बस में मिली आंटी को चोदा लहंगा उठाकर उन्ही के घर जाकर

बस में मिली आंटी को चोदा लहंगा उठाकर उन्ही के घर जाकर

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “बस में मिली आंटी को चोदा लहंगा उठाकर उन्ही के घर जाकर” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

हेलो दोस्तों मेरा नाम दीपक है और मैं उदयपुर से हूं। मैं 23 साल का हूँ, पिछले हफ्ते मैं अचानक आश्चर्यचकित हो गया

जब मैं बस से उदयपुर से चंडीगढ़ जा रहा था। जब मैं उस बस में चढ़ा तो मैंने देखा कि लोग एक-दूसरे के करीब खड़े हैं।

बस खचाखच भरी हुई थी.. पैर रखने की भी जगह नहीं थी और फिर मुझे उसी तरह खड़ा होना पड़ा।

तभी सामने वाला आदमी नीचे उतरा और तभी मेरे सामने एक आंटी खड़ी थी

और भीड़ की वजह से आंटी मुझसे चिपकी रही और फिर एक वक्त ऐसा आया कि मेरा लंड उनकी गांड को छूता रहा.

इसलिए मैंने भी बहुत कंट्रोल किया लेकिन कर नहीं पाया और तभी मेरा लंड खड़ा हो गया

और आंटी के शरीर में बुरी तरह चिपक जाने की वजह से लंड की हालत बद से बदतर हो गई.

फिर करीब 10 मिनट तक ऐसे ही रहने के बाद देखा कि आंटी अपना हाथ पीछे करके चेक कर रही है.

तभी में पीछे की तरफ धक्का देकर तोड़ा पीछे हो गया। तभी आंटी ने चेक करने के बाद हाथ हटाया

लेकिन तभी बस का स्टॉप आ गया और इसी दौरान कुछ लोग सामने से उसमें सवार हो गए।

तभी आंटी फिर मुझसे चिपक गईं और फिर लंड नहीं माना.. बदमाश फिर खड़ा हो गया।

फिर मैं भी क्या करता. जगह की कमी के कारण मैं वैसे ही खड़ा रहा।

लेकिन फिर मुझे लगा जैसे मेरे लंड पर कुछ चल रहा है और

फिर जब मैंने ध्यान से देखा तो आंटी अपने हाथ से लंड को टटोल रही थी

और फिर उसने लंड को पकड़ कर रगड़ा और टटोलती रही. फिर जब मुझसे रहा नहीं गया

तो मैंने आंटी से धीरे से पूछा, ये क्या कर रही हो? तभी वो कुछ नहीं बोली और बस मुझे देखती रही

और फिर एक हाथ अभी भी लंड पर था.

फिर जब आंटी का स्टॉप आया तो उन्होंने मुझे भी वहीं उतरने का इशारा किया.

लेकिन पहले तो मुझे डर लगा कि कहीं आंटी मार न दें.. लेकिन फिर भी मैं उतर गया।

नीचे उतरकर मैं आंटी से कुछ दूरी पर खड़ा था.. क्योंकि मेरी धड़कन बहुत तेज हो गई थी।

तभी आंटी ने मुझे बुलाया और मुझसे पूछा कि तुम्हारा नाम क्या है?

और तुम कहाँ जा रहे हो? और क्या आप इस समय खाली हैं?

तभी मैंने कहा कि मेरा नाम दीपक है और मैं चंडीगढ़ जा रहा था और इस समय मैं बिल्कुल फ्री हूं

लेकिन तुम ये सब बातें क्यों पूछ रही हो.. आपको क्या मतलब है

तभी आंटी ने कहा मेरे साथ मेरे घर चलो। फिर मैंने पूछा क्यों? तभी आंटी ने कहा कि पहले तुम चलो

मैं बताऊंगी और फिर मैं और आंटी उनके घर की तरफ चल दिए.

फिर जब मैं उनके घर पहुंचा तो देखा कि ताला लगा हुआ है।

तभी मैंने उस आंटी से पूछा कि आप अकेली रहती हैं? तब उसने कहा कि मेरा तबादला हो गया है

और मैं यहां किराए के मकान में अकेली रहती हूं। तभी मैंने कहा कि अगर आंटी को कोई आपत्ति होगी तो आप क्या करेंगी?

तभी वह बोली कि कुछ नहीं होगा, मैं कहूंगी कि यह मेरा बेटा है। फिर हम कमरे के अंदर चले गए।

फिर आंटी ने मुझे पानी और कुछ मिठाई खाने को दी। तभी मैंने आंटी से पूछा कि आप मुझे यहां क्यों लाई हैं?

तभी आंटी ने मुझे स्माइल दी और फिर कहने लगीं कि बस में जो हुआ उसके बाद भी क्या मुझे बताना पड़ेगा?

इसलिए मैंने कहा कि मैं समझ गया आंटी। फिर मैं अपने सामने रखा नाश्ता ख़त्म करने लगा

और फिर वो मेरा इंतज़ार करने लगी और फिर मुझे 5 मिनट हो गए.

तभी आंटी बोलीं जल्दी करो.. क्यों टाइम वेस्ट कर रही हो. फिर मैंने आंटी से पूछा कि आपकी उम्र क्या है?

फिर उसने कहा कि मेरी उम्र 45 साल है और फिर उसने मुझसे मेरी उम्र पूछी.

तुम्हारी उम्र क्या है? फिर मैंने कहा कि मेरी उम्र अभी 23 साल की है

और वो सेक्सी आंटी मुझसे काफी बड़ी थीं तो कहने लगीं कि

में कपड़े चेंज करके अभी आती हूँ. तभी मैंने कहा कि जब कपड़ो का काम नहीं

तो फिर क्यों चेंज करना अगर करना भी है तो में चेंज कर देता हूँ।

फिर उसने मुझे एक सेक्सी स्माइल दी और फिर वो मुझे अपने साथ अपने बेडरूम में ले जाने लगी।

उसके बूब्स 42 इंच और गांड 38 इंच और हाइट 5 फीट 10 इंच थी।

वह दिखने में बेहद सेक्सी और बड़े-बड़े बूब्स की मालकिन थी।

अब मैं आंटी के पीछे जाने लगा और फिर रूम में पहुंचते ही मैंने आशिका आंटी को पीछे से किस किया

और फिर लंड उनकी गांड को सहलाने लगा. तभी आंटी ने मेरे लंड पर एक जोर का चिकोटी काट दी

जिससे मैं पीछे हट गया और फिर आंटी हंसने लगीं. फिर मैंने जाकर आंटी को जबरदस्ती सामने से पकड़ लिया

और फिर उनकी गांड दबाने लगा और उनके हाथों को चूमने लगा.

पहले तो आंटी नखरे दिखा रही थीं लेकिन दो मिनट बाद आंटी भी मेरा साथ देने लगीं.

फिर मैं आंटी के होठों को चूसता रहा. फिर आंटी ने मेरी पैंट की जिप खोली और मेरा लंड निकाल लिया.

फिर लंड को पकड़कर आगे-पीछे करने लगी और फिर लंड के सुपाड़े को मुट्ठी में पकड़कर दबाने लगी.

तभी में भी आंटी की साड़ी के पल्लू को बूब्स पर से हटाकर उनकी चूची को बाहर से चाटने लगा.

फिर मैंने उनकी ब्रा का हुक खोला और निप्पल को दबाने लगा

तभी आंटी मेरे लंड को मसलती रहीं और आहें भरती रहीं. मुझे ऐसा लगा जैसे दोनों बूब्स में 2-2 किलो दूध भर गया हो.

फिर मुझसे रहा नहीं गया और फिर मैंने अपने मुंह में स्तन के निप्पल को चूसना शुरू कर दिया

और फिर दूसरे को दबाने लगा. फिर मुझे बूब्स को चूसने और दबाने में बहुत अच्छा लग रहा था

और फिर आंटी मेरे सिर को पकड़कर अपने बूब्स को मेरे मुंह पर रगड़ने लगीं.

तभी मैंने कहा आंटी चलो बिस्तर पर चलते हैं। फिर आंटी ने मना कर दिया वो बोली कि यहीं पर खड़े खड़े करो जो करना है।

फिर मैंने कहा लेकिन क्यों? फिर आंटी ने कहा कि बस करो कुछ मत पूछो

और फिर मैंने आंटी की चूत को छुआ तो आंटी सिहर उठीं और फिर मुझे अपने नंगे बूब्स से चिपका लिया

और फिर मैंने भी आंटी की साड़ी खोलनी चाही तो आंटी ने फिर मना कर दिया.

तभी मैंने कहा कि क्या आंटी कपड़े तो उतारने दो. फिर बोली कि अरे बेटा साड़ी ऊपर कर लो।

फिर मैंने आंटी की साड़ी को सामने से उठा लिया और फिर नीचे बैठकर आंटी की पेंटी के ऊपर से चूत को छुआ.

तभी आंटी ने मेरे सर को पकड़ कर चूत से लगा लिया. फिर मैंने आंटी की पैंटी उतारी और चूत के दर्शन किये.

बहुत चिकनी चूत थी. तभी मैंने उनकी चूत से अपने होठों को छुआ और फिर उनकी चूत को चाटने लगा

जैसे ही मेरी जीभ ने आंटी की चूत को छुआ तो आंटी ने मुझे अपनी चूत पर ज़ोर से दबा दिया.

फिर बोली कि लाओ में मेरी साड़ी पकड़ती हूँ तुम बस मेरी चूत की खुजली मिटाओ।।

तभी मैंने आंटी को खड़े होकर पैर फैलाने को कहा और उनकी चूत को चाटने लगा.

तभी आंटी ने अपनी साड़ी मेरे ऊपर गिरा दी और मुझे पूरी तरह से अपनी साड़ी में छुपा कर अपनी चूत चाटने लगीं

और आह आह उउम्म्म की आवाज निकालने लगीं. तभी कुछ देर बाद आंटी का पानी निकलने ही वाला था

तो आंटी ने मुझे ज़मीन पर लेटने को कहा और फिर खुद चूत में उंगली करके अपनी चूत का गाढ़ा पानी मेरे लंड पर गिरा दिया.

तभी वो कहने लगी कि आओ मेरी जान चोदो और फिर आंटी लंड के सामने बैठ गईं

और फिर अपना पूरा मुंह खोलकर एक ही बार में पूरा लंड अपने मुंह में भर लिया.

फिर जैसे ही लंड आंटी के मुँह में घुसा मैं पागल हो गया और उनका सर पकड़ कर लंड पर दबाने लगा.

तभी आंटी भी पूरी मस्ती में मेरे लंड को चूसती रहीं और फिर चूसने के बाद उन्होंने पूरे लंड को थूक से गीला कर दिया

और फिर भी मैं उनके मुँह में लंड घुसाने लगा, फिर करीब 10 मिनट धक्का देने के बाद अब मेरे लंड से वीर्य निकलने वाला था

और में झड़ने लगा। तभी मैंने आंटी को बताया, फिर आंटी ने मेरे लंड का वीर्य अपने बूब्स पर गिरा दिया

और 10-15 मिनट इंतज़ार करने के बाद आंटी ने फिर से मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुँह में भर लिया

और चूस-चूस कर खड़ा कर दिया. और खुद साड़ी उठाकर खड़ी हो गई।

तभी वो कहने लगी कि चलो बेटा अब इंतजार नहीं होता जल्दी से चोदो मुझे।

तभी मैंने कहा आंटी चलो बिस्तर पर चलते हैं। फिर आंटी ने कहा

खड़े-खड़े चुदाई मत करना बेटा, आज ऐसी चुदाई से तुम्हें भी खूब मजा आएगा।

फिर मैं खड़ा हुआ और लंड को आंटी की चूत पर रख दिया और थोड़ा सा चूत के ऊपर रगड़ा

और फिर एक हाथ से लंड को पकड़ कर चूत पर रख दिया और फिर जोर से धक्का देकर चूत में डाल दिया.

फिर जैसे जैसे लंड चूत में जा रहा था वैसे वैसे मेरे लंड की चमड़ी पीछे खिंचती जा रही थी

और फिर आंटी भी लंड के चूत के अंदर जाते जाते पैर फैलाने लगी

और फिर अब मेरा लंड पूरी तरह से आंटी की चूत के अंदर था.

फिर आंटी ने मेरी शर्ट के बटन खोल दिए और अपने नंगे बूब्स से मुझे कस कर मेरे सीने से लगा लिया

और मुझे किस करने लगी और फिर मैं भी किस करने लगा. फिर इधर आंटी मेरे लंड को चूत के अंदर रगड़ने लगीं

और फिर लंड को चूत से पकड़ने की कोशिश करने लगीं और अपने दोनों पैरों से लंड को मसलने लगीं.

तभी बोली बेटा जल्दी से चोदो मत मेरी चूत में आग लग गई है। फिर मैंने कहा ठीक है

आंटी और फिर मैंने अपनी पूरी स्पीड से लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया

और फिर आंटी पागलों की तरह बोल रही थी.

तभी मेरा लंड थोड़ी तेजी से आंटी की चूत के अंदर बाहर जा रहा था और मैं उनकी गांड को मसलते हुए चोद रहा था.

आंटी भी अपने गांड को हिला कर मेरे लंड को अंदर ले जा रही थी और चोदने की रफ़्तार बढ़ गयी थी

और मेरा लंड आंटी की चूत की अंदरुनी त्वचा को अंदर बाहर रगड़ रहा था

और फिर जब भी सेक्स के दौरान मेरे लंड को आंटी के गर्भाशय

से कोई स्पर्श होता तो आंटी जोर-जोर से चिल्लाना और आहें भरना

लेकिन सच कहूं तो मुझे अब बहुत अच्छा लग रहा था और कुछ अलग सा महसूस हो रहा था।

फिर आंटी को अपनी साड़ी को ऊपर उठाए हुए सामने से पूरी नंगी

और ब्रा खुली हुई और पैर फैला कर लंड को चूत में जाते हुए

देखकर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. फिर आंटी जोर-जोर से गांड हिलाने लगीं और बोलीं बेटा

अब आखिरी धक्का दे, मैं गिरने वाली हूं। तभी मेरा लंड भी यहीं वीर्य छोड़ने वाला था.

तभी मैंने आंटी से कहा कि मैं अब आंटी के फेरे में पड़ने वाला हूं. फिर आंटी ने कहा कि तू पूरा वीर्य मेरी चूत में गिरा दे

मैं अब प्रेग्नेंट नहीं हो सकती और फिर अब दोनों हाथों से आंटी के दोनों बूब्स को पकड़कर जोर-जोर से चोदने लगा

और फिर लंड पूरी स्पीड से आंटी की चूत में अंदर बाहर होने लगा।

फिर आंटी कहने लगी बेटा आह.. आह.. चोदो चोदो आह और जोर-जोर से आह आह करने लगी।

फिर आंटी अपना पानी छोड़कर ढीली हो गईं और फिर मुझे गले से लगा लिया।

तभी 10-15 जोरदार जोर से मेरे लंड से निकलने वाला गर्म गर्म वीर्य आंटी की चूत में काफी अंदर तक चला गया

और फिर आंटी की चूत से भी पानी निकलने लगा. फिर मैंने आंटी को आई लव यू कहा।

फिर आंटी ने कहा कि तुमने बहुत अच्छी चुदाई की और फिर मैं आंटी को जोर-जोर से किस करने लगा।

फिर वो कहने लगी कि मैं अपने पति से इस चुदाई की उम्मीद कर रही थी

और मैं हमेशा चाहती थी कि मेरा पति मुझे अच्छे से चोदें। यह हमेशा मेरा आशिका था जो आज आपने पूरा किया.

आई लव यू बेबी। फिर जब मैंने आंटी की चूत से लंड निकाला तो मेरा लंड आंटी में लग गया और मेरा वीर्य निकल गया

और फिर आंटी की चूत से वीर्य की थोड़ी सी धार निकली और फिर नीचे जमीन पर गिर पड़ी.

तभी आंटी ने मेरे लंड को अपने दोनों बूब्स के बीच में रखा और मसला साफ किया और अब मैं और आंटी वॉशरूम चले गए

और खुद साफ करके वापस बेडरूम में आ गए और वैसे ही बैठ गए और फिर बातें करने लगे.

उस दिन शाम को 5 बजे तक आंटी के घर रहा और फिर मैंने वहीं खाना खाया और

फिर आखिरी बार आंटी को चोदा और फिर वहां से अपने घर लौट आया

और अब तक आंटी और मैं कई बार सेक्स कर चुके हैं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds