दोस्त के साथ मिल कर होली पर बहन की बुर की चुदाई की

दोस्त के साथ मिल कर होली पर बहन की बुर की चुदाई की

Wildfantasystory के पाठकों को नमस्कार, आज की कहानी में पढ़ें दोस्त के साथ मिल कर होली पर बहन की बुर की चुदाई की, मेरा नाम मोहित है। मैं दिल्ली में काम करता हूँ। वहाँ मेरी दोस्ती रोहित नाम के एक लड़के से हुई। उसके परिवार में उसके माता-पिता, रोहित, उसका छोटा भाई और उसकी छोटी बहन हैं। रोहित की छोटी बहन का नाम सोनिया है। मेरे परिवार में मेरे माता-पिता, मैं और मेरी दो बहनें हैं।

मैं और मेरा परिवार जौनपुर से हैं। मेरी दो बहनें मोनिका और शालू भी बहुत खूबसूरत हैं। मोनिका ग्रेजुएशन कर रही है और दूसरे साल में है और शालू पहले साल में है। दोनों ही खूबसूरत हैं। मोनिका की उम्र 20 साल है और शालू की उम्र 19 साल है।

मोनिका अपने ड्रेसिंग स्टाइल की वजह से देसी लड़की लगती है क्योंकि वो हमेशा सलवार और सूट पहनती है। लेकिन सलवार सूट में वो बहुत खतरनाक लगती है। उसके कसे हुए स्तन साफ दिखाई देते हैं। लेकिन जब मोनिका कुर्ती और लेगिंग पहनती है तो मत पूछो क्या धमाल मचाती है। क्योंकि मोनिका की जवानी कुर्ती और लेगिंग में निखर कर आती है।

उसकी मखमली जांघें और बड़ी गांड़ उसे पता चल जाती है और उन कपड़ों में मोनिका का जिस्म जिस तरह से दिखता है, अगर कोई सेक्स का दीवाना आदमी हो तो वो मोनिका का साइज़ बता सकता है. मोनिका की कमर पतली है, गोल स्तन, गोरे गाल, कामुक चाल, काली आँखें, हल्के भूरे बाल उसकी जवानी को और निखारते हैं. मोनिका की हाइट 5 फीट 6 इंच है और उसका शरीर सुडौल है.

शालू ज़्यादातर समय जींस टॉप या जींस और कुर्ती पहनती है. लेकिन जींस और कुर्ती में शालू 19 की नहीं बल्कि 22 साल की लड़की लगती है. उसके बड़े नितंब और पपीते जैसे स्तन हैं और टाइट भूरे निप्पल हैं. अगर साइज़ की बात करें तो शालू और मोनिका में ज़्यादा फ़र्क नहीं है, क्योंकि शालू का साइज़ लगभग 30-28-30 है. लेकिन दोनों के शरीर एक जैसे दिखते हैं.

दोनों ही स्मार्ट लड़कियाँ हैं. उनमें से किसी का कोई बॉयफ्रेंड नहीं है. लेकिन ऐसा नहीं है कि किसी ने उन्हें रिझाने की कोशिश नहीं की. मोहल्ले के 6-7 लड़के उन पर नज़र रखते हैं, और दूसरे गाँव के 2-3 लड़के भी उनसे छेड़खानी करते रहते हैं. लेकिन ये चूत का चक्कर है, कभी-कभी तो जान भी चली जाती है. और एक बार ऐसा ही हुआ, जब दूसरे गाँव के लड़के मोहल्ले में किसी लड़की से छेड़खानी करने आए थे.

तो मोहल्ले के लड़कों ने उनकी खूब पिटाई की, और जब हमारे घरवालों को इस बात का पता चला, तो मोनिका और शालू ने घर से निकलना बंद कर दिया. और हो भी क्यों न, आखिर वो घर की शान हैं. अगर कुछ हो जाता, तो कितना बुरा होता. 3-4 महीने बीत गए. सब कुछ सामान्य लगने लगा. तो मोनिका और शालू फिर से कॉलेज जाने लगीं, और मन लगाकर पढ़ाई करने लगीं.

लेकिन जब शादी से पहले सेक्स दोनों की किस्मत में लिखा था, तो नियति को कौन टाल सकता था? फिर कुछ दिनों बाद होली का त्यौहार आया और इस साल दिल्ली से मेरा दोस्त भी मेरे साथ मेरे गाँव घूमने आया. फिर घर पहुँच कर हम दोनों ने खाना खाया और मैंने माँ से पूछा कि मोनिका और शालू कहाँ हैं. तो माँ ने कहा कि दोनों कॉलेज गई हैं. मैंने कहा कि ठीक है. फिर माँ बोली: थक गए होंगे, आराम कर लो।

तो हम दोनों ने आराम किया। और फिर शाम को जब हम बाजार जाने लगे तो रास्ते में मैंने कहा-

मैं: रोहित यहाँ देखो, सब देसी माल हैं।

और फिर रोहित लड़कियों को घूरने लगा। कुछ देर बाद कुछ लड़कियाँ आ रही थीं, तो मैंने कहा-

मैं: उन सबको देखो।

फिर जब हम घर लौटने लगे तो मैंने मज़ाक में कहा-

मैं: क्यों भाई, तुम्हें कोई पसंद आई?

तो उसने कहा: अगर पसंद भी आ जाएँगी तो क्या होगा यार?

तो मैंने कहा: चिंता मत करो. मेरे दोस्त का यहाँ होटल है. तुम बस लड़की को पटाना, बाकी का इंतजाम मैं कर दूँगा. तुम भी देखो जौनपुर की लड़कियों में क्या खासियत होती है. फिर जब हम घर आये तो शाम को मेरी बहन मोनिका घर आई हुई थी, और मोनिका को देखते ही रोहित की आँखें चौड़ी हो गई.

मैंने अपनी आँखों से देखा कि रोहित मोनिका को घूर रहा था. क्योंकि मोनिका बहुत खूबसूरत थी, कोमल, ताज़ी कली की तरह, जिसकी जवानी देखकर लोगों के हाथ अपने आप ही उनके लंड पर चले जाते थे. मैंने अक्सर लोगों से सुना है कि मैंने बहुत सी लड़कियाँ देखी हैं, लेकिन ये दुबली-पतली काया वाली लड़की कुछ अलग ही है.

क्या खूबसूरती है यार, जिस पति की किस्मत में होगी वो किस्मतवाला होगा. और जो लड़का उसका बॉयफ्रेंड होगा वो भी किस्मतवाला होगा. एक बार उसे देखने के बाद लगता है कि किसी लड़के ने लड़की को पटाया होगा.

ठुकाई के बारे में तो नहीं कह सकता, लेकिन हाँ, उसने उसके स्तन जरूर दबाये होंगे. क्योंकि स्तन काफी भारी थे, लगभग 32 साइज़ के. ये सब बातें मैं अक्सर सुनता रहता था, इसलिए जब रोहित ने मोनिका को घूरा तो मुझे कुछ अजीब नहीं लगा. फिर रात को जब हम सोने गए तो मैंने रोहित से पूछा-

मैं: क्यों भाई, हमें आए हुए दो दिन हो गए. तुम्हें कोई लड़की पसंद आई या नहीं?

तब रोहित बोला: भाई, एक बात बताऊं, तुम नाराज़ तो नहीं होगे?

तब मैंने कहा: नहीं.

तब उसने कहा: पहले वादा करो कि नाराज़ नहीं होगे.

तब मैंने कहा: पहले कुछ बताओ.

तब रोहित ने बार-बार कह कर मुझसे वादा लिया और फिर उसने मुझसे कहा-

रोहित: भाई, हम दोनों ने बहुत सी लड़कियों को चोदा है. जयपुर में, लेकिन पहली बार कोई लड़की देखी जिसने मुझे कुछ महसूस कराया.

तब मैंने पूछा: तुमने वो लड़की कहां देखी?

तब उसने कहा: आज शाम को बाज़ार जाते समय मैंने एक लड़की को बस से उतरते देखा.

मैंने पूछा: कैसी लग रही है?

तो रोहित बोला: भाई, वो बहुत हॉट लड़की है, अब उसका इंतज़ाम तुम पर है. मैं हमेशा तुम्हारा गुलाम बनकर रहूँगा।

मैं बार-बार पूछ रहा था लेकिन रोहित मुझे ठीक से नहीं बता रहा था। क्योंकि वो समझ गया था कि वो लड़की मेरी बहन मोनिका है। फिर मैंने उससे कहा-

मैं: भाई, चिंता मत करो, मैं कमरे का इंतजाम कर दूँगा। तुम बस पहले उस लड़की को पटा लो।

फिर हम सो गए और जब सुबह उठे तो रोहित बिस्तर पर नहीं था। जब मैं बरामदे में आया तो रोहित मेरी दोनों बहनों से हंसते हुए बातें कर रहा था। जब मैं सामने आया तो रोहित घबरा गया और मुझसे बोला-

रोहित: क्या तुम जाग गए हो भाई? हम अभी तुम्हारे बारे में बात कर रहे थे।

फिर रोहित ने मुझसे कहा: चलो भाई, मैं तुम्हारे खेत देखता हूँ। तुम कह रहे थे कि इतने खेत और इतने खेत हैं।

मैंने एक बात पूछी जो मेरे दिमाग में चल रही थी। मैंने कहा-

मैं: तुम कल मोनिका को क्यों घूर रहे थे? मैंने तुम्हें देख लिया।

तो रोहित डर गया और बोला: सॉरी भाई, ऐसा फिर कभी नहीं होगा।

फिर मैंने कहा: तुम क्यों डर रहे हो, बताओ।

फिर रोहित बोला: तेरी बहन बहुत अच्छी लगती है यार, इसलिए मेरी नज़र उस पर ही टिकी रही।

फिर रोहित बोला: तू ये सब क्यों पूछ रहा है?

फिर मैंने कहा: भैया, तू जिस लड़की पर नज़र डालता है, उसे चोद लेता है। इसलिए मुझे डर लग रहा है, कि कहीं तू मोनिका के साथ भी ऐसा न कर ले।

फिर रोहित बोला: नहीं भैया, वो तेरी बहन है। मैं ऐसा नहीं सोचूँगा।

लेकिन मोनिका रोहित के दिलो-दिमाग में बस चुकी थी।

अब मेरा डर खत्म हो चुका था, इसलिए मैंने कहा-

मैं: आ जा, मैं तुझे सैर पर ले चलता हूँ।

फिर मोनिका आई और बोली: भैया कहाँ जा रहे हो?

फिर मैंने कहा: रोहित को खेत पर ले जाने के लिए।

फिर मोनिका बोली: भैया मैं भी चलूँगी।

इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता, रोहित बोला: आ जा, तू भी सैर पर चल।

बाकी कहानी अगले भाग में।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds