छोटे कजिन भाई की पत्नी की चुत को अपने मोटे लंड से चोदा

छोटे कजिन भाई की पत्नी की चुत को अपने मोटे लंड से चोदा

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “छोटे कजिन भाई की पत्नी की चुत को अपने मोटे लंड से चोदा Bhabhi Sex Story”। यह कहानी राजू की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

अपने मोटे लंड से चोदा सेक्स स्टोरी मेरे चचेरे भाई के नवविवाहित पत्नी के साथ सेक्स किया। उन्होंने पहल की और मुझसे बात करके अपनी भावनाएं व्यक्त कीं.’

मैं राजू, अहमदाबाद से हूं।
मैं 30 साल का हूं और अभी भी सिंगल हूं.
मैं एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में काम करता हूँ।

यह मेरी अपने मोटे लंड से चोदा सेक्स स्टोरी सच्ची है.
कहानी 8 साल पहले की है, जब मैं 22 साल का था.

मेरी अपने चचेरे भाई से बहुत अच्छी बनती थी, मतलब हम साथ ही रहते थे।
वह मुझसे एक साल छोटा था.

उसी समय उसकी शादी तय हो गई और कुछ समय बाद उसका अपनी मंगेतर से छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा होने लगा।
वह हर बार मुझसे कहते थे कि तुम्हें उसे कुछ समझाना चाहिए।

मुझे लगा कि यह उसका गुस्सा मुझे बता रहा है। मैं उसकी पत्नी को क्या समझाता?

उनके कई बार पूछने पर मैंने उनकी पत्नी को समझाने की कोशिश भी की, लेकिन एक दायरे में रहकर, क्योंकि मैं उनका जेठ लगता था.

फिर एक रात मुझे उसकी पत्नी से एक संदेश मिला।
क्षमा करें मैं उनकी पत्नी का नाम बताना भूल गया।
उसका नाम शहनाज था.

शहनाज बहुत हॉट लड़की थी.
तब उसका फिगर 34-26-36 था.

उसका मैसेज आया- हेलो राजू, कैसे हो?
मैंने कहा- मस्त.

रात करीब 12.30 बजे उसका मैसेज आया.

फिर उसने सीधे कहा- एक बात कहूँ?
मैंने कहा- हाँ कहो… इसमें भी कोई पूछने की बात है!

फिर वो बोली- राजू मैं तुम्हें पसंद करती हूँ.
मैं उसके मुँह से ये बात सुनकर हैरान हो गया.

फिर एक पल बाद मैंने उसे लिखा- आप क्या कह रही हैं? तुम्हें पता है कि तुम मेरे चचेरे भाई की पत्नी हो!

वो बोली- मुझे कुछ नहीं पता.. मैं तो बस तुम्हें पसंद करती हूँ।
मैंने धीरे से कहा- मुझे सोचने का समय दो।

वैसे, मैं उस समय बहुत सीधा था और मैंने कभी सेक्स नहीं किया था.
शहनाज की बात मुझे एक लिहाज़ से ग़लत लगी.

दूसरी ओर अगर मैं नैतिकता को किनारे रख दूं तो मुझे एक नई चूत मिल रही थी।

उस पूरी रात मुझे नींद नहीं आई; मैं Shehnaaz के बारे में सोचता रहा।

फिर अगले दिन मैंने शहनाज को हां कह दिया.
अब हम दोनों बातें करने लगे.

ऐसे ही बात करते करते कम से कम 6 महीने बीत गए.
1 दिन उसने मुझसे कहा- राजू, कुछ काम है, क्या तुम घर आ सकते हो?
मैंने कहा- क्या काम है?

वो बोली- बहुत जरूरी काम है.
मैंने कहा- ठीक है.. और घर पर क्या कहूँगा?

तो वो बोली- आज घर पर कोई नहीं है.
मैंने कहा- ठीक है.

उस वक्त सुबह के 10 बजे थे.
मैं उसके घर पहुंच गया.

वाह क्या लग रही थी वो.. उसने वन पीस पहना हुआ था। उसकी लाल ब्रा साफ दिख रही थी.

उसके हाथों पर मेंहदी रची हुई थी।
उसे देख कर पता नहीं क्यों मैं अपने होश खो बैठा और दो मिनट तक उसे ऐसे ही देखता रहा.

उसके बाद जब शहनाज ने चुटकी बजाई तो मैं पूरी तरह से होश में आ गया.

वो बोली- नाश्ता करके आये हो या ऐसे ही?
मैंने कहा- नहीं, बस ऐसे ही.

फिर उसने मेरे लिए बादाम का दूध बनाया और हम दोनों ने साथ में नाश्ता किया.
मैंने कहा- क्या काम था.. बोलो?

वो मेरे पास आई और मुझे प्यार से देखने लगी.
जब वो मेरे बिल्कुल करीब आकर बैठी तो मेरा लंड फूलने लगा.
मेरा लंड बहुत काला है, जल्दी ही खड़ा हो गया.

मैंने उससे पूछा- क्या मैं तुम्हें चूम सकता हूँ?
जवाब देने की बजाय वो मुझे आगे से चूमने लगी.

ये मेरी जिंदगी का पहला चुम्बन था.
सोचो मैं स्वर्ग में था.

फिर मैंने धीरे-धीरे उसके Big Boobs को दबाना शुरू कर दिया।
वाह क्या दूध थे उसके… एकदम मक्खन। उस वक्त मुझे उसके दूध दबाने में बहुत अच्छा लग रहा था.

फिर मैं अपना हाथ उसकी गांड पर ले गया, मैं उसकी गांड दबाने लगा.
मैंने धीरे से उसे लिटाया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया.

वो मेरे होंठों से होंठ लगा कर मुझे चूम रही थी.
हम दोनों एक दूसरे के मुँह में जीभ डालने लगे और एक दूसरे की लार पीने लगे.

यह मेरे जीवन में निश्चित रूप से पहली बार था, लेकिन मुझे सब पता था कि सेक्स में क्या-क्या किया जाता है क्योंकि मैं पोर्न बहुत देखता था और wildfantasystory पर कहानियाँ भी बहुत पढ़ता था।
मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई.

मैंने उसका हाथ उठाया और अपने लंड पर रख दिया, वो एक बार तो डर गयी.
उसने अपना हाथ हटा लिया.

मैंने पूछा- क्या हुआ?
वो बोली- तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा है!

मैंने कहा- उसमें तो मजा आने वाला है.
वो हंस कर बोली- हां और इसीलिए तो मैंने तुम्हें यहां बुलाया है. तुम्हारे भाई के पास लुल्ली है. मुझ पर उसकी लुल्ली का कोई असर नहीं हो रहा था.

मैंने कहा- ठीक है जान.. अब मैं हूँ.. आज मैं तुम्हारी सारी गर्मी निकाल दूँगा।

वो मुझे फिर से चूमने लगी.
मैंने उसका वन पीस उतार दिया.
वाह क्या चूचे थे… वो लाल ब्रा पैंटी में शोला थी। मेरा तो बुरा हाल था.

फिर मैं उसके एक दूध को ब्रा के ऊपर से ही चूस रहा था, तो वो मुझे अपनी बांहों में लेकर किस कर रही थी.
साथ ही वो कह रही थी- आआह राजू… चोदो मुझे आज… आज मैं तुम्हारी पत्नी बनना चाहती हूँ… आआह बेबी… जल्दी चोदो… तुम्हारा लंड देखकर मेरी चूत बहुत गीली हो गई है।

मैंने कहा- थोड़ा प्यार से करूंगा ना.

मैंने उसकी ब्रा पैंटी दोनों उतार दीं.

वाह क्या मस्त चूत है. मैं जिंदगी में पहली बार असल में चूत देख रहा था.. इसलिए मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था।

मैंने सीधा अपना मुँह उसकी Tight Chut में डाल दिया और चूसने लगा.

उसमें उसने कहा- यार मेरा निकल जायेगा … आह्ह कम ऑन राजू और तेज आह्ह.

मैं भी कहां हार मानने वाला था. मैं उसकी चूत को पूरा अंदर तक चाट रहा था और उसके दाने को काट रहा था।

उसने जोर से चिल्लाते हुए मेरा सिर अपनी चूत पर दबा दिया और ढेर सारा पानी छोड़ दिया.
मेरा पूरा मुँह गीला हो गया.

कुछ देर बाद वो मेरी चेस्ट के बालों से खेलने लगी.

मैंने कहा- अरे यार, मेरा लंड निकालो.. ये कब से तड़प रहा है।

उसने झट से मेरी पैंट उतार दी.
उसके बाद टी-शर्ट उतार दी और अपनी फ्रेंची भी उतार दी.

फ्रेंची के हटते ही काला लंड उसके सामने था.
उसने बिना पलक झपकाए लंड को हाथ में ले लिया और मसलने लगी.

मैंने कहा- डार्लिंग, इसे मुँह में ले लो!
वो बोली- नहीं यार, आज नहीं … मेरी तबीयत ठीक नहीं है.

फिर मैंने थोड़ा फ़ोर्स किया तो मान गयी क्योंकि मुझे लग रहा था कि अगर वो मेरा लंड मुँह में लेकर चूसेगी तो मुझे और मज़ा आएगा.

उसने दो मिनट तक मेरा लंड चूसा और मुझे मुँह से निकाल कर अपने ऊपर ले लिया.

मैंने उसे इस तरह सेट किया कि उसके पैर बिस्तर के नीचे लटक गए और मैं बिस्तर के बाहर खड़ा हो गया।
लंड को चूत पर रगड़ने लगा.
वो भी मेरे लंड को वासना से देख रही थी.

मैंने पूछा- तैयार हो डियर?
वो बोली- हां जान … जल्दी से पेल दो मुझे.

मैं झुक कर उसे चूमने लगा और उसकी चूत पर लंड लगाते हुए रगड़ने लगा.

वो भी अपनी Moti Gand उठा उठा कर लंड को मसल रही थी.
मैं भी उसकी चूत पर लंड को थोड़ा-थोड़ा रगड़ रहा था.

इस फोरप्ले में हमारा एक घंटा कैसे बीत गया, हमें पता ही नहीं चला.

फिर मैंने उसे चूमते हुए लंड का सुपारा चूत की फांकों में रखा और एक शॉट लगा दिया.
लंड घुसते ही वो चिल्लाने लगी.
उसकी आंखों में आंसू आने लगे, वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी.

मैंने उसकी चीख पर कोई ध्यान नहीं दिया और एक और बार अपने मोटे लंड से चोदा और शॉट दे मारा.

मुझे कुछ गीला सा महसूस हुआ तो मैंने नीचे देखा.
उसकी चूत से खून आ रहा था.
चूँकि मैं खड़ा था इसलिए साफ़ देख सकता था।

एक पल के लिए मैंने सोचा कि ये तो सील पैक निकली… मतलब मेरे भाई के पास लंड नाम की चीज़ ही नहीं है.
अब मैं अपना लंड उसकी चूत में फंसा कर ऐसे ही लेटा रहा.

वह रो रही थी।
मैंने कहा- डार्लिंग, अब तुम मेरी पत्नी बन गई हो… बधाई हो बेबी, मैं तुमसे प्यार करता हूँ।

उसने भी जवाब दिया- आई लव यू टू बेबी … लेकिन मुझे बहुत दर्द हो रहा है. ये तेरा लंड है या हथौड़ा… आह कितना बड़ा लंड है तेरा!

मैंने कहा- हर कोई ऐसा लंड लेना चाहती है. तुम खुशनसीब हो कि तुम मेरे मोटे लंड से चुद रही हो.

ऐसे ही बातें करते हुए मैं धक्के लगाने लगा.

कुछ मिनट की नॉन स्टॉप Chut Chudai के बाद वो भी मेरा साथ देने लगी.

मैंने कहा- खुल कर बोलो.. मुझे खुलेआम गालियाँ देकर चोदने में मजा आता है।

वैसे मैं आप सभी को बता दूं कि मैं बहुत खुले विचारों वाला हूं। चोदते समय मुझे गालियाँ देना, गांड पर थप्पड़ मारना… ये सब मुझे बहुत पसंद है।

मैं उसे धकापेल चोद रहा था. अब वो भी सहयोग कर रही थी.
वो वासना में बोल रही थी- आआह … चोद दो इस चूत को अपने मोटे लंड से … आआह … आज मैं औरत बन गयी हूं आआह. आज से मैं तुम्हारी कुतिया हूँ… बेबी. जब भी तुम बोलोगे, मैं नंगी हो जाऊंगी… आआह क्या मस्त चोदते हो बेबी… आआह धीरे यार बहुत बड़ा है बच्चेदानी तक जा रहा है… आआह.

मैं भी उससे कह रहा था- ले शहनाज आज से तू मेरी रंडी है … आह्ह तेरी चूत का भोसड़ा बना दूंगा मेरी शहनाज रंडी … आह्ह ले मेरा काला मोटा लंड … ये तेरी बच्चेदानी तक जा रहा है … आह्ह.

बीस मिनट तक ऐसे ही चोद कर मैंने उसे डॉगी बना दिया.
जैसे ही वो कुतिया बनी, मैंने उसकी गांड पर तमाचा मारा और उसकी गांड लाल हो गयी.
वो कह रही थी- आआह बहुत दर्द हो रहा है … प्यार से मारो आआह.

मैं भी कहा कुछ सुनने वाला था.
मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डाला और एक ही झटके में उसकी चूत में पेल दिया.
वैसे उसकी चूत अन्दर से बहुत लाल दिख रही थी, पूरी चूत सूज गयी थी।

फिर भी वो बोल रही थी- आह और चोदो आह!

मैंने उसे पूरे बीस मिनट तक चोदा और हर पोजीशन में चोदा.
भाभी सेक्स के मजे से मुझसे चुदती रहीं.

फिर अंत में वह यही कह रही थी कि यार मैं तीन बार झड़ चुकी हूं, अब बस करो. मेरी चूत में बहुत जलन हो रही है.
मैंने कहा- जान, बस एक मिनट और रुको… आआह, ले लो मेरा लंड, आआह साली, क्या मस्त चूत है, तेरी आह मुझे चोदता रहने को मजबूर कर रही है आआह.

अब मैंने लंड की स्पीड बढ़ा दी और 15-20 धक्को के बाद मेरा पानी उसकी चूत में निकल गया.
मैंने उससे यह भी नहीं पूछा कि रस कहाँ निकालना है।

उसने भी मुझसे कुछ नहीं कहा कि अन्दर क्योंझाड़ दिया।
वो मेरी चुदाई से बहुत खुश थी.

इतनी देर तक चुदाई का चमत्कार देखने के बाद वो बार-बार मेरी ताकत की सराहना कर रही थी.
सेक्स में मेरी सहनशक्ति अभी भी लगभग 30 मिनट है। इससे वह बहुत खुश थी.

आप सभी को अपने मोटे लंड से चोदा सेक्स स्टोरी कैसी लगी, जरूर बताइएगा। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds