गये.

और अब उसने भी मेरा मोटा और लम्बा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

उसके बाद मैंने उसे सीधा लेटा दिया और उसकी चूत में अपना लंड रगड़ने लगा जिससे वो और पागल होने लगी और मुझसे लंड अंदर डालने के लिए कहने लगी.

मुझे भी लगा कि अब उसे ज्यादा प्रताड़ित करना ठीक नहीं है.

मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और उसकी कुंवारी चूत में रख दिया.
मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने अपनी आंखें बंद कर ली थीं.

मैंने धीरे से लंड को चूत के अंदर दबाया.
चूत बहुत टाइट थी.
उसे दर्द होने लगा.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और अपना आधा लंड अन्दर डाल दिया।
वो रोने लगी, मुझे अपने से दूर करने लगी.

लेकिन मैं हटा नहीं और धीरे धीरे Chut Chudai करता रहा.
5 मिनट बाद मैंने एक और जोरदार धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया था.

मेरी ब्यूटीफुल गर्ल XXX सेक्स के कारण बेहोश हो गई थी.

लेकिन कुछ देर बाद उसे मजा आने लगा और वो मुझे तेज करने के लिए कहने लगी.

काफी देर तक चली इस लड़ाई में वो दो बार स्खलित हुई और मैंने भी अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया.

वह काफी खुश नजर आ रही थीं.
उसने यह भी कहा- मैं बहुत दिनों से तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती थी, आज वो पूरी हो गयी.

आज भी जब भी मौका मिलता है हम मिलते हैं और एक-दूसरे के साथ सेक्स कर लेते हैं।

तो दोस्तो, आपको मेरी सच्ची ब्यूटीफुल गर्ल Xxx स्टोरी कैसी लगी?
आप मुझे मेल करके बता सकते हैं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds