भाभी की कुंवारी बहन की चुदाई – Hindi Sex Story

भाभी की कुंवारी बहन की चुदाई – Hindi Sex Story

हॉट लड़की की चूत की कहानी मेरी भाभी की कुंवारी बहन की चुदाई की है। वह हमारे घर रहने आई थी। मैंने उससे दोस्ती की, उसे लुभाया और एक दिन मौका मिला और उसकी चुदाई की।

दोस्तों मैं रोहित हूं, मेरी उम्र 21 साल है और मैं लखनऊ में रहता हूं।

मेरा रंग गोरा है, मेरे लिंग का साइज 7 इंच है.

यह कहानी मेरे बड़े भाई की भाभी की चुदाई की कहानी है जब मैंने अपनी भाभी की बहन सुहानी की चुदाई की थी।

सुहानी 20 साल की है, उसकी गांड और दूध भरा हुआ है। उनका गोरा रंग, उनकी टाइट बॉडी किसी की भी गांड खड़े कर सकती है।

अब मैं सीधे हॉट लड़की की चूत की कहानी पर आता हूँ।

मेरे घर में 5 लोग हैं बड़े भाई, भाभी, मां, पापा और दादी।

यह सर्दी के बारे में है। मेरी भाभी गर्भवती हो गई थी। जब भाभी आठवें महीने में थीं, तब उनकी बहन यानी मेरे भाई की भाभी सुहानी उनकी मदद करने और उनकी देखभाल करने के लिए आई थीं।

मैं बीकॉम में पढ़ता था।
जब मैं कॉलेज से आया तो देखा कि सुहानी शॉर्ट्स और टी-शर्ट में खड़ी थी।
पहली ही नजर में वो मेरे दिल में उतर गई, मैंने उसे चोदने का सोचा।

तब से मैं बस इसी लड़ाई में लगा हुआ हूं।

धीरे धीरे हम दोनों की बातें होने लगी और कुछ ही दिनों में हम एक दूसरे के दोस्त बन गए।

फिर एक दिन जब मैं नोट्स बना रहा था तो वो मेरे कमरे में आई।
वह मेरे साथ बैठी और मेरे नोट्स देखने लगी।

तभी मेरा पेन नीचे गिर गया जो सुहानी की कुर्सी के पास चला गया।
मैंने उसे इसे लेने के लिए कहा।

जब उसने पेन उठाना शुरू किया, तो मैं उसकी टी-शर्ट के गले से उसके निप्पल देख सकता था।
मैं देखता ही रह गया।

शायद उसने भी मुझे घूरते देखा था।
वह मुस्कुराई और दूसरे कमरे में जाने लगी।

फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर उससे कहा- मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं। मै तुमको कैसा लगता हु
तो उन्होंने भी कहा- हां… मैं भी तुम्हें बहुत पसंद करता हूं, मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूं।

उसके बाद मैंने उसे किस किया। इसमें उन्होंने मेरा थोड़ा साथ दिया। वो कुछ शरमा रही थी।

अब जब भी मौका मिलता मैं उसे किस करता, उसके निप्पलों को सहलाता।

मैं अब उसे चोदने का मौका ढूंढ रहा था।
और मुझे वह अवसर बहुत जल्दी मिल गया।

मेरी मां के पिता यानी मेरे नाना का देहांत हो गया।
माता-पिता को अपने घर जाना था।

फिर मेरी भाभी को दर्द हुआ और उन्हें डिलीवरी के लिए अस्पताल ले जाना पड़ा।

भाई भाभी को साथ लेकर अस्पताल पहुंचा।
अब घर में सिर्फ मैं, सुहानी और दादी ही थीं।
दादी ज्यादातर बीमार रहती थीं, इसलिए वे अपने कमरे में ही रहती थीं।

मैंने सोचा अब सुहानी की चूत चोदने का अच्छा मौका है. तो मैं अपनी बाइक पर गया और कंडोम और दर्द की गोलियाँ, जन्म नियंत्रण की गोलियाँ लाया।

घर आते ही मैंने दरवाजा बंद कर दिया।

फिर मैं सुहानी को अपने कमरे में ले गया, दरवाजा बंद किया और सुहानी के होठों पर गिर पड़ा।
सुहानी ने भी मेरा खुलकर साथ दिया।

करीब 5 मिनट तक किस करने और चाटने के बाद मैं उसकी गर्दन पर किस करने लगा और बाहर से उसके ब्रेस्ट दबाने लगा.
फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी।

लाल ब्रा में उनके कैदी पक्षियों की तरह आज़ाद होना चाहते थे।

मैंने ब्रा के ऊपर से उसके निप्पलों से खेलना शुरू कर दिया।
वो भी आहें भरने लगी, उसके मुँह से आह… आह… की सिसकियाँ मुझे और उत्तेजित कर रही थीं।

मैंने उसकी ब्रा खोली और दोनों बूब्स को अपने हाथों से मसलने लगा.

और फिर मैंने उसका शॉर्ट्स उतार दिया और उसकी पैंटी उतार कर फेंक दी।

अब उसकी कुंवारी चूत मेरे सामने एकदम गोरी और चिकनी थी… जिस पर झंट के छोटे-छोटे बाल थे.
मैंने पूछा- यार ये बाल साफ नहीं करते?

तो शर्माते हुए बोली- आज तक ध्यान नहीं दिया।

लेकिन उसके कोट के बाल छोटे और रेशमी थे।

मैं उसकी कुंवारी चुत को चाटने लगा।
सिसक कर बोली- और जोर से मेरे राजा… इसमें आग बहुत है… खा लो!

फिर लगा उसका पूरा बदन अकड़ने और अपने हाथों से मेरा मुँह उसका चॉइस पर चुनने लगा और उसका चैट से पानी निकलने लगा।

अब मैंने अपनी पैंट उतारी और फिर उसे अपनी चड्डी दिखाकर कहा।

जैसे उसने मेरी चड्डी उड़ा दी… मेरा 7 इंच का रेडियो सेल्यूट करने लगा।
मेरे रेड को देखकर वो हैरान रह गई, बोली- यार… इतना लंबा लंदन मेरी चार्ट में कैसे घुसेगा?
मेरे समझाने पर वह मान गया।

उसके बाद मैंने कंडोम निकाल कर पूछा- आप इनमें से कौन सा इस्तेमाल करना चाहेंगे?
उसने गोली मारी। शायद उसे पता था कि कंडोम में इतना मज़ा नहीं आता।

मैंने उससे मार दी गोली और अब मैं सुहानी का लचीला इस्तेमाल करने के लिए तैयार था।

अब मैंने उसे अपने पैर फैलाने को कहा।
उसने वही किया,

मैंने अपना सख्त रास्ता उस चैट पर रख कर दबा दिया।
लेकिन मेरा सड़क पर फिसल गया।

फिर मैंने लंदन में और उसके चबूतरे पर तेल लगाया और धीरे-धीरे अंदर जाने लगा।

अभी मेरा टोपा अंदर ही था कि मना करने लगी और चिल्लाने लगी।

मैं थोड़ा रुका और एक संकेत में पूरा रोड मारा। मुझे लगा कि बहुत देर तक थोड़ा-सा दर्द देने के बजाय एक पल के लिए पूरा दर्द देना बेहतर होगा।

उसकी आंखों से आंसू बहने लगे और उसका चप्पू से खून बहने लगा।
वो मुझसे अपना रोड बाहर निकालने की मिन्नत करने लगी।

लेकिन मैंने कुछ देर से लंदन को ऐसे ही रखा और उसका दूध चूस लिया।
जब उसे थोड़ा सा आराम मिला तो उसने खुद ही अपना गैंड उठाना शुरू कर दिया।

मैं समझ गया और धीरे-धीरे धीरे-धीरे लंदन को बाहर निकालने लगा।
उसके बाद वो सिसकने लगे और सिसकने लगे जिससे मैं भी उत्तेजित हो गया और तेजी से सड़क को छूने लगा।

वो बुदबुदाने लगी- सवार में जाओ यार… मेरी चट्ठा दो… जोर से चोदो!
मैं जोर से झटका खा रहा हूं।

5-7 मिनट तक झटका-मुक्की करने के बाद वह और मैं एक साथ गिर गया।

हम 20 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे। इसके बाद हम दोनों बाथरूम में गए और एक दूसरे को सफाई दी।

तत्पश्चात मेरे निकट पहुंचने पर ट्रिमर पर पूछताछ की।
मैंने कहा- अब सुहानी, तुम चट्टे को लुब्रिकेट करते हो।
उन्होंने फिर शर्माने की शुरुआत की।

लेकिन मैंने उसके सारे बाल साफ कर दिए।
उसका चिट्ठा देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।

मैं उसे पूर्वाश्रम से उठाकर देखने पर ले गया और उसकी बिटिया बना कर उसकी खूब चुदाई की।
और इस बार उसने अपने नंगे बूब्स पर सड़क का पानी डाला और मत करने के बाद अपने बूब्स को रांगने लगी।

उसके बाद उन्होंने मुझे गले लगाया और कहा- मैं आंख से बहुत प्यार करता हूं।
मैं भी उससे प्यार करता था।

मैंने पूरी रात का आनंद लिया।

मैंने उसे अपने गढ़ को मरवाने के लिए भी कहा लेकिन उसने मना कर दिया।
मैंने ज्यादा जोर नहीं लगाया।

डियर पटको, आपको मेरी हॉट गर्ल पुसी स्टोरी पसंद आई या नहीं?
मेरे आने में और मेरे मेल पर लिखें।
[email protected]

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds