अनजान व्यक्ति से गांड मरवाई और गांड मरवाने का मजा लिया

अनजान व्यक्ति से गांड मरवाई और गांड मरवाने का मजा लिया

मेरा नाम रमेश है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “अनजान व्यक्ति से गांड मरवाई और गांड मरवाने का मजा लिया”

ये कुछ महीने पहले की ही बात है. मैं अपने गांव से शहर अपने भाई के पास गया. मेरा भाई जॉब कर रहा था तो उसके ऑफिस जाने के बाद मैं रूम पर लेटा हुआ बोर हो रहा था.

कुछ समय सेक्स कहानियां पढ़ कर निकल जाता था, कभी मुठ मार कर निकल जाता था.

ऐसी ही कहानियाँ पढ़ते पढ़ते मैं गे सेक्स कहानियाँ भी पढ़ता हूँ कि कैसे एक लड़का दूसरे लड़के से अपनी गांड मरवा सकता है, या मरवा सकता है। लेकिन ये सब मुझे झूठ जैसा लग रहा था.

लेकिन पूरी कहानी पढ़ते समय मेरे लिंग में सूजन और दर्द होने लगा; एक अजीब सी वासना जाग उठी थी. मुझे अपनी गांड में कुछ बेचैनी महसूस होने लगी जो पहले कभी नहीं हुई थी।

फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड के छेद पर रखकर सहलाना शुरू कर दिया. मुझे गुदगुदी होने लगी और फिर मजा आने लगा.

एक हाथ से लंड और दूसरे हाथ से गांड को छेड़ने में मुझे बहुत मजा आने लगा! ऐसा करते हुए मैंने अपनी उंगली गांड में डालने की कोशिश की, लेकिन उंगली गांड में नहीं जा सकी.

फिर उंगली पर थोड़ा सा सरसों का तेल लगाकर गांड में डाली तो पूरी उंगली गांड में चली गयी. मुझे अच्छा भी लग रहा था और अजीब भी लग रहा था.

ऐसा करते करते मैं अपनी दूसरी उंगली भी अपनी गांड में डालने लगा तो मुझे थोड़ा दर्द होने लगा, लेकिन मैंने पूरी उंगली अन्दर डाल दी.

उसके बाद 2-3 दिन तक ऐसा ही चलता रहा. अब मुझे भी गांड में लंड लेने का मन होने लगा था, लेकिन सवाल ये था कि लंड किसका लूं? मैं किसी और को जानता भी नहीं था.

यही सोचते सोचते 2 दिन बीत गए. फिर मैंने प्ले स्टोर से एक गे डेटिंग ऐप डाउनलोड किया और अपनी प्रोफ़ाइल बनाई और लंड की तलाश शुरू कर दी।

चैटिंग के दौरान एक लड़के से बात होने लगी। वह एक किलोमीटर की दूरी पर रहता था. उसने भी कभी गे सेक्स नहीं किया था.

हम दोनों ने एक दूसरे को अपने बारे में बताया और शाम को मिलने का प्लान बनाया. मैं शाम को उनसे मिलने खुली जगह पर गया क्योंकि शहर में उनका एक कमरा था।

मैं भी उसे अपने कमरे पर नहीं बुला सकता था, मैं बताना नहीं चाहता था कि मैं कहाँ रहता हूँ।

दोनों ने सब कुछ अंधेरे में करने की योजना बनाई थी. जब हम दोनों मिले तो पता चला कि उसकी उम्र करीब 23 साल थी.

मैं बहुत खुश था कि आज एक जवान लंड मेरी गांड की सील तोड़ेगा. मिलने की जगह तो सही थी लेकिन वहां पर कुछ नहीं कर सकते थे क्योंकि वहां ज्यादा जगह नहीं थी.

मैंने पहले उसे गले लगाया, फिर पूछा कि यहाँ कैसे करना है! यहां बहुत कम जगह है. तो उसने कहा- आज तो लंड को मुँह में लेकर चूसो, बहुत मन कर रहा है.

मैंने मना कर दिया क्योंकि यह मेरा पहली बार था। आज तक किसी का लंड छुआ तक नहीं और मुँह में लेने की बात कर रहा था.

उन्होंने कहा- अगर तुम यहां कर सकते हो तो ऐसे भी कर सकते हो. उसके बहुत समझाने के बाद मैंने उसकी पैंट की चेन खोल दी.

मैंने देखा कि उसका लंड पूरा खड़ा था! उसका लाल सुपारा देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो गया. उसका लिंग भी सामान्य लंबाई का था, करीब 5 इंच का रहा होगा. लंड ज्यादा मोटा भी नहीं था.

मैंने बेमन से उसका लंड अपने मुँह में ले लिया. मुझे अजीब सा लगा और मैं उसे मुँह में लेकर आगे-पीछे करने लगा। थोड़ी देर बाद मुझे अच्छा लगने लगा और मन करने लगा कि बस ऐसे ही लंड चूसूं. अब पता चला कि लड़कियां लंड क्यों चूसती हैं.
मुझे बहुत मजा आने लगा.

आज पता चला कि लंड का स्वाद कुछ नमकीन और नमकीन है. वो मेरा सर पकड़ कर अपना लंड जड़ तक पेल रहा था.

फिर उसने करीब 10 मिनट तक चूसा और उसका पानी निकलने वाला था.

उसने बताया तो मैंने लंड मुँह से बाहर निकाल लिया.
उसने पानी नीचे ज़मीन पर गिरा दिया और बोली- तुमने लंड मुँह से क्यों निकाला? इसका पानी बहुत स्वादिष्ट होता है.
मुझे ये थोड़ा अजीब लगा.

फिर जब मैं वहां जाने के लिए कहने लगा तो उसने कहा कि उसे भी मेरा लंड देखना है.
तो मैंने उसे अपना लंड लोअर में दिखाया और वो देखता ही रह गया.

उसने कहा- तुम्हारा लंड बहुत मोटा और लंबा है.
उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ा और मुँह में ले लिया.

दोस्तो, मुझे लंड पर गर्माहट महसूस हुई और बहुत गुदगुदी होने लगी.

वो लंड को मुँह में लेकर जीभ से चाटता तो मैं लंड पीछे खींच लेती.
वो बहुत अच्छे से लंड चूस रहा था.

करीब 10-12 मिनट में जब मेरा पानी निकलने वाला था तो मैं जोर-जोर से लंड को आगे-पीछे करने लगा और उसके मुँह में ही अपना वीर्य निकाल दिया।
उसने सारा पानी पी लिया.

उसके बाद वो उठे और धन्यवाद देते हुए बोले कि उन्हें मेरे लंड का पानी बहुत पसंद आया.
वो तो वहां से चला गया लेकिन मेरी चाहत अभी भी अधूरी थी.

उसके बाद मैं भी अपने कमरे में आ गया.
मेरी गांड अभी भी लंड के लिए तरस रही थी.

इसी तरह 2 दिन बीत गए.

2 दिन बाद मैं शाम को घूमने निकला.

मैं सड़क पर अपने एक दोस्त से फोन पर बात करते हुए जा रहा था कि अचानक एक लड़का मेरा मोबाइल छीनकर भाग गया.
मैं भी उसके पीछे भागा तो वह एक बन रही नई बिल्डिंग में घुस गया।

मैं पीछे गया तो वहां 2 लड़के और थे और वो मुझे देख कर हंसने लगे.
मैंने फोन के बारे में पूछा तो उसने कहा कि मिल जाएगा लेकिन पहले हमारे पास आओ.

मैं उसके पास गया तो उसने कहा- हमें एक काम करना होगा!
तो मैंने रोते हुए कहा- क्या काम करना है?

फिर जिसने फोन लिया था वो भी वापस आया और मेरी गांड पर हाथ रख दिया.

मेरे हाथ-पैर कांपने लगे और उसने झट से मेरा पायजामा नीचे खींच दिया।

मैंने अपना पायजामा ऊपर खींचने की कोशिश की लेकिन वो लोग बोले- इसे उतार दो, नहीं तो फोन नहीं मिलेगा.
मैंने अपना पायजामा उतार दिया.

फिर उनमें से 2 ने अपनी पैंट उतार दी और अंडरवियर के ऊपर से अपने लंड को सहलाने लगे.

अभी मैं गर्दन झुकाये खड़ा था.
वो मेरे पास आया और अपना लंड अंडरवियर से निकाल कर मेरे हाथ में दे दिया और मुझसे लंड चूसने को कहा.

मैं कुछ नहीं कर सकती थी इसलिए मैं उसके लंड को एक एक करके अपने मुँह में लेने लगी.

फिर तीसरे ने भी अपने कपड़े उतार दिए और मुझे घोड़ी बनने को कहा.
मुझे डर लग रहा था कि पता नहीं ये लोग आगे क्या करने वाले हैं.

फिर मैंने देखा कि तीसरे का लंड बहुत मोटा था.

उसके बाद एक लड़का मेरे पीछे गया और मेरी गांड में उंगली करने लगा.
मैं कूद गया

वो लड़का बोला- यार… इसकी गांड तो बहुत टाइट है, ऐसा लगता है कि सीलबंद गांड है.

फिर बाकी लोग भी हंस पड़े और बोले- कोई बात नहीं, चलो आज इसकी सील खोल देते हैं.
मुझे डर लग रहा था कि पता नहीं आज क्या होने वाला है.

उसके बाद पीछे वाले ने थोड़ा तेल लिया और मेरी गांड पर लगाया और थोड़ा तेल अपने लंड पर लगाया.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

फिर वो अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा.
इसके बाद एक लड़का आगे आया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया.
मैं बड़ी मुश्किल से उसका लंड मुँह में ले पा रही थी.

मुझे लगा कि पीछे से किसी ने मेरी गांड में लंड डाल दिया और अन्दर धकेलने लगा.
उसका सुपारा अभी मेरी गांड में गया भी नहीं था कि मुझे दर्द होने लगा.

इससे पहले कि मैं कुछ और समझ पाता, उसने एक जोरदार धक्का मारा और अपना लंड मेरी गांड में घुसा दिया.

मुझे इतना दर्द हुआ कि बर्दाश्त के बाहर था.
लेकिन मेरी चीख भी मेरे मुँह में ही दब गयी क्योंकि लंड मेरे मुँह में फंसा हुआ था.

मैंने उनसे छूटने की कोशिश की लेकिन उनकी पकड़ के आगे मैं कुछ नहीं कर पाया.

मैंने उसे हाथ से इशारा करके रुकने को कहा तो वो रुक गया.
मुझे कुछ राहत मिली.

लेकिन ऐसा ज्यादा देर तक नहीं चला और उसने फिर से लंड को हिलाना शुरू कर दिया.

इधर तीसरे ने मेरे हाथ में लंड दे दिया था और अब मेरे पास हर जगह लंड था और अब तक मेरा दर्द भी थोड़ा कम हो गया था.
पीछे वाला अब धीरे-धीरे लंड को आगे-पीछे कर रहा था।

कुछ देर बाद मुझे भी अच्छा लगने लगा और मैं भी चुदाई का मजा लेने लगी.

पांच मिनट तक चोदने के बाद उसने स्पीड बढ़ा दी और तेजी से मेरी गांड चोदने लगा.
फिर 10-15 धक्के लगाने के बाद उसने अपना माल मेरी गांड में छोड़ दिया.
मुझे भी कुछ शांति मिली.

उसके जाने के बाद दूसरा मेरे पीछे आया और उसने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया.
चूंकि पहली गांड चुदाई के बाद मेरा छेद थोड़ा खुल गया था इसलिए दूसरा लंड लेने में ज्यादा परेशानी नहीं हुई.
वैसे भी पहले वाले का वीर्य मेरी गांड में था जिससे गांड अंदर से चिकनी हो गयी थी.

अब मेरी गांड चुदाई फिर से शुरू हो गयी.
आगे से मुँह में लंड पेल रहे थे और पीछे से गांड में पेल रहे थे.

15-20 मिनट तक चोदने के बाद दूसरे लड़के ने भी अपना पानी मेरी गांड में निकाल दिया.

मैं अब बहुत थक गया था; मेरे पैर भी जवाब दे चुके थे.

उसके बाद सामने वाले ने मेरे मुँह में लंड की स्पीड बढ़ा दी.
उसने भी अपना वीर्य मेरे मुँह में पिला दिया.

दोस्तो, वो पहली बार था जब मैंने वीर्य का स्वाद चखा था।
मैंने सारा पानी पी लिया.

लेकिन अब मेरा मुँह और गांड दोनों दुखने लगे थे.

फिर उन लोगों ने जल्दी से अपने कपड़े पहने और मुझे मोबाइल देकर चले गये.
मैंने भी अपने कपड़े पहन लिये.

इसी बीच मैंने देखा कि मेरी गांड से कुछ चिपचिपा पदार्थ मिला हुआ खून निकल रहा था.
मैंने उसे अपने अंडरवियर से पोंछा और अपना पाजामा पहन लिया।
मैं कमरे की ओर जाने लगा.

मुझे बहुत दर्द हो रहा था.
चलने में बड़ी दिक्कत हो रही थी.
फिर मैं किसी तरह कमरे में आ गया और आराम करने लगा.

उसके बाद जब मैं उठी तो शीशे में अपनी गांड का छेद देखा.
मेरी गांड का छेद अब खुला सा लग रहा था, सूज भी गया था.

फिर मैंने दर्द की गोलियाँ लीं और फिर आराम मिला.
उसके बाद मुझे सेक्स का मजा आने लगा और मैं चुदाई का आदी हो गया.

लेकिन मैंने काफी दिनों से लंड नहीं लिया है इसलिए उंगली देकर गांड को शांत कर रहा हूं.
चूँकि मेरे गाँव में सभी लोग जानकार हैं इसलिए मैं यहाँ किसी का लंड नहीं ले सकती।

इस तरह मैंने पहली बार अपनी गांड मरवाई.

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds