स्कूटी सिखाने के बहाने चचेरी बहन की सीलपैक चूत मारी

स्कूटी सिखाने के बहाने चचेरी बहन की सीलपैक चूत मारी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “स्कूटी सिखाने के बहाने चचेरी बहन की सीलपैक चूत मारी”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैंने अपनी चचेरी बहन के साथ भाई-बहन का सेक्सी गेम खेला. वो बहुत हॉट माल थी. जब उसने मुझे स्कूटी सिखाने के लिए कहा, तो मैं उसे एक सुनसान सड़क पर ले गया।

दोस्तो, मेरा नाम हिमांशु है. ये भाई-बहन का सेक्सी गेम मेरे और मेरे चाचा की लड़की जिसका नाम चंचल है.

मैं मुरादाबाद में रहता हूं और अपने माता-पिता की इकलौती संतान हूं। मेरी उम्र 21 साल है और मैं दिखने में अच्छा हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है. मेरा लंड 6 इंच लंबा और 4 इंच मोटा है.

मेरे छोटे चाचा की एक लड़की और एक लड़का है. चंचल दिखने में बहुत अच्छी है और मुझसे एक साल छोटी है. उनका रंग गोरा और कद 5 फीट 3 इंच है. उसके स्तन 32 इंच के हैं और उसकी गांड 34 इंच की है.

मैं बचपन से ही कमीना था और मेरी नज़र हमेशा अपनी छोटी बहन पर रहती थी, लेकिन मुझे कभी कुछ करने का मौका नहीं मिला।
वैसे तो मैंने चंचल को फंसाने और उसे चोदने की कई बार कोशिश की थी, लेकिन वो भी एक नंबर की शातिर लड़की थी.
उसकी नजरे भी तेज़ थीं, पर शायद वो थोड़ा शरमा रही थी क्योंकि मैं उसका भाई था।

फिर हुआ कुछ यूं कि लॉकडाउन से ठीक पहले चंचल मेरे पास स्कूटी सीखने आई तो मैंने हां कह दिया.
मैंने उससे पूछा- तुम साइकिल चलाती हो ना? (बहन की सीलपैक चूत मारी)

उसने कहा- हां, मैं साइकिल चला सकती हूं. लेकिन अब साइकिल का जमाना कम रह गया है।
मैंने उसकी तरफ देखते हुए कहा- हां, अब स्पीड आइटम चलाने का वक्त आ गया है.

वो बोली- मतलब!
मैंने कहा- कुछ नहीं, मेरा मतलब है कि अब साइकिल कौन चलाता है? यह सभी के लिए तेजी से आगे बढ़ने का समय है।’

वो मुँह बनाते हुए बोली- मुझे नहीं पता कि तुम क्या कह रहे हो.. मैं तो बस स्कूटी चलाना सीखना चाहती हूँ। तुम मुझे सिखाओ।
मैंने कहा- हाँ, मैं सिखा दूँगा।

उसने हंस कर बाय कहा और Moti Gand मटकाते हुए जाने लगी.
उसकी सेक्सी गांड और उठे हुए मम्मे मेरे लंड को परेशान करने लगे.
अब मैं उसे चोदने की योजना बनाने लगा.

अगले दिन वह और मैं एक सुनसान रास्ते पर पहुँचे। मैंने उसे आगे बैठाया और खुद उसके पीछे सट कर बैठ गया.

मेरा लिंग धीरे धीरे सख्त होने लगा. शायद उसे भी अपनी गांड पर लंड का एहसास हुआ, लेकिन वो कुछ नहीं बोली.

मैं अपने दोनों हाथ उसके हाथ पर रख कर उसे पकड़ रहा था, इसलिए मेरा शरीर उसके शरीर से बिल्कुल चिपक गया था।

पहला दिन ऐसे ही बीता. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

अगले दिन मैं फिर से चंचल के पास बैठ गया और फिर से अपना लंड उसकी गांड पर रख दिया.

आज भी वो कुछ नहीं बोली और मेरे लंड को अपनी गांड पर महसूस करती रही.

मैंने स्कूटर के हैंडल से हाथ हटा लिया.
वो थोड़ा लड़खड़ाई तो मैंने अपने दोनों हाथ उसके पेट पर रख दिए और धीरे-धीरे सहलाने लगा।

वो भी मजे लेने लगी और मुझसे कुछ नहीं बोली.

अब मैं धीरे-धीरे अपने दोनों हाथ ऊपर की ओर ले गया और उसके स्तनों पर ले गया। मैं धीरे धीरे उनको दबाने लगा.

वो फिर भी कुछ नहीं बोली, इससे मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैं और ज़ोर-ज़ोर से उसके मम्मे दबाने लगा।

वो मुझसे धीमी आवाज में बोली- भाई आप क्या कर रहे हो … ये सब गलत है. हम दोनों भाई-बहन हैं.
मैंने कहा- भाई-बहन का रिश्ता तो हमेशा रहेगा. लेकिन नीचे वाले को ये रिश्ता नहीं पता.

वो बोली- नीचे वाला कौन है?
मैंने कहा- अब इतना बेवकूफ मत बनो. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

वो हंस कर बोली- मन तो करता है, लेकिन तुम मेरे भाई हो तो हिम्मत नहीं होती.
मैंने कहा- तुम बस एन्जॉय करो … मुझमें बहुत हिम्मत है.

ये कहते हुए मैंने उसके निप्पल को काट लिया.
वो आहें भरने और कराहने लगी. वो बोली- अब मत करो, मैं गिर जाऊंगी.

मैंने कुछ नहीं कहा और बस धीरे-धीरे चुपचाप उसके Big Boobs दबाता रहा।
वो भी मजा लेती रही.

फिर उसने स्कूटर सड़क के किनारे रोक दिया.

मैंने भी उससे स्कूटर ले लिया और सड़क के एक किनारे एक पेड़ के पीछे खड़ा कर दिया।

वो बोली- क्या इरादा है?
मैंने उसे अपनी बांहों में खींच लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.
वो फुसफुसाती रही लेकिन उसने मुझे मना नहीं किया. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

फिर कुछ मिनट बाद वो बोली- अब घर चलते हैं भाई. यहां सब कुछ खुला है.

नोट: अगर आप सिंगल हैं और अपनी हवस पूरी करना चाहते हैं, तो चिंता न करें, South Ex Escorts आपका इंतजार कर रही हैं।

मैंने उससे कहा ठीक है और मैं स्कूटर चलाने लगा.
वह पीछे बैठ गयी.
फिर हम दोनों वापस आ गये.

रात को उसने मुझे मैसेज किया- भाई, आज आप क्या कर रहे थे?
तो मैंने कहा- तुम मुझे अच्छी लगती हो, इसलिए ये सब कर रहा था.

वह कुछ नहीं बोली। (बहन की सीलपैक चूत मारी)

मैंने उससे पूछा- तुम्हें मजा नहीं आया?
वो बोली- मुझे तुमसे डर लग रहा है. कहीं पकड़े गये तो बहुत बुरा होगा.

मैंने कहा- कौन बताएगा?
वह कुछ नहीं बोली।

मैंने उससे कहा- बस मेरा साथ दो और किसी को मत बताना.
वो बोली- ठीक है भाई… लेकिन तुम्हें मुझे फिर से स्कूटी सिखानी पड़ेगी.
मैंने हां कहा और मन ही मन खुश हुआ. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

अब मैं Chut Chudai की योजना बनाने लगा. अब तक मैं समझ चुका था कि वो भी मुझसे चुदाई करवाना चाहती है और मेरा लंड अपनी गांड और चूत में लेना चाहती है.

अगले दिन जब मैं उसे स्कूटी सीखने ले गया तो अपने साथ कंडोम के कुछ पैकेट भी ले गया।
आज फिर मैं उसके पीछे बैठ गया और उसकी गर्दन को चूमने लगा.

आज वो भी मस्ती के मूड में थी. वो हंस कर बोली- बहुत गुदगुदी होती है भाई.
मैंने पूछा- तुम्हें भी मज़ा आ रहा है?
वह हंसी।

फिर कुछ देर बाद मैंने उसके मम्मे दबाना शुरू कर दिया.
उसने मुझसे कुछ नहीं कहा, बस चुपचाप मजे लेती रही. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

फिर कुछ देर बाद उसने मना कर दिया तो मैं मान गया और उसने मुझसे स्कूटर घर की तरफ मोड़ने को कहा.

मैंने पूछा- क्या हुआ?
वो बोली- अभी मेरे घर पर कोई नहीं है. चलो वहीं चलते हैं.

मैं समझ गया कि चंचल की Tight Chut में लंड की खुजली जाग गयी है.

उसकी बात मानते हुए मैंने उससे स्कूटर ले लिया और उसे पीछे बैठने को कहा.
फिर स्कूटी लेकर घर आ गए.

जैसे ही मैं घर पहुंचा, सबसे पहले मैंने दरवाज़ा बंद किया और हम एक-दूसरे को चूमने लगे।
हम पागलों की तरह एक-दूसरे को चूमने लगे।

हमारी किसिंग 10 से 15 मिनट तक चलती रही. मैंने उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से दबाना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी चूत पर ले गया।

वो अपनी लेगिंग्स के ऊपर से अपनी चूत को सहलाने लगी.
वो मदहोश होने लगी. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

मैं कभी उसकी गर्दन को चूमता तो कभी उसके होंठों को काटने लगता.
उसे भी इसमें बहुत मजा आ रहा था.

कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप उतार दिया और ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा.
वो जोर जोर से कराहने लगी और कहने लगी- भैया, मेरा दूध पी लो.

उसके मुँह से ये सुनते ही मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी और उसके 32 इंच के मम्मे में से एक को मुँह में ले लिया और चूसने लगा.

वो और जोर से बोलने लगी- आह भैया, प्लीज़ धीरे करो … मैं कहीं भाग नहीं रही हूं.

अब वो सिर्फ लेगिंग्स में खड़ी थी. मैंने उसे भी उतार दिया तो देखा कि उसने अन्दर पैंटी नहीं पहनी थी.

मैं समझ गया कि ये आज या पहले से ही चुदने के मूड में है.
उसकी चूत बहुत खूबसूरत थी और उस पर कुछ रेशमी झांटें थीं।

मैं उसकी चूत को चाटने लगा. (बहन की सीलपैक चूत मारी)
उसे भी इसमें बहुत मजा आने लगा. उसने मेरे बाल पकड़ लिए और मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबाने लगी और ज़ोर-ज़ोर से कराहने लगी।

फिर मैंने धीरे से अपनी एक उंगली उसकी योनि पर फिराई और वो पागल होने लगी।
मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी तो वो मजे से उछलने लगी.

कुछ देर बाद मैं खड़ा हुआ और उसके होंठों को चूमने लगा. मैं भी एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा.

फिर मैंने उससे अपना लंड चूसने को कहा, लेकिन उसने मना कर दिया.
मैंने भी अपने साथ जबरदस्ती करना ठीक नहीं समझा.

मैंने फिर से उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया और अपनी दो उंगलियाँ उसकी चूत में डालने लगा।
तो वो हल्की सी चीखने लगी.

लेकिन मुझे उसका चिल्लाना बहुत अच्छा लग रहा था. हालाँकि उसे भी उंगली से मजा आ रहा था.

अब उसकी चूत थूक से गीली हो चुकी थी. अब वह लिंग को अपनी योनि में डालने के लिए कहने लगी.

वो बोली- भाई, अब मुझसे नहीं रुका जाता … अपना लंड मेरी चूत में डाल दो, मुझे बहुत तकलीफ होती है. साली में बहुत गर्मी है. वो मुझे सोने भी नहीं देती… आज तुम मेरी चूत का भोसड़ा बना दो। चोदो मुझे भाई… अब और मत तड़पाओ… चोद दो अपनी बहन को।

उसकी चुदाई की बात सुनकर मैं खड़ा हो गया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया.
मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

उसकी चूत पानी में भीगी हुई पड़ी थी. मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और उसकी चूत पर सेट किया और जोर लगाया.
लेकिन लंड फिसल गया.

दो-तीन बार कोशिश करने के बाद मेरा आधा लिंग उसकी योनि में चला गया और उसकी सील टूट गयी.

वह जोर से चिल्लाई और रोने लगी.
साथ ही मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसे चूमने लगा.

मैं भी ऐसे ही चुप रहा जब तक वो शांत नहीं हो गयी. जब बहन थोड़ी शांत हुई तो मैंने एक और शॉट मारा और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया.
वह फिर से थोड़ा कांप उठी, लेकिन इस बार उसे थोड़ी जल्दी राहत मिल गई।

यह हम दोनों का पहला सेक्स था इसलिए हम दोनों के पास अनुभव की काफी कमी थी.

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में शॉट पर शॉट देना शुरू कर दिया और वो भी मादक आहें भरते हुए मजा लेने लगी.

हम करीब 5 मिनट तक इसी पोजीशन में सेक्स करते रहे और उसके बाद मैं उठ कर साइड में लेट गया.
मैंने उससे अपने ऊपर आने को कहा.

वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी और अपनी चूत पर रखकर उस पर बैठ गयी.
उसे दर्द हुआ लेकिन वो धीरे-धीरे मेरे लिंग पर ऊपर-नीचे होने लगी।

मुझे बहुत मजा आने लगा. वो भी भाई-बहन के बीच के सेक्सी गेम का मजा ले रही थी.

फिर मैंने उसे पकड़ लिया और नीचे से जोर जोर से धक्के मारने लगा.
वो मजे से चिल्लाने लगी. वो जोर-जोर से बोलने लगी- अहा भैया, चोदो मुझे… आह फाड़ दो मेरी चूत… हां भैया, बहुत मजा आ रहा है… ऐसे ही करते रहो. (बहन की सीलपैक चूत मारी)

करीब 15 मिनट तक चुदाई करने के बाद हम दोनों एक साथ स्खलित हो गये और एक दूसरे से चिपक कर लेट गये.

कुछ दिन बाद लॉकडाउन लग गया और इस दौरान हम दोनों ने कई बार सेक्स का मजा लिया.

मेरी बहन की चुदाई की ये कहानी बिल्कुल सच्ची है. आपको मेरा ये सेक्सी भाई-बहन वाला गेम कैसा लगा? कृपया हमें कमेंट करके बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds